ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

इस किताब के हवाले से दिलीप मंडल ने कर दी ”भावनाएं आहत” करने वाली बात

ब्रह्मा मुंह से प्रेगनेंट था और वहीं से उसकी माहवारी आती थी, वहां से उसे बच्चा भी पैदा होता है।

देखो मुकदमा मत करना, वरना सबूत के तौर पर राष्ट्रपिता ज्योतिबा फुले की सरकार द्वारा प्रकाशित किताब गुलामगीरी पेश करूंगा। ब्रह्मा का यह वर्णन उसी किताब में है। मुकदमा करोगे, तो धार्मिक किताबों की इतनी गंदगी सामने रख दूंगा कि बदबू संभाल नहीं पाओगे।

मैं अपने पक्ष में महान संत रैदास, कबीर से लेकर शाहू, फुले, सावित्री, आंबेडकर और पेरियार तक को खड़ा कर दूंगा। तुम्हारे पास तो इस हैसियत वाला एक भी गवाह नहीं है। निठल्ले पंडों के बूते तुम कहां तक उड़ोगे?

https://www.youtube.com/watch?v=OQv17bySUGE&t=99s

बेटी सरस्वती के साथ ब्रह्मा ने जो किया, उसकी वजह से महात्मा फुले ने ब्रह्मा को एक मोटी सी गाली दी है। मैं लिख नहीं रहा हूं। खुद पढ़ लेना।

दूसरी बाात, पीएम मोदी ने फुले को महात्मा बताते हुए उनकी जयंती पर देश को बधाई देते हुए ट्विट किया था। हर साल करते हैं। इसलिए फुले के बारे में ऐसा वैसा कुछ मत कहना। अपने प्रिय नेता मोदी जी की भावनाओं की कद्र करना।

महात्मा फुले के नाम पर भारत सरकार ने डाक टिकट जारी किया है। बहुत बड़े आदमी थे। पूरा राष्ट्र उनका सम्मान करता है।भारत के सबसे बड़े समाज सुधारक। बाबा साहेब के वैचारिक गुरु। लड़कियों का देश में पहला स्कूल खोलने में उन्होंने अपनी पत्नी सावित्रीबाई फुले और उनकी दोस्त फातिमा शेख की मदद की थी।

https://www.youtube.com/watch?v=M4mdjoIAWj8&t=14s

दरअसल मैं आपकी बहुत ही कोमल और बकवास भावनाओं को आहत करने के लिए ही ब्रह्मा के बारे में यह लिख रहा हूं।

अभी अपनी आहत भावनाओ को तकिए के नीचे रखकर सो जाओ।

भारत में ही नहीं विश्व भर में धर्मग्रंथों की आलोचना और पुनर्पाठ की परंपरा रही है। यह परंपरा आपकी भावनाओं के आहत होने के डर से बंद नहीं की जा सकती।

गुलामगिरी किताब पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
https://drambedkarbooks.files.wordpress.com/2015/04/gulamgiri-in-hindi.pdf

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved