ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

योगीराज: दो मुस्लिम बहनों को जिंदा जलाने की कोशिश, पेट्रोल डाल फेंकी जलती मशाल

बरेली। यूपी के बरेली में दो बहनों को जिंदा जलाने की कोशिश की गई। दोनों बहनों की उम्र 17 साल और 19 साल है। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां दोंनों जिंदगी और मौत से जूझ रही हैं। दिल दहला देने वाली ये वारदात गुरुवार रात की है। परिवार के मुताबिक, रात करीब दो बजे कुछ अज्ञात लोग घर में घुसे और दोनों बहनों पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। इसके बाद दरिंदे मौके से फरार हो गए। जब दोनों बहनों ने शोर मचाया, तो परिवार के लोग इकट्ठा हुए और आनन-फानन में आग बुझाई।


खास बातें-

  1. बरेली में दो मुस्लिम लड़कियों को जिंदा जलाने की कोशिश
  2. कमरे में सो रही बहनों पर पेट्रोल डाल फेंकी जलती मशाल
  3. स्कूल आते जाते लड़कियों को परेशान करता था दरिंदा
  4. दो दिन पहले ही स्कूली छात्रा को प्रिंस तिवारी ने चाकूओं से गोद डाला था

घटना देवरिया जहांगीर गांव में तड़के तीन बजे के आसपास घटी। नसरुद्दीन अपने बेटे साहिल के साथ अलग कमरे में सो रहे थे। जबकि उनकी पत्नी नत्थू बेगम छोटी बेटी मुस्कान और बेटे फैज के साथ सो रही थीं। सामने दूसरे कमरे के दरवाजे के पास पलंग पर 19 साल की गुलशन और 17 साल की फिजा सो रही थीं। दोनों कमरों के दरवाजे खुले हुए थे। घर की तीन फीट ऊंची चहारदीवारी फांद कर अज्ञात हमलावर आए।


पढ़ें- 30 बच्चों की मौत की खबर को यूपी सरकार ने बताया था भ्रामक, लोगों को PM मोदी के ट्वीट का इंतजार

हमलावर कोल्ड ड्रिंक की बोतल में पेट्रोल लेकर घर में घुसे थे। उन्होंने गुलशन और फिजा पर पेट्रोल डाला और जलती मशाल फेंक कर फरार हो गए। चीख पुकार सुनकर नसरुद्दीन और उनकी पत्नी बेगम ने आग बुझाने की कोशिश की। इस बीच गांव वाले भी आ गए। किसी तरह आग पर काबू पाया गया।


http://www.youtube.com/watch?v=ZCXD_Hj-DgA

घटना के बाद पीड़ित लड़की ने बयान दिया कि एक लड़का उसे बीते एक साल से परेशान कर रहा था। पड़ोसी गांव नगरिया का रहने वाला यहा लड़का स्कूल से आते जाते उसको छेड़ता था।

पढ़ें- खुद को ‘कट्टर हिंदूवादी’ और ‘भाजपा नेता’ बताता है रागिनी को मारने वाला ‘पण्डित’ प्रिंस तिवारी

बरेली की ये वारदात तब हुई जब तीन दिन पहले यूपी के ही बलिया में रागिनी की बीच सड़क पर चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। उस वारदात को भी एक मनचले ने अंजाम दिया था। वह भी स्कूल जाते वक्त रागिनी को परेशान करता था। और तो और वो एक कट्टरवादी हिंदू और भाजपा नेता भी था। वह योगी आदित्यनाथ का कट्टर समर्थक भी था।

पढ़ें- प्रिंस तिवारी के डर से तीन महीने से स्कूल नहीं जा रही थी रागिनी.. पढ़ें एकतरफा प्यार की खूनी दास्तान


सवाल यह है कि जिस सरकार ने 5 महीने पहले आते ही एंटी रोमियो स्क्वाड बनाया था, वह एंटी रोमियो स्क्वाड कहां गया? और अगर है भी तो बेटियों की सुरक्षा कैसे करेगा? जब सरकार ही वहशियों को बढ़ावा दे रही है। योगीराज में बेटियां कैसे महफूज होंगी इसका इल्म किसी को नहीं।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved