ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

गौमूत्र के फायदे बताएगी मोदी सरकार, RSS के सदस्यों को शामिल कर बनाई रिसर्च कमेटी

नई दिल्ली। आज देश में गाय एक राजनीतिक मुद्दा बन गई है। गौरक्षा के नाम पर लोगों को मारा जा रहा है। इस बीच खबर आ रही है कि मोदी सरकार ने गौमूत्र के फायदे से लोगों को रूबरू कराने के लिए एक कमेटी बनाई है। यह कमेटी गौमूत्र के लाभ पर वैज्ञानिक रूप से कानूनी तौर पर रिसर्च करेगी। इसके लिए 19 सदस्यीय समिति बनाई है। खास बात यह है कि इसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिन्दू परिषद के तीन सदस्यों को शामिल किया गया है।

खास बातें-

  1. सरकार ने गाय के लाभ पर रिसर्च के लिए बनाई समिति
  2. समिति में आरएसएस-विहिप के सदस्‍य शामिल
  3. गौमूत्र, गोबर, दूध, दही, घी के लाभ बताएगी समिति

एनबीटी की खबर के अनुसार, यह जानकारी एक अंतरविभागीय सर्कुलर और समिति के सदस्यों ने दी। सर्कुलर ने बताया कि समिति की अध्यक्षता विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन करेंगे। यह समिति ऐसी परियोजनाओं को चुनेगी जो पोषण, स्वास्थ्य और कृषि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में गाय का गोबर, मूत्र, दूध, दही और घी के लाभों को वैज्ञानिक रूप से बताएगी।

पढ़ें- सवर्णों ने दलितों के शौचालय तोड़े, बाहर शौच जाने पर महिलाओं को मारपीट की धमकी

‘राष्ट्रीय संचालन समिति’ नाम की समिति में नवीन एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय, बायोटेक्नॉलजी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विभागों के सचिव और दिल्ली के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक शामिल हैं। इसमें आरएसएस और विहिप से जुड़े संगठनों विज्ञान भारती और ‘गो विज्ञान अनुसंधान केंद्र’ के तीन सदस्य भी शामिल हैं।

http://www.youtube.com/watch?v=meEaJeAR1E8

हल्दी और बासमती चावल पर अमेरिका के पेटेंट के खिलाफ अभियान चलाने के लिए प्रसिद्ध पूर्व सीएसआईआर निदेशक आर ए माशेलकर भी इस समिति के सदस्य हैं। समिति में आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रफेसर वी रामगोपाल राव और आईआईटी के ग्रामीण विकास एवं प्रौद्योगिकी केंद्र के प्रफेसर वीके विजय भी शामिल हैं।

पढ़ें-योगीराज: दलित किशोरी के शौच करने पर ठाकुर साहब ने साफ कराया मल, फाड़े कपड़े

आरएसएस से जुडे संगठन विज्ञान भारती के अध्यक्ष विजय भटकर समिति के सहअध्यक्ष हैं। सुपर कम्प्यूटर की परम सीरीज के वास्तुविद माने जाने वाले भटकर बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं। भटकर ने कहा कि उन्हें स्वदेशी गाय और पंचगव्य पर वैज्ञानिक रूप से विधिमान्य अनुसंधान की परियोजनाएं चुनने का काम दिया गया है। आरएसएस से जुड़े दो अन्य सदस्य विज्ञान भारती के महासचिव जयकुमार और नागपुर के गो विज्ञान अनुसंधान केंद्र के सुनील मनसिंहका हैं।

संपादन-निर्मलकांत

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved