ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अर्थजगत

‘पीएम मोदी ने नोटबंदी लाकर भारतीय अर्थव्यवस्था को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया’

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने 8 नवंबर 2016 को अचानक देशभर में 500-1000 के नोटबंद करने का ऐलान कर दिया था जिसके बाद देश में भुखमरी की स्थिति आ गई थी। नोटबंदी से देशभर में सैकड़ों लोगों की जान चली गई थी। यही नहीं नोटबंदी के दुष्प्रभाव से देश का आर्थिक विकास दर भी नीचे चला गया है। अब अमेरिका की एक टॉप मैगजीन ने प्रधानमंत्री मोदी के नोटबंदी के फैसले पर सवाल उठाए हैं।

मैगजीन ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नोटबंदी के विघटनकारी प्रयोग की वजह से भारत की अर्थव्यवस्था में ठहराव आ गया है। रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि भारत की कैश आधारित अर्थव्यस्था के चलते मोदी के फैसले से भारतीय अर्थव्यवस्था के इतिहास में सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है।

पढ़ें- यूजीसी के इस फैसले से बदल जाएगा भारत में उच्च शिक्षा का परिदृश्य

अमेरिका की टॉप मैगजीन ‘फॉरेन अफेयर्स’ ने अपने ताजा संस्करण में राइटर जेम्स क्रेबट्री के हवाले से लिखा, ‘नोटबंदी ने साबित कर दिया कि ये सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला एक्सपेरिमेंट था। मोदी प्रशासन को अब अपनी गलतियों से सीख लेनी चाहिए।’ सिंगापुर के ली कुआन यू स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी एनयूएस में सीनियर रिसर्च फेलो क्रेबट्री भारत में नोटबंदी की काफी आलोचना करते रहे हैं।

क्रेबट्री लिखते हैं, ‘पीएम मोदी की आर्थिक उपलब्धियां तो सही है मगर उनके ग्रोथ लाने वाले बदलाव ने लोगों को एक तरह से निराश किया है। नोटबंदी के लिए सरकार ने जितने पर बड़े स्तर पर काम किया उसने अर्थव्यवस्था पर उतना असर नहीं डाला। 2019 के चुनावों को देखते हुए मोदी सरकार को अपने पिछले कदम से सीखने की जरूरत है।’ क्रेबट्री आगे लिखते हैं, ‘सच्चाई तो ये है कि छोटे अंतराल में ग्रोथ के लिहाज से मोदी की नोटबंदी बेकार रही। पिछले हफ्ते भारत ने 2017 के पहली तिमाही की जीडीपी के आंकड़े जारी किए। ये वही वक्त है जब नोटबंदी का इस दौरान सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा।’

पढ़ें- सिर्फ वोट लेने के लिए जब्त किया गया था कालाधन? अब पूरा पैसा लौटा रही सरकार

रिपोर्ट में आगे कहा गया कि करोड़ों लोगों को 500-1000 के नोट बदलने के लिए कैश मशीन और बैंक की लंबी कतारों में लगना पड़ा। इस दौरान गरीब तबकों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा। भारत की नगदी आधारित अर्थव्यवस्था में कमर्शियल एक्टिविटी ठप हो गई।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved