Switch to English

National Dastak

x

टेम्परेचर कम होने के कारण बढ़ जाता है हार्ट अटैक का रिस्क !

Created By : एजेंसिया Date : 2017-01-11 Time : 17:16:26 PM


टेम्परेचर कम होने के कारण बढ़ जाता है हार्ट अटैक का रिस्क !

नई दिल्ली। सर्दियों में शरीर के टेम्परेचर में गिरावट और विटामिन डी के लेवल में कमी के साथ-साथ ब्‍लड के डार्क होने से हार्ट अटैक का रिस्‍क बढ़ जाता है।

 

इस मामले में एक्‍सपर्ट के का कहना है कि, विंटर्स के दौरान टेम्परेचर में अचानक गिरावट के अलावा, तेज हवा और बारिश अक्सर बॉडी के टेम्परेचर को कम कर देते हैं। इसके कारण ब्‍लडप्रेशर अचानक बढ़ जाता है जिससे हार्ट अटैक का रिस्‍क बढ़ जाता है।

 


इस मामले में हार्ट स्‍पेशलिस्‍ट का कहना है कि 40 वर्ष की उम्र से ऊपर के व्यक्तियों को ऐसे मौसम में हार्ट अटैक का रिस्‍क अधिक होता है। हाई ब्‍लडप्रेशर, मोटापा, बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज या बहुत ज्‍यादा स्‍मोकिंग विंटर्स के दौरान हार्ट अटैक के रिस्‍क को बढ़ा देते हैं।

 


स्पेशलिस्ट ने बताया कि हार्ट अटैक हमेशा वार्निंग के संकेत के साथ नहीं आता है। इसलिए सर्दियों के दौरान नियमित हेल्‍थ चेकअप कराना बहुत जरूरी है। ब्‍लड में ग्लूकोज और कोलेस्ट्रॉल के लेवल का ध्यान रखा जाना चाहिए। इसके अलावा शराब के बहुत ज्‍यादा सेवन और जंक फूड से बचना चाहिए।

 

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

दिल्ली यूनिवर्सिटी में एबीवीपी की सरेआम गुंडागर्दी

20 साल बाद कोर्ट को पता चला फर्जी था भोजपुर एनकाउंटर

गर्व से कहो, हम गधे हैं!

मुझे प्रधानमंत्री का कुत्ता कहा गया- तारिक फतेह

उमा भारती के गढ़ में सबसे मजबूत नजर आ रही BSP!

झारखंडवासियों को शराब पिला कर लूटना चाहती सरकारः हेमंत सोरेन

भाजपा ने विधायक ने मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा

मोदी के श्मशान वाले बयान की मायावती ने खोली पोल

आर्थिक तंगी और कर्ज ना उतार पाने के कारण किसानों ने की आत्महत्या

सपा को समर्थन करने पर नीतीश ने जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष को निकाला

पांच सालों में मायावती ने कराए खूब काम, मीडिया को दिखीं सिर्फ मूर्तियां

प्ले स्कूल में 3 साल की छात्रा के साथ रेप