ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

ये एक ‘मां’ की तस्वीर हैं, जिसका बेटा सालभर से गायब है..

nazeeb-ahmad

नई दिल्ली। जेएनयू के छात्र नजीब अहमद के गायब हुए एक साल से ज्यादा का समय हो चुका है। ऐसे में अब तक किसी भी आरोपी गिरफ्तारी तक न होने पर नजीब की मां ने सीबीआई मुख्यालय के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। लेकिन पुलिस की ओर से नरमी बरतने के बजाय उन्हें एक बार फिर से उन्हें घसीटकर धरना स्थल से हटाया गया।

नजीब अहमद, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) से 15 अक्तूबर 2016 के बाद कैंपस से लापता है। वह एमएससी बायोटैकनॉलजी के पहले साल का विद्यार्थी है। 14 अक्टूबर 2016 को उसके और दक्षिणपंथी एबीवीपी के बीच झगड़ा हुआ।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय अध्यापक संघ (JNUTA – जेएनयूटीए) ने प्रशासन को इस मुद्दे के प्रति बेरुख़ी और पक्षपाती प्रबंधन के लिए ज़िम्मेदार ठहराया है। जेएनयू अध्यापक संघ ने यूनिवर्सिटी द्वारा जारी की गई 25-बिन्दु बुलेटिन की भी आलोचना की है कि वह जानबूझकर यह तथ्य छोड़ दिया है कि एक रात पहले हुए झगड़े के दौरान अहमद पर हमला किया गया था। नजीब अहमद की माँ फ़ातिमा नफ़ीस ने जेएनयू के प्रशासन पर यह आरोप लगाया है कि वे असंवेदनशील हैं।

नजीब अहमद का केस दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई को सौंपा गया है। कोर्ट ने केस सीबीआई को सोपंते हुए विशेष निर्देश दिए थे कि केस की जांच की अगुआई कम से कम डीआईजी रैंक के अधिकारी द्वारा की जानी चाहिए। दिल्ली हाईकोर्ट ने यह आदेश नजीब अहमद की मान फातिमा नफीस द्वारा लगाई गई याचिका पर दे चुकी है।

दिल्ली पुलिस नजीब के ठिकाने के बारे में जानकारी देने के लिए 100,000 रुपये के इनाम का ऐलान किया है। दिल्ली पुलिस की SIT इस केस की पड़ताल कर रहा है।  लेकिन एक साल भी नजीब का पता नहीं चल सका है और न ही किसी आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved