Switch to English

National Dastak

x

बहुजनों कैडर की ओर लौटो

Created By : कपिल गौतम प्रेम Date : 2017-03-17 Time : 12:35:06 PM


बहुजनों कैडर की ओर लौटो

मान्यवर दीनाभाना ने जब मान्यवर कांशीराम को यशकायी डीके खापर्डे से मिलवाया तो उन्होनें मा. कांशीराम साहब को बाबा साहब की पुस्तक एनिहिलेशन आफ कास्ट पढने के लिए दिया। मा. कांशीराम ने बाबा साहब की पुस्तक एनिहिलेशन आफ कास्ट को तीन बार पढा और आन्दोलित हो गये। यहां से मा. कांशीराम का जीवन और उनका उद्देश्य पूर्णत: बदल गया एवं यहीं से मा. कांशीराम के जीवन में एक नयी स्फुर्ति आयी और उन्होंने मा. डीके खापर्डे, मा. दीनाभाना एवं अन्य साथियों के मिलाकर भारत में बहुजन आन्दोलन की शुरूआत की।

 
मा. कांशीराम ने बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के आन्दोलन का गहन अध्ययन किया तो इन्होंने देखा कि बाबा साहब के परिनिर्वाण के बाद उनका कारवां रूक गया है। इसलिए जहां-जहां से कारवां रुका था वहां-वहां से पुनः हमें आंदोलन रिस्टार्ट करना पडेगा। इसके बाद वे जी जान से इसे दोबारा से शुरू करने में जुट गए। 

 

1. पूना पैक्ट का धिक्कार:-
मा. कांशीराम इस नतीजे पर पहुंचे कि अछूतों को मिलने वाले पृथक निर्वाचन के अधिकार को पूना पैक्ट ने समाप्त कर दिया और वह हथियार जो अछूतों को मिला था उसे गांधी जी ने पूना पैक्ट कराकर यहां की शासक जातियों को पकडा दिया। यदि पृथक निर्वाचन प्रणाली रहती तो अछूत लोग अपनी सीट पर अपना प्रतिनिधि तो चुनते ही चुनते, लेकिन दूसरे वोट से सामान्य सीट पर भी हार एवं जीत का फैसला अछूत ठीक वैसे ही करते जैसे कि पूना पैक्ट के बाद अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति की आरक्षित सीट पर हार एवं जीत का फैसला वर्तमान में तथाकथित उच्च जातियाँ करती हैं। यदि पृथक निर्वाचन प्रणाली रहती तो अछूतों के अन्दर भी एक वर्ग के रूप में वोट देने की आदत विकसित हो जाती इसलिए सामान्य सीट वाला भी अछूतों से डरता और उनके मुद्दों पर चुप्पी नहीं साधता एवं आरक्षित सीट पर भी आज की तरह चमचे नही जीत सकते थे। परंतु ऐसा नहीं हुआ और गांधी जी के आमरण अनशन के कारण मजबूर होकर बाबा साहब को पूना पैक्ट पर हस्ताक्षर करना पड़ा जिसके कारण संयक्त निर्वाचन प्रणाली लागू हुई। इसलिए ही आरक्षित सीट पर हार एवं जीत का फैसला आज-कल शासक जातियां कर रही है। इससे अछूतों में दलाल पैदा होते जा रहे हैं और ये प्रतिनिधि विधान सभा एवं लोकसभा में मुह में ताला लगाये रहते हैं। समाज को जागरूक करने के लिए ही इनकी आलोचना में ही उन्होंने चमचा युग पुस्तक लिखी और पूना पैक्ट का धिक्कार किया।

 


2. गैर राजनीतिक जड़ (Non Political Root):- 
दूसरी बात उन्होंने आरपीआई से सीखा कि हमारा राजनैतिक आंदोलन इसलिए सफल नहीं हो रहा है क्योंकि हमारी गैर राजनैतिक अर्थात सामाजिक जड़ें मजबूत नहीं हैं। यह बात बाबा साहब डा अंबेडकर की ही लाइन को आगे बढा रही थी कि सामाजिक आंदोलन, राजनैतिक आंदोलन से आगे-आगे चलना चाहिए (Social reform must precede the Political reform)

 


3. पे बैक टू सोसायटी (Pay back to society):- 
ज्योतिबा फुले, साहूजी महाराज, बाबा साहब आंबेडकर एवं मूलनिवासी बहुजन समाज के सभी संतों एवं गुरुओं के चलाये आंदोलन का परिणाम था कि एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग में पढ़ा-लिखा कर्मचारी-अधिकारी वर्ग तैयार हो गया था जो आरक्षण का लाभ लेकर सरकारी नौकरी मे प्रवेश कर गया था। इस वर्ग के समय, प्रतिभा एवं पैसा (time, talent, treasury) उपलब्ध है परंतु इस वर्ग में अपने सामाजिक उत्तरदायित्व का अभाव था। इसी वर्ग को संबोधित करते हुए बाबा साहब ने 18 मार्च 1956 को आगरा में कहा था कि “मुझे पढ़े-लिखे लोगों ने धोखा दिया। मैं तो समझ रहा था कि ये पढ़े-लिखे लोग समाज के आंदोलन को आगे ले जायेंगे लेकिन यहां तो क्लर्कों की भीड़ खड़ी हो गयी जो अपना ही पेट पालने में लगे रहते हैं”। इस वर्ग को जागृत करने के लिए मान्यवर ने Pay back to society का सिद्धान्त तैयार किया और नौकरी पेशा लोगों को समझाया कि, “आपको जो नौकरी मिली है वह प्रतिनिधित्व के कारण मिली है और प्रतिनिधित्व पुरखों द्वारा चलाये आंदोलन का प्रोडक्ट है। अर्थात समाज का आपके ऊपर ऋण है और इसलिए आपका सामाजिक उत्तरदायित्व है कि आप अपने समाज को अपना मनी, माइंड, टाइम शेअर करें और समाज के ऋण से उऋण हो”।  इस प्रकार पढ़े-लिखे कर्मचारी-अधिकारी वर्ग को उनका सामाजिक उत्तरदायित्व (Social Responsibility) समझा कर उसको pay back to society के लिए तैयार किया।

 

 

4- बहुजन पहचान (Bahujan Identify):- 
बाबा साहब के जीवन काल में अछूतों की 6 जातियां उनके आंदोलन से जुड गयी थीं। ये जातियां हैं, 1- महाराष्ट्र के महार, 2- उत्तर भारत के चमार+जाटव, 3- बंगाल के नमोशुद्राय, 4- मद्रास के परियाह 5-आन्ध्रा के माला, 6-मध्य प्रदेश के सतनामी। इन जातियो ने बाबा साहब के आधुनिक, तर्कसंगत एवं बैज्ञानिक विचारधारा अपनाने के कारण अपने-अपने क्षेत्रों मे अछूतों की दूसरी उप-जातियां जो पुराने रूढ़िवादी विचारधारा मे जकड़ी हुई हैं, से ज्यादा आगे बढ़ीं।

 


मा. कांशीराम ने जाति के गणित को समझा और देखा कि यह छोटी जातियां तो अल्प जन हैं अतः इनको बहुजन बनाना होगा और इसके लिए उन्होंने नया नारा दिया कि जाति तोडो समाज जोडो। इस प्रकार उन्होने जाति पहचान (cast Identity) को वर्गीय पहचान (Class Identity) मे बदला। उन्होंने देखा कि दुश्मन ने हमें 6743 जातियों में विभक्त कर दिया है और इनके बीच भार्इचारे का अभाव है इसलिए इनके बीच भार्इचारा डालना होगा। इसलिए उन्होंने इनमें भार्इचारा बढाने के बारे में भार्इचारा सम्मेलन आयोजित किया। उन्होंने गांधी की दी गयी हरिजन की अपमानजनक पहचान को चुनौती दिया। तथागत बुद्ध द्वारा दिया गया शब्द बहुजन पहचान पर समाज को अल्पजन से बहुजन बनाने का सामाजिक आंदोलन चलाया। बहुजन शब्द एक विशाल शब्द है। यह शब्द उन्होंने तथागत बुद्ध से प्रभावित होकर लिया था। इस विषय में संवैधानिक रूप से बाबा साहब द्वारा संबिधान मे इस्तेमाल बैकवर्ड क्लास (एससी,एसटी,ओबीसी वर्ग) शब्द, कांशी राम साहब की मदद कर रहा था। बैकवर्ड क्लास (एससी,एसटी,ओबीसी वर्ग) शब्द कानूनी पहचान थी। कांशीराम ने इसे ही नर्इ सामाजिक पहचान बहुजन दिया और समीकरण को उलट दिया कि हम एससी,एसटी,ओबीसी वर्ग,  85 प्रतिशत बहुजन हैं और 15 प्रतिशत शासक जातियां अल्पजन हैं। उन्होंने कहा कि बडी विडम्बना है 85 प्रतिशत वाला हाथ फैलाकर 15 प्रतिशत  वाले से मांग रहा है। इसलिए उन्होंने नारा दिया कि हमें मांगने वाला नहीं देने वाला बनना है और इसके लिए एससी, एसटी, ओबीसी वर्ग और इनसे धर्मांतरित आप्लसंख्यक वर्ग को एक पहचान पर संगठित करने का प्रयास किया और वह एक पहचान थी बहुजन पहचान। हर शब्द का एक संदेश होता है। कांशीराम द्वारा चुना गया बहुजन शब्द कर्इ संदेश दे रहा था

i- हम इस देश में बहुजन हैं अर्थात दुश्मन अल्पजन हैं। 

II- बहुजन बहुसंख्यक हैं और लोकतंन्त्र में तो बहुमत की सरकार होती है यह शब्द हमारे अन्दर शक्ति एवं सम्मान लाता है तो दुश्मन के अन्दर भय।

III- यह शब्द हमें तथागत बुद्ध से जोड़ता है। 


मा. कांशीराम ने कहा कि जो कौम अपना इतिहास नहीं जानती तथा अपने महापुरूषों का आदर और सम्मान नहीं करती है उसका विकास कभी नहीं हो सकता इसलिए उन्होंने बहुजन समाज का इतिहास बताया कि आर्य ब्राह्मण विदेशी हैं और बहुजन समाज इस देश का मूलनिवासी है। 


उन्होंने भारत देश मे बहुजन समाज के महापुरूषों को फिर से स्थापित किया जिसमें राष्ट्रपिता फूले, छत्रपति शाहूजी महाराज, पेरियार रामासामी नायकर, नारायना गुरू, संत कबीर दास, संत रविदास, गुरु घासी दास, विरसा मुण्डा इत्यादि थे। कांशीराम ने पेरियार की बात आगे बढाते हुए कहा कि हमारा आंदोलन सेल्फ रेस्पेक्ट का है अतः यह सेल्फ हेल्प से ही लड़ा जायेगा क्योंकि अगर आप किसी का सहारा लेते हैं तो उसका इशारा भी मानना पडेगा। अतः आंदोलन अपने संसाधनों से ही खड़ा होना चाहिए। कांशीराम ने नारा दिया कि जो बहुजन की बात करेगा वो दिल्ली से राज करेगा और राज प्राप्त होने पर जाति विशेष को नहीं सभी जातियों को बराबर का लाभ मिलेगा और इसके लिए दूसरा नारा दिया कि जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी भागेदारी। 

                
कांशीराम ने कहा कि मैं सम्राट अशोक के विशाल भारत का पुनर्निर्माण चाहता हूं और विदेशी आर्य ब्राह्मण जो घोडे पर बैठकर आये थे अगर उन्होंने अपने आचरण में सुधार नहीं किया तो उनको बाहर भी भेजा जा सकता है।


मान्यवर ने आंदोलन की शुरूआत में ही नौकरी त्याग दिया और अपने लिए स्वयं ही चार शर्तें निर्धारित की .

1 मैं शादी नहीं करूगा।

2 मैं घर नहीं जाउंगा। 

3 मेरी कोर्इ सम्पति नहीं होगी। 

4 मैं अपना पूरा जीवन फूले-अम्बेडकरी आंदोलन के लिए समर्पित करूगा। 


इन शर्तों का पालन कर कांशीराम ने त्याग की एक नर्इ मिशाल प्रस्तुत की और इस त्याग के कारण समाज में उनकी स्वीकार्यता बढी। इसलिए उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 6 दिसम्बर 1973 को बामसेफ, 6 दिसम्बर 1981 को डीएस-4 और 14 अप्रैल 1984 को बीएसपी बनार्इ। 

 


मान्यवर ने बहुजन आंदोलन प्रारम्भ करने से पूर्व आरएसएस, वीएचपी, बीजेपी का भी अध्ययन किया और इसको काउन्टर करने के लिए उन्होंने तीन संगठन बनाये। बामसेफ एक सांस्कृतिक संगठन था जो कि आंदोलन के लिए ब्रेन का काम करता था और इसका उद्देश्य आंदोलन के लिए मानव संसाधन और आर्थिक संसाधन निर्माण करना था और पूरे आंदोलन पर वैचारिक नियंत्रण रखना था। बामसेफ संगठन गैर राजनैतिक (Non Political), गैर धार्मिक (Non Religious), गैर संघर्षात्मक (Non Agitational) था अर्थात यह संगठन आरएसएस के सामान्तर में बनाया गया। दूसरा संगठन उन्होंने डीएस-4 बनाया जो कि संघर्षात्मक (Agitational) संगठन था और इसका उपयोग वही था जो आरएसएस के लिए वीएचपी का है। तीसरा संगठन बीएसपी राजनैतिक संगठन था जैसे कि आरएसएस के लिए बीजेपी है। 


5. मान्यवर से एक छोटी सी भूल:- 
यहां पर मान्यवर से एक छोटी सी गलती हो गयी कि बामसेफ एक गैर राजनैतिक सांस्कृतिक/सामाजिक संगठन था अतः डीएस-4 एवं बीएसपी बनाने के पहले उनको बामसेफ को किसी योग्य उत्तराधिकारी को सौंप देना चाहिए था या फिर यदि उन्हे बामसेफ चलाना चाहिए था और डीएस-4 एवं बीएसपी किसी योग्य व्यक्ति को सौप देना चाहिए था। क्योंकि उन्होने स्वयं बामसेफ को गैर राजनैतिक/ गैर संघर्षात्मक माना था तो इसका नेतृत्व एक राजनैतिक व्यक्ति कैसे कर सकता था? उनको एक मेथडोलॉजी विकसित करनी चाहिए थी जिससे कि बामसेफ, डीएस-4 और बीएसपी के बीच आन्तरिक संबंध और सहयोग चलता रहे और तीनों संगठनों का स्वतंत्र स्वरूप भी बना रहे। तीनों संगठन समानान्तर में एक साथ परस्पर सहयोग एवं संयोजन के साथ अपने–अपने क्षेत्र सामाजिक, संघर्षात्मक एवं राजतीतिक मे चलते रहे और विकसित होते रहे। परन्तु मान्यवर ने बामसेफ, डीएस-4 और बीएसपी तीनों ही संगठनों का स्वयं नेतृत्व करते रहे और इस तरह एक्स, एक्स, एक्स मॉडल पर कार्य किया जबकि जहां से वे मॉडल उठाकर लाये थे वहां एक्स, वार्इ, जेड मॉडल कार्यरत था अर्थात आरएसएस, वीएचपी, बीजेपी तीनों संगठनों के मुखिया अलग-अलग हैं न कि एक व्यक्ति है और तीनों संगठनो मे वैचारिक रूप से एकता है। तीनों का लक्ष्य एक है, लेकिन तीनों का स्वतंत्र स्वरूप बरकरार है। 


आगे चलकर उन्होंने केवल राजनैतिक संगठन को ही तवज्जो दिया और डीएस-4 को भी समाप्त कर दिया। जिस बामसेफ को वे ब्रेन बैंक बनाना चाहते थे और जिसके बौद्धिक नियंत्रण में पूरे आंदोलन को चलाना चाहते थे, उससे अपने आपको पूर्णतः अलग कर लिया लेकिन बाद में आवश्यकता पड़ने पर सैडो बामसेफ बनाकर गैर राजनैतिक एवं सांस्कृतिक संगठन को राजनैतिक विंग के अधीन कर दिया। Action (क्रियान्वयन) हमेशा Idea(विचार) के अधीन और उसके बाद होता है जबकि उन्होंने खुद बाबा साहब की यह बात मानी थी कि सामाजिक आंदोलन, राजनैतिक आंदोलन से आगे-आगे चलना चाहिए (Social reform must precede the Political reform) और कहा था कि जिस समाज की गैर राजनैतिक जड़ें मजबूत नहीं होंगी उसकी राजनीति सफल नहीं हो सकती। क्योंकि मान्यवर की एक बहुत बड़ी पर्सनैलिटी विकसित हो चुकी थी। 

 

इससे मूलनिवासियों में संगठन न विकसित होकर व्यक्ति विकसित हो गया और जो संगठन बना वह व्यक्ति केन्द्रीत संगठन था। 1992 तक भारत में सभी अन्य पिछडी जातियों के नेताओं को अपनी अहमियत और ताकत का एहसास नहीं था और सभी कांग्रेस, भाजपा और जनता दल के सवर्ण नेताओं के पिछलग्गू बनकर राजनीति कर रहे थे। परन्तु भारत की राजनैतिक पटल पर मान्यवर के उदय के बाद पिछडे वर्ग के नेताओं में एक चेतना आर्इ कि यदि अनुसूचित जाति के लोग अपने दम पर राजनीति कर सकते हैं तो हम क्यों नहीं- इसके बाद ही माननीय मुलायम सिंह यादव ने अपने दम पर समाजवादी पार्टी, माननीय शरद पवार ने एनसीपी एवं मा. लालू प्रसाद यादव ने आरजेडी, नितीश कुमार ने समता पार्टी बनार्इ। लेकिन इन सभी लोगों ने मान्यवर को अपना रोल मॉडल मानकर व्यक्ति केन्द्रित संगठन ही बनाये इसका दुष्परिणाम हुआ कि मूलनिवासियों में छोटे छोटे तानाशाह पैदा हो गये जो आपस मे एक दूसरे से संवाद भी नहीं करते आपस मे एक दूसरे को सहयोग करना तो बहुत दूर की बात है। इन छोटे छोटे तानाशाह लोगों को मनुवादी मीडिया सुर्पीमो कहकर संबोधित करता है। जब वह इनको सुर्पीमो कहता है तो ये बहुत प्रसन्न होते हैं जबकि प्रजातंत्र में सुर्पीमो संबोधन एक व्यंग पूर्ण आलोचना है। अब तो मूलनिवासियों के कई सामाजिक संगठनो ने भी सुर्पीमो सिस्टम को अपना लिया है। 

                
मान्यवर ने जब बामसेफ एवं डीएस-4 को समाप्त कर दिया तो उन्हें अपने राजनैतिक संगठन के लिए शिक्षित एवं प्रशिक्षित मानव संसाधन मिलना बंद हो गया। जो लोग 1984 के पहले के प्रशिक्षित थे उन्हीं के बल पर राजनैतिक आंदोलन आगे बढा। पहले यह उम्मीद थी कि बामसेफ, डीएस-4 राजनैतिक विंग (बीएसपी) के लिए फीडर कैडर का काम करेगा और बीएसपी के लिए प्रशिक्षित एवं योग्य मानव संसाधन उपलब्ध कराएगा करेंगे परन्तु वैसा नहीं हुआ। इसलिए राजनैतिक आंदोलन को रॉ-हैण्ड संसाधन समाज से उठाना पड़ा। इसलिए विचारधारा में इतनी गिरावट आयी और बाहर से आए कार्यकर्ताओं के भ्रष्टाचार की शिकायत भी बढ़ी और इससे आंदोलन बदनाम हुआ। 

 

6.हमने सबक लिया है:- 
हमने बामसेफ को फिर से धारा के विपरीत खड़ा किया यद्द्पि कि इसे खड़ा करने में बड़ी दिक्कतें आर्इं। हमने मान्यवर के आंदोलन का निरपेक्ष मूल्यांकन किया और जहां उनकी अच्छाइयों से प्रेरणा लिया वहीं हमने गलतियों से सबक लिया है, क्योंकि हम मिशन को जहां मान्यवर ने छोडा था उसके आगे ले जाना चाहते हैं। इसलिए हमने निम्न सुधार किए हैं.. 

 

1॰ बामसेफ एक सांस्कृतिक संगठन रहे और इसके अध्यक्ष का कार्यकाल दो वर्ष का हो, उसके बाद नये व्यक्ति को अवसर दिया जाये, जिससे कि व्यक्ति न विकसित होकर संगठन विकसित हो। 


2॰ डीएस-4 एजीटेशनल विंग का कार्य करे और इसका अध्यक्ष बामसेफ के अध्यक्ष के अलावा दूसरा व्यक्ति हो और दोनों संगठन साथ-साथ स्वतंत्र रूप से चलते रहें। 


3॰ कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण के लिए एक दिवसीय एवं दो दिवसीय पाठयक्रम तैयार किया जाये। जिसके अनुसर प्रत्येक प्रदेश में कर्इ प्रशिक्षक तैयार किये जायें, जो प्रशिक्षण का कार्य करें।

 

4॰ संगठन में आन्तरिक लोकतंत्र का समावेश किया जाये। और संगठन को व्यक्ति वाद के नियन्त्रण से निकाल कर उसका संस्थायीकरण किया जाये।


मान्यवर के मिशन को आगे बढ़ाना ही उनको सच्ची श्रद्धांजली होगी। उनकी एक त्रुटि या भूल के बावजूद भी, उन्होंने बाबासाहब के रुके हुए कारवां को आगे बढाकर मूलनिवासी बहुजन समाज में जागृति फैलाने का जो कार्य किया उससे करोडों लोगों के अन्तर्मन से यह नारा अपने-अपने आप प्रस्फुटित हुआ 

 

कांशीराम तेरी नेक कमाई - तूने सोती कौम जगाई 
मूलनिवासी बहुजनों के इस नायक को हम सादर नमन करते हैं।

 

(लेखक सामाजिक कार्यकर्ता हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

बीजेपी नेता ने उठाया अवैध खनन का मुद्दा, पार्टी ने थमा दिया कारण बताओ नोटिस

बीजेपी की महिला नेता की गुंडई, सिपाही का कॉलर पकड़ा और फिर..

राष्ट्रीय महिला आयोग ने महिलाओं की सुरक्षा और अधिकारों संबंधित राज्य महिला आयोगों के साथ की बैठक 

दूरदर्शन की बनाई 14 लघु फिल्म को सूचना प्रसारण मंत्रालय ने किया जारी 

लखनऊः प्रदेश में जातीय संघर्ष और महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार के खिलाफ छात्रों का हल्ला बोल

ऊंची जाति की लड़की से शादी करने वाले दलित युवक के साथ दरिंदों ने क्या किया, जानकर सहम जाएंगे

मंदिर में महिलाओं के साथ पुजारी करता था ऐसे-ऐसे गंदे कारनामे...

लड़कियों ने मनु और तुलसीदास को दिखाया ठेंगा, बारहवीं में टॉपर

सुशील मोदी के करप्शन पर तेजस्वी यादव का बड़ा खुलासा

भाजपा मंत्री को अस्पताल की हालत अच्छी दिखाने के लिए मरीजों को भगाया

'गाय-चाय और दंगा-गंगा यही हैं मोदी सरकार के तीन साल की उपलब्धि'

डिप्टी सीएम के आने से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, पथराव कर दहशत फैलायी

Top News

बीजेपी की महिला नेता की गुंडई, सिपाही का कॉलर पकड़ा और फिर..

ऊंची जाति की लड़की से शादी करने वाले दलित युवक के साथ दरिंदों ने क्या किया, जानकर सहम जाएंगे

लड़कियों ने मनु और तुलसीदास को दिखाया ठेंगा, बारहवीं में टॉपर

सुशील मोदी के करप्शन पर तेजस्वी यादव का बड़ा खुलासा

'गाय-चाय और दंगा-गंगा यही हैं मोदी सरकार के तीन साल की उपलब्धि'

डिप्टी सीएम के आने से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, पथराव कर दहशत फैलायी

एक दर्जन से ज्यादा दरिंदों के हाथों नोची जाती इस लड़की का वीडियो देखकर कांप जाएगी आपकी रूह

मुसलमान होने और बीफ खाने के शक पर जेवर की महिलाओं से किया गया बलात्कार?