ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

71वें स्वतंत्रता दिवस की तमाम मेहनतकश देशवासियों और वीर सैनिकों को शुभकामनायें- मायावती

mayawati greets independence day

लखनऊ। बी.एस.पी. की राष्ट्रीय अध्यक्ष, पूर्व सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश सुश्री मायावती ने देश के 71वें स्वतंत्रता दिवस पर देश व प्रदेशवासियों ख़ासकर तमाम मेहनतकश लोगों एवं वीर सैनिकों को हार्दिक बधाई व शुभकामना दी है। शुभकामनाओं के साथ मायावती ने आशा व्यक्त की है कि आने वाले समय में देश की जनता के जीवन में उसकी अपनी मेहनत व कर्मों से सुख, शान्ति, समृद्धि एवं स्वतंत्रता और ज़्यादा सार्थक व बेहतर होकर आयेगी ताकि संविधान की असली मंशा जमीनी स्तर पर पूरी हो सके।

सुश्री मायावती ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर आज यहाँ जारी एक बयान में कहा कि देश की आज़ादी ऐतिहासिक व बहुत ही महत्त्वपूर्ण घटनाक्रम था। परन्तु देश की आजादी को सही मायने में सार्थक व जनोपयोगी बनाने के लिये एक मानवतावादी संविधान की जरूरत थी, जिसकी प्रतिपूर्ति परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर ने लगभग दो वर्ष बाद दिनांक 26 जनवरी सन् 1950 को भारत को एक गणतन्त्र देश बनाकर की। तभी से शासक पार्टी के नेताओं की सही मानसिकता की परीक्षा भी होनी शुरु हुई है। इसमें कितनी सफलता मिली है, यह अवसर यह आँकने का समय है।

वास्तव में संविधान को उसकी सही मानवतावादी मंशा के मुताबिक ईमानदारीपूर्वक अमल करने की परीक्षा आज भी लगातार जारी है। इसपर खरा उतरने के लिए ख़ासकर सत्ताधारी पार्टी के नेताओं को संकीर्ण सोच व भेदभाव से जरूर ही मुक्त होकर काम करना होगा, वरना संविधान को फेल करने का आरोप उन्हें झेलते रहना पड़ेगा।

https://www.youtube.com/watch?v=7EdKIzquaH0

देश की स्वतंत्रता के पावन अवसर पर हमें अपनी अन्तरात्मा व ज़मीर में झाँक कर ज़रूर देखना चाहिये कि हम अपने चाल, चरित्र व कर्म से देश की करोड़ों गरीब, मजदूर व अन्य मेहनतकश जनता का कितना भला व देश का कितना हित कर रहे हैं।

हमारी पार्टी आशा करती है कि खासकर सत्ताधारी पार्टी के लोग देश को संविधान के बताये हुए सही जाति-मुक्त मानवतावादी रास्ते पर चलते हुए सबको स्वाभिमानपूर्वक जीने का उसका संवैधानिक अधिकार देकर शान्ति व सद्भाव के साथ रहकर तरक़्क़ी की नई मंज़िल हासिल करने की कोशिश करेंगे।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved