ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

गुजरात के BJP विधायक ने की बगावत, कहा- नहीं दूंगा रामनाथ कोविंद को वोट

नई दिल्ली। रामनाथ कोविंद सत्तापक्ष की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाए गए हैं। विपक्ष की तरफ से मीरा कुमार को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया गया है। आज सुबह 10 बजे से ही संसद भवन सहित सभी राज्यों में राष्ट्रपति पद का चुनाव हो रहा है। यह मतदान शाम पांच बजे तक चलेगा। राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे 20 जुलाई को आएंगे।


मुख्य बातें-

  1. राष्ट्रपति चुनाव से पहले भाजपा में बड़ी फूट
  2. गुजरात के भाजपा विधायक नलिन कोटडिया ने की बगावत
  3. बीजेपी विधायक ने कहा- नहीं दूंगा कोविंद को वोट
  4. इस साल के आखिर में होना है गुजरात विधानसभा का चुनाव

जहां एक तरफ बीजेपी इस चुनाव को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं है और उसने दावा किया है कि उसके राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को 40 राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त है। वहीं भीतरखाने से खबर आ रही है कि खुद बीजेपी के कई नेता रामनाथ कोविंद का समर्थन नहीं कर रहे हैं। या ये कह लीजिए कि वह बीजेपी का समर्थन नहीं कर रहे हैं। गुजरात के एक बीजेपी विधायक ने खुलेआम मोदी सरकार के फैसले का विरोध करते हुए कहा कि वह बीजेपी के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन नहीं करेंगे।


पढ़ें- बाबा साहब और मान्यवर कांशीराम की देन है दोनों तरफ से दलित उम्मीदवार होना: मायावती

गुजरात के बीजेपी विधायक नलिन कोटडिया ने एबीपी न्यूज से बातचीत में कहा कि वह भारतीय जनता पार्टी को वोट नहीं करेंगे क्योंकि बीजेपी की सरकार ने पाटीदार समाज के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि गुजरात की बीजेपी सरकार ने उनके समाज के 14 लोगों की हत्या की है और हमारी मांगों को पूरा नहीं किया है। उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी के खिलाफ वोट करूंगा।


http://www.youtube.com/watch?v=YSrrajn42iU

उन्होंने यह भी कहा कि मुझे भाजपा की तरफ से कार्रवाई का कोई डर नहीं है। भारतीय जनता पार्टी जो करना चाहे करे। उन्होंने यह भी कहा कि अगर भाजपा को मेरे खिलाफ कार्रवाई करनी होती तो वह दो साल पहले ही कर लेते। पार्टी अगर मुझे बर्खास्त करना चाहे तो मुझे कोई परवाह नहीं।

पढ़ें- राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान जारी, 1,581 दागी सांसद और विधायक भी करेंगे वोट

गुजरात के विधायक का यह बयान भाजपा के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकता है। आपको बता दें कि गुजरात में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में बीजेपी विधायक की तरफ से ऐसा बयान पार्टी में फूट डाल सकता है।

http://www.youtube.com/watch?v=W89kIHxe4Qw

सबसे खास बात यह है कि राष्ट्रपति चुनाव में कोई भी राजनीतिक दल अपने विधायकों और सांसद को अपने प्रत्याशी को वोट देने के लिए व्हिप नहीं जारी कर सकता। यानी विधायक और सांसद अपनी मर्जी से वोट दे सकते हैं और पार्टी के उम्मीदवार के खिलाफ वोट करने पर उनकी कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जा सकती।

आपको बता दें कि नलिन कोटाडिया का ये बगावती तेवर नया नहीं है। पिछले साल सितंबर में जब गुजरात में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली में कुर्सियां और टोपियां उछाली तथा तोड़फोड़ की गई थी, तो पुलिस ने जिन 200 लोगों को हिरासत में लिया था उनमें नलिन कोटाडिया भी शामिल थे।


संपादन- भवेंद्र प्रकाश

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved