ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

भाजपा सांसद साक्षी महाराज बोले- यह मौत नहीं नरसंहार है

shakshi maharaj

नई दिल्ली। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में मरने वालों की संख्या 63 हो चुकी है। ऐसे में उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने अपनी ही सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में मासूमों की मौत सिर्फ मौत नहीं बल्कि नरसंहार है। साक्षी महाराज ने कहा कि मासूमों की मौत ऑक्सीजन सप्लाई न होने की वजह से हुई। उन्होंने ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी को पेमेंट न करने पर भी सवाल उठाए। साक्षी महाराज ने कहा कि बच्चों की मौत सामान्य नहीं मानी जाएगी। सरकार को दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द सख्त एक्शन लेना चाहिए।

मुख्य बातें-

  1. पुरानी सरकारों पर ठीकरा फोड़ते नजर आए योगी सरकार के स्वास्थ्य मंत्री
  2. खुद मोदी ने पूर्वांचल में उठाया था जापानी बुखार का मुद्दा
  3. गैस सप्लाई के ठेकेदारों के घर छापेमारी
  4. मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल का इस्तीफा

वहीं यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह प्रेस कांफ्रेंस में बच्चों की मौत के लिए ऑक्सीजन को जिम्मेदार मानने से पल्ला झाड़ते नजर आए। पत्रकारों के जवाब देते हुए वे थोड़ा भी परेशान होने के बजाय मुस्कुराते और पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराते हुए नजर आए।

उन्होंने कहा कि बच्चों की मौत के लिए सिर्फ गैस सप्लाई जिम्मेदार नहीं है। बच्चों की मौत का कारण अलग-अलग है। साथ ही उऩ्होंने कहा कि 11.30 से 1.30 बजे तक गैस पर्याप्त नहीं थी हालांकि इस बीच किसी बच्चे की मौत नहीं हुई। इसके अलावा मामले में कार्रवाई करते हुए बीआरडी कॉलेज के प्रिंसिपल आरके मिश्रा को लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिया है।

https://youtu.be/1H5-F-I7ak0

सिद्धार्थनाथ ने कहा, ‘यूपी की सरकार संवेदशनील सरकार है। गैस सप्लाई बाधित होने के कारणों की जांच की जा रही है। सरकार ने मुख्य सचिव के नेतृत्व में एक जांच दल का गठन किया गया है। रिपोर्ट के बाद हम और लोगों पर भी कड़ी कार्रवाई करेंगे।’

https://youtu.be/qsz5i7Ytz4c

बच्चों की मौत पर बचपन बचाओ आंदोलन चलाने वाले नोबल पुरस्कार पाने वाले कैलाश सत्यार्थी ने कहा, ”ये हत्या है, नरसंहार है. क्या आजादी के 70 साल का मतलब बच्चों के लिए यही है. बसपा नेता सुभिन्द्र भदौरिया ने कहा, ”ये यूपी सरकार के लिए बहुत ही शर्म की बात है। अगर सरकार में थोड़ी भी नैतिकता है तो उन्हें तुरंत इस्तीफा देना चाहिए। उम्मीद है कि योगी आदित्यनाथ को खुद से ही शर्म आएगी और वो उन बच्चों के माता-पिता के पास जाकर अफसोस जताएंगे।”

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved