ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

BJP में शामिल दलित, ओबीसी नेताओं को RSS हमेशा बंधुआ मजदूर ही बनाए रखेगा- मायावती

bsp rally meerut

वडोदरा। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए चुनावी बिगुल फूंकते हुए आरोप लगाया कि भाजपा आज भी जातिगत भेदभाव में यकीन रखती है। मायावती ने चेतावनी दी कि यदि हिंदू धार्मिक नेता दलितों के प्रति अपना रवैया नहीं बदलेंगे, तो वह और उनके समर्थक बौद्ध धर्म अपना लेंगे।

बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि आरएसएस दलितों और ओबीसी के प्रति इतनी घृणित है कि यदि भाजपा एक दलित या ओबीसी नेता को पार्टी प्रमुख या मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बना देती है तो भी वे हमेशा ही जातिवादी और सांप्रदायिक आरएसएस के बंधुआ मजदूर बने रहेंगे। साथ ही पिछड़े वर्गों के लिए ज्यादा कुछ कर पाने में सक्षम नहीं होंगे। मायावती ने समाज के कमजोर तबकों के वोटों के लिए बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर के नाम का इस्तेमाल करने का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगाया।

मायावती ने कहा कि भाजपा के ओबीसी एवं दलित नेता के पीएम या सीएम बन जाने के बाद भी वे हमेशा ही आरएसएस के बंधुआ मजदूर बने रहेंगे। उन्होंने कहा, यदि हिंदू संतों और शंकराचार्यों ने दलितों के प्रति अपना व्यवहार और रवैया नहीं बदला, तो मैं और मेरे समर्थक बौद्ध धर्म अपना लेंगे। मायावती की ओर से भाजपा पर यह हमला ऐसे दिन किया गया है जब गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने शहर में अंबेडकर संकल्प भूमि स्मारक परियोजना की आधारशिला रखी।

बीएसपी सुप्रीमो ने महासंकल्प दिवस के शताब्दी वर्ष के मौके पर आयोजित एक रैली में कहा, मोदी स्वयं को ओबीसी कहते हैं, लेकिन उन्होंने इस वर्ग के लोगों के लिए कुछ भी नहीं किया। वह अंबेडकर के नाम का इस्तेमाल दलितों का वोट जुटाने के लिए कर रहे हैं।

 

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved