Switch to English

National Dastak

x

भाजपा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पुलिस ने हिरासत में मार डाला युवक

Created By : एजेंसियां Date : 2016-12-31 Time : 12:34:40 PM


भाजपा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पुलिस ने हिरासत में मार डाला युवक

भोपाल। बीजेपी शासित मध्य प्रदेश की पुलिस एक बार फिर सवालों के घेरे में है। पुलिस की हिरासत में युवक की पिटाई के बाद मौत हो गई। बताया जा रहा है कि पुलिस युवक को गंभीर हालत में जबलपुर के मेट्रो हॉस्पिटल ले जा रही थी, लेकिन बीच रास्ते में उसकी मौत हो गई।

 

युवक के परिजनों ने पुलिस पर हिरासत के दौरान बेरहमी से पिटाई का आरोप लगाया हैं। 

 

पढ़ें-मोदी के गुजरात मॉडल की सच्चाईः पुलिस ने की दलित युवक की हत्या


पुलिस हिरासत में युवक मौत के बाद यहां अफरातफरी का माहौल है। परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस हिरासत में पिटाई के कारण युवक की मौत हुई है। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार मृतक का नाम देवलाल है। कोतवाली क्षेत्र के सिधौली गांव में वर्ष 2013 में रामसुजान की हत्या की गुत्थी सुलझाने के उद्देश्य से पूछताछ के लिये पुलिस उसे गिरफ्तार करके डिंडौरी थाने लेकर आई थी।

 


लेकिन शनिवार सुबह गंभीर हालत में उपचार के लिये जबलपुर ले जाते समय युवक की मौत हो गई। युवक को मेट्रो हॉस्पिटल जबलपुर ले जाया जा रहा था। युवक के परिजनों ने पुलिस पर युवक की बेरहमी से पिटाई का आरोप लगाया है। वहीं, पुलिस इस मामले में अभी कुछ भी कहने से बच रही है।


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

माओवादियों ने जारी किया ऑडियो, कहा- आदिवासी महिलाओं की इज्‍जत लूटने का बदला लिया

योगीराजः आठवीं की छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म कर रोड पर छोड़ा

वारसा विश्वविद्यालय में 'भारतीय लोकतंत्र के सात दशक' पर बोले उप-राष्ट्रपति

JNU को बदनाम करने वाली वेबसाइट्स के खिलाफ छात्रों ने दर्ज कराई शिकायत

मोदी राज: 'डिजिटल इंडिया' के दौर में चिप लगाकर करते थे पेट्रोल चोरी

गवर्नमेंट की गलत पॉलिसी की वजह शहीद हुआ बेटा- कैप्टन आयुष यादव के पिता

BJP सांसद ने पुलिस अधिकारी को दी खाल उतरवाने की धमकी

बढ़ी मुश्किलें: बंबई हाईकोर्ट ने 'राधे मां' के खिलाफ बयान दर्ज करने के दिए आदेश

डीजीसीईआई ने पकड़ी 15,047 करोड़ रुपये की कर चोरी

योगीराजः आठ साल गैरहाजिर रहे सिपाही का हो गया प्रमोशन

गोरखपुर: समाधि लेने पहुंचे 'ढोंगी बाबा' को पुलिस ने पकड़ा

इन दलित छात्रों ने साबित कर दिया कि टैलेंट सवर्णों की जागीर नहीं