fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

गुजरात में मोदी और शाह के दिवाली मुबारक पोस्टर पर पोती गई कालिख, मचा हड़कंप

modi-sad-with-amit-shah-getty-min

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दिवाली की बधाई देने के लिए जगह जगह पर अपने पोस्टर लगवाए। वही दिवाली की मुबारकबाद देने वाले पोस्टर पर कोई कालिख पोत गया। इस मामले से हड़कंप सा मच गया जिसके बाद पुलिस ने एक शख्स को गिरफ्तार किया है।

Advertisement

भाजपा मंत्रीओ के दिवाली मुबाकबाद देने वाले पोस्टर पर कालिख पड़ते ही पुलिस एक्शन में आ गई। आरोपी शख्स की पहचान पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (PAAS) के सदस्य के रूप में की गई है। नेताओं के चेहरे पर कालिख पोतने के मामले में पूना और सरथना पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया था। यह पोस्टर भाजपा विधायक वीडी जलवाडिया ने लगवाया था। खबर यह है की पांच सदस्य कथित तौर पर इन नेताओ नेताओं के पोस्टर पर स्प्रे से कालिख पोतने के घटनाक्रम में शामिल थे जिनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

पुलिस ने आईपीसी की धारा 153, 427 और 114 के तहत केस दर्ज किया। इस मामले की सुचना पुलिस को बुधवार (7 नवंबर, 2018) को मिली। सूत्रों के मुताबिक मिली जानकारी के अनुसार यह बताया जा रहा है की पूना और सरथना पुलिस मंगलवार रात पेट्रोलिंग कर रही थी। जहां मोदी, शाह और रूपाणी के धब्बे लगे पोस्टर्स देखे गए जिनपर काले पेंट ने स्प्रे किया गया था।

इनमें विधायक जलवाडिया भी थे, जो स्थानीय लोगों को दिवाली के मुबारकबाद दे रहे थे। इसके अलावा गुजरात भाजपा अध्यक्ष की तस्वीर लगी थी। जानकारी के मुताबकि पोस्टर में जो पाटीदार नहीं थे, जैसे पीएम मोदी, अमित शाह, सीएम रूपाणी जैसे नेताओं की तस्वीर पर कालिख पोत दी गई।

ऐसे और घटनाओ को रोकने के लिए पुलिस ने अपने निगरानी मई सभी पोस्टर्स को हटवा दिया और अज्ञात लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली गई। पुलिस ने इस घटना को रोकने पर आगे कुछ यह घटना बड़ा रूप न ले सके इसके लिया तुरंत एक्शन लिया गया और पुलिस ने इस मामले में 21 साल के निकुंज काकड़िया को गिरफ्तार किया। वह पाटीदार समुदाय का सदस्य है। इसके अलावा अन्य छह लोगों को वांटेड घोषित किया गया है।


सरथना पुलिस इंस्पेक्टर एनडी चौधरी ने बतया, ‘पोस्टर्स में जो भाजपा नेता पाटीदार नहीं थे, उनके चेहरे पर कालिख पोत दी गई थी। यह कुछ लोगों ने कानून व्यवस्था में बाधा डालने के इरादे से किया। मामले में हमने तुरंत संज्ञान लेते हुए निकुंज काकड़िया के खिलाफ केस दर्ज किया। वह पास का एक्टिव सदस्य है। इसके अलावा निकुंज ने उन छह लोगों का भी नाम बताया है जो इस घटनाक्रम में उसके साथ थे।’

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved