ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अर्थजगत

‘पहले से ही मंदी की मार झेल रहे व्यापारी GST के बाद हो जाएंगे बर्बाद’

चंडीगढ़। जहां एक तरफ मोदी सरकार जीएसटी को देश के लिए अच्छा बता रही है और वित्त मंत्री अरुण जेटली समय-समय पर जीएसटी के फायदे गिनाते रहते हैं। वहीं देश का व्यापारी जीएसटी को लेकर डरा हुआ है। देश के कई इलाकों में जीएसटी के खिलाफ विरोध शुरू हो गया है। पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ में भी जीएसटी के खिलाफ व्यापारी प्रदर्शन कर रहे हैं। शहर में फर्नीचर व्यवसाय चलाने वाले व्यापारियों ने सोमवार को जीएसटी के विरोध में हड़ताल की।

औद्योगिक क्षेत्र में सभी दुकानदार चंडीगढ़ फर्नीचर मार्केट एसोसिएशन के बैनर तले एकत्रित हुए और धरने पर बैठ गए। एसोसिएशन के महासचिव सुनील बंसल ने कहा कि केंद्र सरकार ने फर्नीचर पर 28 प्रतिशत जीएसटी लगाकर इसे लग्जरी आइटम बना दिया है, जोकि पूरी तरह से गलत है। उन्होंने कहा कि छोटे व्यापारी पहले ही मंदी की मार झेल रहे हैं। ऐसे में जीएसटी लगने से फर्नीचर आइटम महंगी हो जाएगी और उनके पास कोई खरीददारी करने के लिए नहीं आएगा।

पढ़ें- नोटबंदी का निराला खेल: नेताओं को कालाधन सफेद करने का मौका दे रही मोदी सरकार?

उन्होंने कहा कि सभी दुकानदार इससे परेशान हैं। फर्नीचर का सारा काम लेबर पर निर्भर करता है और उनके पास काम करने वाले 85 प्रतिशत कर्मचारी निम्न आय वर्ग के हैं। इसके बाद उन सभी की भी नौकरी खतरे में पड़ जाएगी, क्योंकि व्यापारियों का अपना काम चलाना मुश्किल हो जाएगा व इन कर्मचारियों को भुगतान कहां से होगा। छोटे व्यापारियों का व्यापार लगभग पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

दुकानदार शीशपाल गर्ग ने बताया कि फर्नीचर आदमी के लिए जरूरी है। इसलिए इस पर इतना टैक्स लगाना गलत है। उनकी मांग है कि जीएसटी 28 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत की जानी चाहिए। दुकानदार रामपाल बंसल ने बताया कि पहले ही सरकार ने इंपोर्ट ड्यूटी 10 प्रतिशत कम कर दी है, जिसके चलते इंपोर्टेड फर्नीचर ने पहले ही देश की 60 प्रतिशत मार्केट पर कब्जा कर लिया है। यही सही कसर जीएसटी पूरी कर देगा।

पढ़ें-योग करती छात्रा पर पड़ी डायरेक्टर की गंदी नजर, कमरे में बुलाकर की ये शर्मनाक हरकत

पहले कम लगता था टैक्स
योगराज बंसल ने बताया कि पहले फर्नीचर पर एक्साइज ड्यूटी व अन्य टैक्स नहीं लगते थे। सरकार को उतना ही टैक्स लगाना चाहिए था, जिससे कि व्यापारियों पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ता।

आज भी जारी रहेगा धरना
मंगलवार को भी फर्नीचर एसोसिएशन धरना जारी रखेगी, लेकिन मार्केट बंद नहीं रखी जाएगी। यह धरना बुधवार को भी जारी रहेगा। इस दौरान एसोसिएशन स्थानीय नेताओं व प्रशासन के अधिकारियों से भी मुलाकात करेगी। हड़ताल इंडस्ट्रीयल एरिया फेज-2 में की गई जो अगले 2 दिन जारी रह सकती है। एसोसिएशन के मुताबिक चंडीगढ़ व्यापार मंडल, लघु उद्योग भारती, और चंडीगढ़ इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन ने भी अपने समर्थन का वायदा किया है। फर्नीचर एसोसिएशन के महासचिव सुनील बंसल के मुताबिक सोमवार को कई ऐसे बाहरी व्यापारी थे जो दुकान के बाहर माल लेने आए थे।

पढ़ें- योगी सरकार के धोखे से हताश किसान ने की आत्महत्या

उनके मुताबिक यहां उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, हिमाचल, मध्यप्रदेश, राजस्थान और मुम्बई तक से माल का व्यवसाय होता है। उन्होंने बिजली और लेबर का नुकसान के अलावा सरकारी स्तर पर एक दिन में 60 से 70 लाख रुपए और उनका पांच करोड़ तक नुकसान होने का दावा किया।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved