ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  

बौद्ध धर्म के पतन का कारण और भविष्य की दिशा

विमर्श
1 year ago

बौद्ध धर्म के पतन के बारे में बहुत स्पष्ट जानकारी नहीं है. लेकिन आधुनिक रिसर्च से आजकल कुछ बात स्पष्ट हो रही है. इस विषय को ठीक से देखें तो भारत में बौद्ध धर्म का पतन का और स्वयं भारत के एतिहासिक पतन और पराजय का कारण अब साफ़ होने लगा है. इस प्रश्न का सीधा संबंध वैज्ञानिक दृष्टि और […]

सृजन घोटाला: नीतीश कुमार ने रमैया के एहसान का बदला चुकाया?

विमर्श
1 year ago

सुनो कहानी! रमैया, सृजन और नीतीश कुमार सृजन घोटाले में एक दिलचस्प नाम के. पी. रमैया का है। IAS अफ़सर से 2014 में वोलंटरी रिटायरमेंट लेकर वे JD-U में शामिल हुए। पार्टी दफ़्तर में बड़ा आयोजन हुआ। आँध्र प्रदेश के रहने वाले रमैया को टूटी-फूटी हिंदी आती है। बिहार के किसी समीकरण में नहीं आते। लेकिन नीतीश कुमार ने रमैया […]

‘तीन तलाक’ के साथ ‘तिलक’ पर भी हमले की जरुरत है- रवीश कुमार

विमर्श
1 year ago

चूंकि ज़माना बदल रहा है इसलिए हो सकता है कि अब दहेज़ न देने के कारण मार दी जाने वाली औरतों की ख़बरों पर भी नज़र जाने की उम्मीद की जा सकती है। 21 अगस्त को दिल्ली के विकासपुरी में 10 लाख दहेज में नहीं लाने के कारण एक महिला को कथित रूप से जला दिया गया। उसे पति और […]

चारा घोटाले के अलावा बाकी सबको पवित्र मानिए और गोबर में मुंह डुबा कर मर जाइए..!

विमर्श
1 year ago

बिहार के सृजन घोटाले की जो भयानक शक्ल सामने आ रही है, अगर उसके साए में संघी-भाजपाई, सुशील कुमार मोदी और उनके मातहत सोचने-समझने वाले नीतीश कुमार नहीं होते तो अब तक देश और यहां के मीडिया में तूफान मच चुका होता…! मीडिया की नजरे-इनायत हुई भी है तो इस घोटाले की खबरों में एनजीओ और कुछ अफसरों को केंद्र […]

सरकार की नीतियों और लापरवाही के कारण बह गई हैं कई लाख झोपड़ियां-रवीश कुमार

विमर्श
1 year ago

मेरी बिहार सरकार से मांग है कि बाढ़ में जितनी झोंपड़ियाँ नष्ट हुईं हैं, उनका पूरा पूरा दाम ग़रीबों को वापस करे। बाढ़ प्राकृतिक आपदा नहीं है। सरकार की बाँध नीति और लापरवाही से पैदा होती है। इसलिए सरकार को अधिकतम जवाबदेही उठानी चाहिए। चूड़ा चीनी और बुनिया बिल्कुल ठीक है लेकिन ग़रीब लोगों का घर वापस होना चाहिए। दो […]

जन्मदिवस विशेष: ब्राह्मणवाद के विध्वंसक और सामाजिक क्रांति के योद्धा रामवरूप वर्मा को नमन

विमर्श
1 year ago

उत्तर भारत मे सशक्त रूप में सामाजिक न्याय एवं सामाजिक परिवर्तन के लिए अर्जक संघ की स्थापना कर उत्तर प्रदेश की विधानसभा से लेकर सड़क तक ढोंग/पाखण्ड/कुरीतियों/भाग्य/भगवान/पूजा-अर्चना/लग्न-मुहूर्त/मृत्यु भोज आदि का बहिष्कार कर एक वैज्ञानिक/पदार्थवादी/तार्किक विचारधारा को मजबूती से प्रतिपादित करने वाले स्मृतिशेष रामस्वरूप वर्मा जी पेरियार साहब एवं बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर जी के बाद मनुवाद में पूरी […]

कर्नल पुरोहित पर विलापते मीडिया का कभी मुस्लिमों के रिहा होने पर दिल दुखा है?

विमर्श
1 year ago

असल में आज अगर भारतीय मीडिया दुनिया के सबसे गैरभरोसेमंद संस्थानों में आता है तो इसका जिम्मेदार अकेला मीडिया नहीं, बल्कि हम भी हैं। अभी खबरों की तलाश में न्यूज चैनल्स की झाड़ी ली तो आज के दिन ऐसा लगा जैसे सारी समस्यायें उनके लिये बेमानी हो गयी हैं क्योंकि ज्यादातर चैनल बेचारे, बेकसूर और मासूम कर्नल पुरोहित को जमानत […]

लालू यादव को ‘ललुआ’ क्यों कहते हैं मनुवादी लोग?

विमर्श
1 year ago

देश के सारे नेता मसलन अटल जी, आडवाणी जी, मोदी जी, राजीव जी, सोनिया जी आदि-आदि पर लालू प्रसाद यादव जी को लालू जी क्यो नही कहते मनुवादी या मनुवादियों के पिट्ठू? क्यो लालू जी को ललुआ कहा जाता है? मोदी जी की शिक्षा का अता-पता नही है पर वे मोदी जी है क्योंकि वे अभिजात्य समाज की पार्टी के […]

‘भारत के सबसे बदनाम बिल्डर को टिकट देकर नीतीश ने अपनी राजनीति की लाज बचा ली’

विमर्श
1 year ago

आज संडे है। शहर का मौसम अच्छा है। कल के ट्रेन हादसे की बात सरकार भूल चुकी है। इसलिए आज कोई राजनीति नहीं, सिर्फ एक कहानी। कई हज़ार साल पहले की बात है। तब धरती चपटी हुआ करती थी और नाग अपने सिर पर इसे नचाता था। उस समय एक देश था। नाम कुछ भी रख लेते है। चलिए मान […]

जाति का सवाल हमारे लिए है, उनके लिए बस फैशनेबल ट्रेंड…..

विमर्श
1 year ago

हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करने के लिए कौन लोग मुकर्रर हैं? सड़ी-गली से लेकर हर तरह की लाशों के बॉडी पार्ट चीरना। खून के फव्वारे से लेकर असहनीय बदबू तक…… अंदाज़ा लगाना तो दूर, सोच भी नहीं पाएंगे आप। सीवरों में क्या होता है बताने की ज़रूरत है क्या। बिना सिक्युरिटी टूल के उसमें उतरना, जहाँ एक सेकेंड के लिए सांस […]

विज्ञान और तकनीकी प्रबंधन के ज्ञान से ही सकारात्मक दिशा में बढ़ेगा देश

विमर्श
1 year ago

विज्ञान, तकनीक और इंजीनियरिंग मेडिसिन मैनेजमेंट आदि पर अधिक जोर देकर और ह्यूमेनिटीज, सोशल साइंस को कुचलकर असल मे वर्ण व्यवस्था को वापस लाया जा रहा है। वर्ण व्यवस्था को ज्ञान के कुप्रबंधन या ज्ञान की हत्या के अर्थ में देखिये। समाज की बुद्धि और चेतना को नियंत्रित करने वाला जो आयाम है वो धर्म, सँस्कृति, इतिहास, दर्शन, भाषा, साहित्य […]

शरद यादव के नाम खुला पत्र

विमर्श
1 year ago

आदरणीय श्री शरद यादव जी, जय भीम! जय मण्डल!! आदरणीय श्री शरद यादव जी आप जयप्रकाश नारायण जी की सम्पूर्ण क्रांति के एक अजेय नायक हैं। जब देश मे लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश हुई थी, सत्ताधारी अन्याय बढ़ा था, जबान सिलने की कोशिश हुई थी तथा देश मे आपातकाल लागू हुआ था तो जयप्रकाश नारायण जी ने सम्पूर्ण […]

देश के सर्वश्रेष्ठ एक्सप्रेस वे को बनवाने का रिकॉर्ड अखिलेश यादव के नाम दर्ज

विमर्श
1 year ago

सत्ता और सरकारें बनती-बिगड़ती रहती हैं, पद आते-जाते रहते हैं पर इतिहास और रिकार्ड कोई-कोई बना पाता है। देश मे महज 23 महीने में बना 302 किलोमीटर लम्बा 6 लेन “लखनऊ -आगरा एक्सप्रेस वे” एक ऐतिहासिक कीर्ति और कीर्तिमान है जो युवा समाजवादी नेता श्री अखिलेश यादव जी के नाम इतिहास के पन्नो में स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो चुका है। […]

PM से कौन पूछेगा कि दो लाख शेल कंपनियों में से किसका संबंध पनामा पेपर से है?

विमर्श
1 year ago

शेल कंपनियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई का स्वागत ही होना चाहिए। प्रधानमंत्री मोदी इन कंपनियों को बहस के दायरे में लाना चाहते हैं। कई अख़बारों की रिपोर्ट पढ़ने के बाद उनका सार पेश कर रहा हूं। आप भी अपनी तरफ से कुछ जोड़ सकते हैं। पाठकों के मन में दो कैटगरी को लेकर स्पष्टता होनी चाहिए। एक नॉन आपरेटिव कंपनी और […]

‘गोदी मीडिया के लिए सत्ता के चरण में बैठना ही आज़ादी है’

विमर्श
1 year ago

मेरा भाषण- स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं। 15 अगस्त सिर्फ 15 अगस्त में नहीं है वो उन तमाम संघर्षों में हैं जो आम लोगों के हक और आज़ाद भारत के स्वप्न को ज़िंदा रखने के लिए किए जा रहे हैं। ऐसे लाखों लोगों की संघर्ष भावना को बधाई। सरकारें आज भी झूठ बोलती हैं। नेता आज भी झूठ बोलते हैं। झूठ […]

भारत की गुलामी और पिछड़ेपन का असली कारण

विमर्श
1 year ago

इस देश में एक तबका है जो अपने छोटे से दायरे में एक ही जाति और वर्ण के लोगों की टीम में बैठकर सदियों से निर्णय लेता रहा है। अन्य वर्ण और जातियों की क्या सोच हो सकती है उन्हें पता नहीं, न ही वे पता करने की जरूरत समझते हैं। इसीलिए जिस हुजूम को भारत कहा जाता है वो […]

प्रधानमंत्री जी, कल रोईएगा नहीं क्योंकि….

विमर्श
1 year ago

कल हम आजादी का जश्न मनाएंगे। प्रधानमंत्री जी, मुझे ऐसा लगता है कि आप इस दिन भी लाल किले के प्राचीर से कुछ उसी तरह भावुक हो सकते हैं, जैसा रोहित वेमुला और गो रक्षकों की कारस्तानी पर भावुक हुए। लेकिन, इस अदने से आदमी की विनती है, प्लीज कल मत रोईएगा। क्योंकि, आंसू से ऑक्सीजन मिलते तो उन बच्चों […]

संघियों को मुसलमानों में से बुरहान बानी और दाऊद चाहिए, उन्हें डॉ. कफ़ील जैसे लोग नहीं सुहाते

विमर्श
1 year ago

अगर यह खबर सही है कि प्राइवेट प्रैक्टिस करने की वजह से डॉ कफ़ील को हटा दिया गया है, तो चलो… मैं उन्हें हटाने का समर्थन करता हूं..!! लेकिन औकात और हिम्मत है तो डॉ कफ़ील के साथ ही शुरू करो, समूचे देश के उन तमाम डॉक्टरों को जेल में बंद करो, जिन्होंने सरकारी नौकरी की तनख्वाह उठा कर सिर्फ […]

साइंस और टेक्नॉलोजी ऋषि-मुनियों के पास था, तो आज उनके वंशज यूरोप अमेरिका का मुह क्यों ताकते हैं?

विमर्श
1 year ago

कल ट्रेन में सफर के दौरान चार युवा इंजीनियर्स से बात करने का मौका मिला। चारों एक दूसरे से परिचित होते हुए अपनी पढ़ाई, कमाई, अनुभव, कम्पनी आदि का बखान कर रहे थे। जाहिर हुआ कि चारों देश की सबसे अच्छी सॉफ्टवेयर कम्पनियों में कार्यरत हैं, दो पुणे में एकसाथ है दूसरे दो मुम्बई एकसाथ काम करते हैं। अगली कुछ […]

ठेठ लालू, शिक्षा और वंचित तबका…

विमर्श
1 year ago

क्रांति ज्योति ज्योतिबा फुले जी ने कहा है कि “विद्या के अभाव में मति गयी,मति के बिना नीति गयी, नीति के बिना गति गयी,गति के बिना वित्त गयी,वित्त के बिना शूद्रों की अधोगति हो गयी। इतने सारे अनर्थ एक अकेली अविद्या के कारण ही हुए।” बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर साहब ने भी कहा है कि “शिक्षा वह शेरनी […]

More Posts
To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved