ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

संघ के एजेंडे पर नीतीश कुमार, दलितों और मुस्लिमों को लड़ाने के लिए चला ये दांव

पटना। भारतीय जनता पार्टी बड़े ही महीन तरीके से अपना एजेंडा देशभर में लागू करने पर तुली है। पार्टी आलाकमान ने अभी हाल ही में बिहार में महागठबंधन की सरकार गिरवाकर अगले ही दिन अपनी पार्टी के सहयोग से सरकार बनवा दी। भाजपा की इस चाल पर सवाल खड़े हुए कि नीतीश कुमार को दवाब में लेकर सत्ता बदलने का काम किया गया। अब बिहार में भाजपा के सहयोग से सरकार चला रहे नीतीश कुमार ने भाजपा के इशारे पर ही दलित को मुस्लिमों के खिलाफ खड़ा करने की नींव जमा दी है।

खास बातें-

  1. महीन तरीके से देशभर में आरएसएस का एजेंडा लागू करने की हो रही कोशिश
  2. अन्य राज्यों की तरह बिहार में भी दलितों को मुस्लिमों के खिलाफ खड़ा करने का नींव शुरू
  3. दलित को पशुपालन मंत्री बना हिंदुत्वादी एजेंडा लागू कर रही नीतीश और बीजेपी सरकार
  4. रामविलास पासवान के भाई पशुपति नाथ पारस को बनाया गया है पशुपालन मंत्री

यह काम शुरू हुआ है रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस के जरिए। पशुपति कुमार पारस को नीतीश और भाजपा की सरकार ने पशुपालन मंत्री बनाया है। यह वही मंत्रालय है जो आज देश के सबसे विवादित मंत्रालयों में शामिल है। सबसे बड़ी बात है कि पशुपालन मंत्री बनते ही पशुपति कुमार पारस ने भी और भाजपाई राज्यों की तरह बिहार में भी हिंदुत्वादी एजेंडा लागू करना शुरू कर दिया है।

पढ़ें- जनादेश का अपमान कर गठबंधन तोड़ दिया गया, मुझे आंतरिक कष्ट- शरद यादव

बिहार में भी यूपी की तर्ज पर नीतीश सरकार ने गौहत्या पर प्रतिबंध लगा दिया है। पशुपति कुमार पारस ने पदभार संभालते ही राज्य में ना केवल गौहत्या पर प्रतिबंध लगा दिया बल्कि नए बूचड़खाने खोलने पर भी रोक लगा दी है।

https://youtu.be/EDuhSP_Q_P0

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पशुपालन मंत्री ने कहा कि उनका विभाग अब कोई बूचड़खाना खोलने का लाइसेंस जारी नहीं करेगा। साल 2015 के विधान सभा चुनाव में भी गौमांस पर सियासत छिड़ी थी। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश की थी लेकिन उन्हें कुछ खास हाथ नहीं लग सका था।

पढ़ें- भरोसे का खून करने वाले और जनमत के डकैत हैं नीतीश कुमार- लालू यादव

हालांकि, आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक बिहार में गौवध पर साल 1955 से ही रोक लगी है लेकिन सरकार के ढीले रवैये की वजह से पिछले 15-20 सालों से गाय, भैंस और अन्य जानवरों का वध जारी है। इस रोक से पहले इस साल के शुरुआत में बीजेपी ने राज्य में गौकशी पर रोक लगाने की मांग नीतीश सरकार से की थी।

https://youtu.be/wBlhRihfoWo

आपको बता दें कि देशभर में गोरक्षा के नाम पर दलितों और मुस्लिमों को मारा जा रहा है। गुजरात से लेकर यूपी, राजस्थान, हरियाणा, महाराष्ट्र आदि भाजपा शासित राज्यों में गौरक्षकों की गुंडई लगातार बढ़ रही है। कल लोकसभा में भी विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने गौरक्षकों द्वारा देशभर में की जा रही मॉब लिंचिंग पर सवाल उठाया था। मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि मोदी सरकार कथित गोरक्षकों को प्रोत्साहित कर रही है जिसकी वजह से वह देशभर में दलितों और मुस्लिमों को मार रहे हैं।

(संपादन- भवेंद्र प्रकाश)

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved