Switch to English

National Dastak

x

IIMC प्रशासन की तानाशाही, बगैर नोटिस के पत्रकारिता का छात्र सस्पेंड किया

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-11 Time : 19:19:39 PM


IIMC प्रशासन की तानाशाही, बगैर नोटिस के पत्रकारिता का छात्र सस्पेंड किया

नई दिल्ली। भारत के सर्वोच्च संस्थान भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC)में तानाशाही का दौर जारी है। संस्थान में ताज़ा मामला रोहिन वर्मा का है। रोहिन आईआईएमसी में हिंदी पत्रकारिता के स्टूडेंट हैं। उन्हें संस्थान से सस्पेंड कर दिया गया है। दरअसल यह सजा उन्हें आवाज उठाने की मिली है। आवाजें भी उनके पक्ष में उठाईं जिन्हें सरकार दबाना चाहती है। 


आईआईएमसी में बैठे भगवा समर्थकों को उनकी लिखी बातें रास नहीं आईं। 9 जनवरी को रोहिन को संस्थान से बाहर कर देने का फरमान जारी कर दिया गया। जिससे अब स्पष्ट हो गया है कि आईआईएमसी में भगवाकरण की आहट साफ़ दिखाई दे रही है।

 

 

पढ़ें- शर्मनाक: IIMC ने दलित कर्मचारियों का पक्ष लेने पर शिक्षक को निकाला


दरअसल रोहिन वर्मा को ऑनलाइन कंटेंट की वजह से निकाला गया है। यह कंटेंट चेक करने पर आप पाएंगे कि रोहन आम दिनचर्या से लेकर अपने आसपास हो रहे घटनाक्रमों के बारे में लिखते रहे हैं, जोकि आईआईएमसी में सिखाया भी जाता है। साथ ही उनके लेख 'द हूट; और 'न्यूज़ लॉन्ड्ररी' में छपते थे। अपने इन लेखो में रोहिन संविधान में दिए गए अधिकारों की बात करते। 

 

Image may contain: text


आईआईएमसी में ये पहली बार नहीं है जब अधिकारों की मांग को लेकर किसी को हटाया गया हो। इससे पहले संस्थान में काम कर रहे 25 मजदूरों को बाहर किया था। उन मजदूरों का समर्थन जब संस्थान के शिक्षक नरेंद्र सिंह यादव ने किया तो उन्हें भी नौकरी से बाहर कर दिया गया। 

 

पढ़ें- किताबों से भी डर रही भाजपा सरकार, दिलीप मंडल की किताब को IIMC के पाठ्यक्रम से हटाया


हाल ही में देश के सबसे पड़े पत्रकारिता संस्थान ने वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल की किताब 'मीडिया को अंडरवर्ल्ड' को भी पाठ्यक्रम से हटा दिया गया था। ये किताब वहां आईआईएमसी सहित कई संस्थानों की रीडिंग्स में शामिल है। हाल में घटित इस सभी घटनाओं से मुँह नहीं मोड़ा जा सकता है। ये घटनाएं इस बात की तस्दीक करती हैं कि भारतीय जनसंचार संस्थान में भगवाकरण बड़े पैमाने पर अपने पांव पसार रहा है।

 

इस मामले पर वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने लिखा है....

 

प्रचारक ने कहा- लडका ख़तरनाक है। इसे इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्यूनिकेशन यानी IIMC से हटाओ। इसे लाइब्रेरी में तो क़तई न घुसने दो।
क्यों?
क्यों क्या? वह लिखता है। पत्रकार है और लिखता है। The Hoot और News Laundry में छपता है। जहाँ IIMC के सबसे बड़े अफ़सर और कई प्रोफ़ेसर तक अपना लिखा नहीं छपवा सके।
नाम रोहिन वर्मा है।
मैंने लड़के की टाइम लाइन देखी। ऐसा क्या लिख दिया बंदे ने। ख़ास कुछ नहीं है। यही कुछ संस्थान की बातें। सब संविधान के मौलिक अधिकार के दायरे में। अपनी माँ के साथ सेल्फी। कुछ खान पान की तस्वीरें। कुछ JNU वाले नजीब की अम्मा।
एक ही ख़तरनाक चीज़ नज़र आई।
सावित्रीबाई फुले। वह पत्र जो सावित्रीबाई ने ज्योतिबा फुले को लिखे थे।

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

दिल्ली यूनिवर्सिटी में एबीवीपी की सरेआम गुंडागर्दी

20 साल बाद कोर्ट को पता चला फर्जी था भोजपुर एनकाउंटर

गर्व से कहो, हम गधे हैं!

मुझे प्रधानमंत्री का कुत्ता कहा गया- तारिक फतेह

उमा भारती के गढ़ में सबसे मजबूत नजर आ रही BSP!

झारखंडवासियों को शराब पिला कर लूटना चाहती सरकारः हेमंत सोरेन

भाजपा ने विधायक ने मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा

मोदी के श्मशान वाले बयान की मायावती ने खोली पोल

आर्थिक तंगी और कर्ज ना उतार पाने के कारण किसानों ने की आत्महत्या

सपा को समर्थन करने पर नीतीश ने जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष को निकाला

पांच सालों में मायावती ने कराए खूब काम, मीडिया को दिखीं सिर्फ मूर्तियां

प्ले स्कूल में 3 साल की छात्रा के साथ रेप