ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

प्रकाश अंबेडकर और बेजवाड़ा विल्सन हो सकते हैं विपक्ष से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

नई दिल्ली। राष्ट्रपति पद के लिए सोमवार को भाजपा की ओर रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के साथ ही विपक्ष अब कई दलित नामों पर विचार कर रहा है, जिसमें डॉ.भीम राव अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर, मैग्सेसे अवॉर्ड विनर बेजवाड़ा विल्सन, पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार का नाम शामिल है।

ये भी पढ़ें- दलित फूड के संस्थापक चंद्रभान ने पूछा- रामनाथ कोविंद को ‘दलित’ क्यों माना जाए?

विपक्ष ने 22 जून को एक बैठक बुलाई है जिसकी अध्यक्षता कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी। फिर विपक्ष के उम्मीदवार पर अंतिम फैसला लेंगे।

कोविंद के नाम की घोषणा के बाद सीएम नीतीश कुमार ने पटना में संवाददाताओं से कहा, “यह व्यक्तिगत रूप से मेरे लिए खुशी की बात है। जहां तक ​​समर्थन का संबंध है, अभी कुछ नहीं कह सकता।” नीतीश कुमार ने बिहार के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान कुमार ने उनकी “निष्पक्षता” के लिए सराहना भी की।

वहीं बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि मुझे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने और केन्द्र सरकार के वरिष्ठ मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने आज टेलीफोन पर यह बताया है कि बीजेपी व एनडीए ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिये दलित वर्ग से रामनाथ कोविंद का नाम तय कर दिया है, जबकि इनका परिचय यह है कि वे मूल रुप से उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के निवासी हैं और दलित वर्ग में कोरी जाति से ताल्लुक रखते हैं, जिनकी संख्या पूरे देश में बहुत कम है।

https://www.youtube.com/watch?v=Nztwbv0nob8

रामनाथ कोविंद को लेकर सीपीआई एम के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा, हमने हमेशा कोशिस की है कि भावी राष्ट्रपति निर्दोष और धर्मनिरपेक्ष छवि का हो। सरकार ने हमसे समर्थन के लिए पूछा था और जब हमने पूछा कि किसको समर्थन करना है तो उन्हें एक आदमी नहीं मिला था। हमने उनके फैसले के बारे में केवल मीडिया के मीडिया के माध्यम से सुना है और बाद में वेंकैया नायडू ने मुझसे बात की और मैने उन्हें वहीं बात बताई।

येचुरी ने कहा वाम निर्विवाद रुप से एक लड़ाई लड़ेगा। उन्होने कहा, इस स्थिति में सवाल केवल राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के चरित्र का नहीं है। 1977 को छोड़कर राष्ट्रपति चुनाव हमेशा एक राजनीतिक प्रतियोगिता रही है और इनमें से अधिकतर प्रतियोगिता में भाजपा के ही उम्मीदवार ही चुने गए हैं।

ये भी पढ़ें- बीजेपी के पार्टनर शिवसेना ने कहा, वोट बैंक के लिए दलित को राष्ट्रपति बनाओगे तो कोई समर्थन नहीं

भाजपा की ओर से रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा पर तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, अमी जाने ना (मैं उन्हें नहीं जानती)। टीएमसी प्रमुख ने कहा, मैं एक पल के लिए नहीं कह रही हूं कि बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति बनने के लायक नहीं हैं। मैने दो तीन विपक्षी नेताओं से बातचीत की है। वे भी इस बात से आश्चर्यचकित हैं कि वे देश में दूसरे बड़े दलित नेता हैं। वह भाजपा के दलित मोर्चा के नेता थे, उन्होने उन्हें उम्मीदवार बना दिया है।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved