ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

कविता: यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है…

poem this fight not hindu vs muslim

अगर उन्हें हिंदुओं की फिक्र होती तो हिंदू किसान आत्महत्या न करते
यदि उन्हें हिंदू बच्चों की फिक्र होती तो सैकड़ों बच्चे सरकारी अस्पतालों में मारे न जाते
क्यों उनका मुकद्दम कहता कि बच्चे पालना सरकार का काम नहीं ?
यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है ।

यदि उन्हें दलित पिछड़े हिंदुओं की फिक्र होती तो वे आरक्षण का विरोध न करते
मारना दो थप्पड़, जो कहे उनके संगठन को हिंदूवादी
नहीं तो उस पर किसी एक जाति का एकाधिकार न होता,
यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है।

यदि उन्हें गाय की फिक्र होती, तो
वजीर की गौशाला में गौओं की मौत पर उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया जाता,
गौमाता से बलात्कार करने वाले, पंडित जी को सूली पर टांगा दिया जाता,
यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है।

यदि ऐसा होता तो एक एक हिंदू इसी हिंदूवाद के खिलाफ खड़ा ना होता
ना मारे जाते कलबुर्गी, पानसरे, दाभोलकर और गौरी लंकेश ,
यकीन मानिए यह लड़ाई सिर्फ हिंदू और मुसलमान की नहीं है।

यह लड़ाई है आधुनिकता की रूढ़िवाद से
यह लड़ाई है विज्ञान की अंधविश्वास से
यह लड़ाई है समानता की भेदभाव से
यह लड़ाई है सच की झूठ से
यह लड़ाई है डेमोक्रेसी की तानाशाही से।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved