fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

PM पद के लिए राहुल से अच्छा विकल्प है मायावती : सुधीन्द्र भदोरिया

Mayawati-Sonia-Rahul

लोकसभा चुनाव में विपक्ष की ओर से पीएम पद के उम्मीदवार के लिए बसपा नेता का बड़ा बयान आया, कहा कि राहुल गांधी से बेहतर मायावती हैं. उनके पास अनुभव है और चार बार यूपी की सीएम रह चुकी है। 2019 के लोकसभा चुनाव में  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पर विपक्ष की ओर से ही सवाल खड़े होने लगे हैं। बसपा नेता का कहना है की पीएम पद के लिए उम्मीदवार के तौर पर राहुल गांधी से बेहतर मायावती है, विपक्षी दल के नेता भी उन्हें पीएम के रूप में देखना चाहते है।

Advertisement

Sudhindhra_Bhadoria_BSP_Mayawati_Rahul

इंडिया टुडे से बात करते हुए बीएसपी प्रवक्ता सुधींद्र भदौरिया ने  कहा कि विपक्ष के प्रधानमंत्री उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मुकाबले मायावती को ज्यादा पसंद करते हैं।

भदौरिया का कहना है कि मायावती चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रही हैं,कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष की तुलना में पार्टी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के रूप में मायावती का लंबा अनुभव होने के कारण यहाँ सभी उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पर विपक्ष की ओर से ही सवाल खड़े होने लगे हैं. बसपा नेता ने कहा कि पीएम पद के लिए उम्मीदवार के रूप में राहुल गांधी से बेहतर मायावती हैं. विपक्षी दल के नेता भी उन्हें पीएम के रूप में देखना चाहते हैं।

बीएसपी प्रवक्ता सुधींद्र भदौरिया ने इंडिया टुडे से बात करते हुए कहा कि विपक्ष के प्रधानमंत्री उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तुलना में मायावती को ज्यादा पसंद करते हैं।


भदौरिया ने कहा कि मायावती चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रही हैं. कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष की तुलना में पार्टी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के रूप में मायावती का लंबा अनुभव है. यही वजह है कि सभी उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं।

आपको बता दें कि बसपा अध्यक्ष मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सुधींद्र भदौरिया को आधिकारिक प्रवक्ता बताया था. इसमें कहा गया था कि देश में सुधींद्र भदौरिया के आलावा किसी और व्यक्ति को किसी भी स्तर पर पार्टी का प्रवक्ता या बसपा समर्थक आदि के रूप में भी मीडिया में अपनी बात व पार्टी का पक्ष रखने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।

बसपा 2014 के लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं जीत पाई थी. लेकिन दलित अस्मिता के नाम पर ऊपर उठी बसपा ने अपना पूरा ध्यान यूपी की राजनीति में लगाया है. लेकिन जिन प्रदेशों में दलित वोट ज्यादा हैं वहां पर अपने प्रत्याशी जरूर उतारती रही है।

बसपा को बिहार, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, कर्नाटक मध्य प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड और राजस्थान में न सिर्फ वोट मिले हैं बल्कि उसने विधानसभा में सीट पक्की करने में भी कामयाबी रही है।

दरअसल कांग्रेस बसपा के साथ मिलकर मोदी को मात देने का सपना राहुल गांधी ने बनाया था,परन्तु मायावती ने पांच राज्यों के हो रहे चुनाव में कांग्रेस को तगड़ा झटका दिया और कांग्रेस के बजाय बसपा ने क्षेत्रीय दलों के साथ हाथ मिला रही है। इससे कांग्रेस की मुश्किलें बढती नज़र आ रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved