ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अर्थजगत

‘भाजपा नेताओं को किसानों से कोई हमदर्दी नहीं’

बेंगलूरु। पीएम मोदी के विकास के मंत्र और ‘सबका साथ, सबका विकास’ के नारे के साथ भाजपा ने कर्नाटक में 224 विधानसभा सीट के लिए होने वाले चुनाव के संबंध में ‘मिशन 150’ हासिल करने के लिए कमर कस ली है। राज्य में कांग्रेस सरकार की ओर से किसान फसल कर्ज माफी योजना की घोषणा के बाद भाजपा येदियुरप्पा के नेतृत्व में अपनी स्थिति मजबूत करने के प्रयासों में जुटी हुई है। वहीं कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार व भाजपा नेताओं को प्रदेश के सूखा पीडि़त व संकटग्रस्त किसानों के प्रति जरा भी हमदर्दी नहीं है।

उन्होंने रविवार को संवाददाताओं से कहा, भाजपा नेता कहते थे कि कर्नाटक सरकार ने अपने अधीन आने वाली सहकारी संस्थाओं से किसानों द्वारा लिया कर्ज माफ करे तो हम राष्ट्रीयकृत बैंकों का ऋण माफ कराने के लिए केन्द्र सरकार पर दबाव बनाएंगे।

पढ़ें- योगी सरकार के धोखे से हताश किसान ने की आत्महत्या

अब जबकि राज्य सरकार द्वारा किसानों का 50 हजार रुपए तक ऋण माफ कर दिया गया है, अब भाजपा नेता कह रहे हैं कि राज्य सरकार ही राष्ट्रीयकृत बैंकों का ऋण माफ करे। सिद्धारमैया ने कहा कि यदि सारा ऋण राज्य सरकार ही माफ कर देगी तो केन्द्र सरकार व भाजपा के नेताओं की क्या जिम्मेदारी होगी?

उन्होंने कहा कि एक तरफ केन्द्रीय मंत्री वैंकेया नायडू कह रहे हैं कि किसानों का ऋण माफ करना आज फैशन सा बन गया है और दूसरी तरफ केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने राष्ट्रीयकृत बैंकों का कर्ज माफ करने से मना कर दिया है।

पढ़ें- मॉब लिंचिंग के खिलाफ इमरान प्रतापगढ़ी की अपील का असर, मुस्लिम ही नहीं हिंदुओं ने भी जताया विरोध

गौरतलब है कि देशभर के किसान पिछले कई दिनों से देश के कई इलाकों में अपने हक के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के मंदसौर में किसानों के प्रदर्शन के दौरान भाजपा सरकार की पुलिसिया गोलीबारी में छ: किसानों की हत्या कर दी गई थी। इससे बाद आए दिन कहीं न कहीं कोई किसान आत्महत्या कर रहा है। जिसकी बीजेपी सरकार को कोई चिंता नहीं है।

 

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved