ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

अब मंदिर में घंटा बजाएंगे दलित, केरल के मंदिरों में हुई नियुक्ति

travancore devaswom recruitment board announce dalit priest

नई दिल्ली। दलितों को अभी भारत में पूजा तो क्या मंदिरों में घुसने की भी आजादी नहीं है। आए दिन देश के विभिन्न क्षेत्रों से मंदिर में घुसने के नाम पर दलितों की पिटाई के मामले सामने आते रहते हैं। ऐसे में त्रावणकोर देवस्‍वोम (मंदिर) नियुक्ति बोर्ड ने दलित समुदाय से 6 लोगों को पुजारी बनाकर मंदिर पूजा के जन्मजात आरक्षण को चुनौती दे दी है।

बोर्ड द्वारा पुजारियों की सूची की गई है जिसमें गैर-ब्राह्मण समुदाय के 36 लोगों के नाम शामिल हैं। बोर्ड ने पहले भी गैर-ब्राह्मणों को पुजारी बनाया है, मगर यह पहली बार है जब दलितों का चयन किया गया हो। गुरुवार (5 अक्‍टूबर) को फाइनल की गई लिस्‍ट में 62 पुजारी हैं, जिनसे में 36 गैर-ब्राह्मण हैं।

इन पुजारियों का चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्‍यू के जरिए हुआ जिसका मॉडल राज्‍य लोक सेवा आयोग की तरह है। अब तक नियुक्तियां संबंधित देवस्‍वोम बोर्ड करता था और गैर-ब्राह्मणों का चयन दुर्लभ होता था। इस बार सूची में ब्राह्मण समुदाय के 26 पुजारियों का नाम शामिल है।

ऑल इंडिया ब्राह्मण फेडरेशन के अक्‍कीरमन कालिदासन भट्टाथिरीपद ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, ‘हम मंदिरों में गैर-ब्राह्मणों को पुजारी बनाए जाने के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन एक ऐसा सिस्‍टम होना चाहिए जो यह सुनिश्चित करे कि जिनका चयन हो रहा है, उन्‍हें तांत्रिक मंत्रों की जानकारी है। नियुक्तियां आरक्षण के नियमों का पालन करने के लिए नहीं होनी चाहिए। यह पूरी तरह से ज्ञान और मंदिरों के विश्‍वास पर होनी चाहिए।”

62 पुजारियों की यह सूची त्रावणकोर देवस्‍वोम बोर्ड के मंदिरों में खाली पदों के लिए है। अन्‍य मंदिरों के लिए भी पुजारियों की सूची जल्‍द जारी की जाएगी। बोर्ड के नियंत्रण में 1,252 मंदिर हैं और पुजारियों की निर्धारित संख्‍या करीब 2,500 है।

आपको बता दें कि दलितों पर बढ़ते अत्याचार के कारण उनका हिंदू धर्म से मोहभंग हो रहा है। दलित लगातार बुद्धिज्म की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि उन्हें पुजारी बनाकर दोबारा हिंदू धर्म में लाने का पैंतरा अपनाया जा रहा है।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved