Switch to English

National Dastak

x

नोटबंदी के बारे में जवाब नहीं दे पा रहे मोदी सरकार और RBI, एक-दूसरे पर फोड़ रहे हैं ठीकरा

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-10 Time : 12:49:02 PM


नोटबंदी के बारे में जवाब नहीं दे पा रहे मोदी सरकार और RBI, एक-दूसरे पर फोड़ रहे हैं ठीकरा

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने 8 नवंबर 2016 को अचानक नोटबंदी की घोषणा कर दी, जिसके कुप्रभाव से देश में कई लोगों की जानें चली गईं। अब जब नोटबंदी का फैसला असफल हो गया तो केंद्र सरकार और आरबीआई एक दूसरे के ऊपर ठीकरा फोड़ रहे हैं।


रिजर्व बैंक ने बताया कि 500 और 1000 रुपये के नोटों को वापस लेने का फैसला सरकार के कहने पर लिया गया था। पिछले महीने संसदीय पैनल को आरबीआई ने यह जानकारी दी थी। जबकि अभी तक सरकार कह रही थी कि नोटबंदी का फैसला आरबीआई की तरफ से आया था। नोटबंदी के आठ दिन बाद राज्‍य सभा में नोटबंदी पर बहस के दौरान केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि नोटबंदी का फैसला आरबीआई के बोर्ड ने लिया था। गोयल ने कहा था, ”रिजर्व बैंक के बोर्ड ने यह निर्णय लिया। इसको सरकार के पास भेजा और सरकार ने इस निर्णय की सराहना करते हुए कैबिनेट ने इसे मंजूरी दी कि 500 और 1000 के पुराने नोटों को रद्द किया जाए, नए नोट आए।”

 

पढ़ें- मोदी सरकार की उम्मीद को बड़ा झटका, बैकों में वापस आए 14.50 लाख करोड़ के पुराने नोट

 


आपको बता दें कि वित्‍त विभाग से जुड़ी वीरप्‍पा मोइली की अध्‍यक्षता वाली संसदीय समिति में 22 दिसंबर को आरबीआई ने नोटबंदी को लेकर सात पन्‍नों का नोट जमा कराया था। इसमें बताया गया था कि सरकार ने सात नवंबर 2016 को रिजर्व बैंक को सलाह दी कि आतंकवाद की फंडिंग, काले धन और जाली नोटों की समस्‍या को कम करने के लिए 500 और 1000 रुपये के बड़े नोटों की कानूनी मान्‍यता वापस ली जा सकती है।

 

पढ़ें-मोदीजी की नोटबंदी अभी रुपये को और गर्त में ढकेलेगी- रिपोर्ट


पत्र में यह भी कहा गया कि नकदी कालेधन में बड़ी भूमिका निभाती है। कालेधन को मिटाने से समानांतर अर्थव्‍यवस्‍था भी खत्‍म हो जाएगी और इससे भारत की विकास पर सकारात्‍मक असर पड़ेगा। पिछले पांच सालों में 500 और 1000 रुपये के नोटों का चलन भी बढ़ा है। इससे जाली नोटों की घटनाओं में भी बढ़ोत्‍तरी हुई है। बहुत सारी खबरें हैं कि आतंकवाद और मादक पदार्थों के जरिए बहुत सारी नकली नोट का उपयोग हो रहा है। इसलिए सरकार इन नोटों को बंद करने की सिफारिश करती है। भारत सरकार की ओर से कहा गया कि इन मामलों को पर त्‍वरित काम किया जाए।”

 


इस नोट के अनुसार, इसके अगले दिन आरबीआई सेंट्रल बोर्ड की मीटिंग हुई और काफी विचार के बाद फैसला लिया गया कि 500 और 1000 रुपये के नोटों को वापस लिया जाएगा। सरकार ने इन सुझावों को माना और नोट वापस लेने का फैसला लिया। उसी दिन शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन दिया और नोटबंदी का ऐलान कर दिया। 

 

पढ़ें- नोटबंदी पर उर्जित पटेल जवाब नहीं दे पाए तो मोदी को तलब करेगी लोक लेखा समिति


आरबीआई ने बताया कि जब नए छपे नोटों का स्‍टॉक जरुरी सीमा तक पहुंच जाता है तो नोटों को वापस लेने का फैसला किया जाता है। हालांकि आठ नवंबर 2016 का आरबीआई का अपना डाटा बताता है कि उस समय उसके पास तिजोरियों में केवल 94,660 करोड़ रुपये के 2000 रुपये के नोट थे। यह संख्‍या बाजार से वापस लिए गए 15 लाख करोड़ रुपये का केवल छह प्रतिशत थी। 
 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

दलितों को धोखा देकर मुख्यमंत्री बने केसी राव, सरकारी संपत्ति से मंदिर में किया 5 करोड़ का दान

अपर कास्ट अध्यापक ने दलित छात्र के तोड़े दोनों हाथ

दलित अत्याचार का विरोध करने की वजह से निशाना बनाई जा रहीं चंद्रकला मेघवाल?

नेशनल दस्तक की ग्राउंड रिपोर्ट: अखिलेश राज के दंगों का दर्द भूले नहीं है लोग

सिर्फ दो लोगों के कहने पर जांच समिति ने रोहित वेमुला को साबित कर दिया ओबीसी

चोरी के शक में मासूम बच्चों को गर्म तेल में हाथ डालकर साबित करनी पड़ी बेगुनाही

स्मृति ईरानी को बड़ी राहत, पर्दे में ही रहेगी उनकी डिग्री

जेडीयू विधायक पर कृषि विश्वविद्यालय में गलत नियुक्ति का मामला दर्ज

RSS पर वरुण गांधी का बड़ा हमला, भाजपा की दलित विरोधी मानसिकता की खोली पोल

बिखरने लगी सपा, भाजपा का प्रचार करने पर पार्टी से निकालीं रंजना वाजपेयी

अमर सिंह ने खोली सपा के सियासी ड्रामे की पोल, मुलायम सिंह यादव ने लिखी थी स्क्रिप्ट

शरणम् गच्छामि को रिलीज करने की मांग को लेकर सेंसर बोर्ड के ऑफिस में घुसे दलित स्टूडेंट्स

Top News

दलितों को धोखा देकर मुख्यमंत्री बने केसी राव, सरकारी संपत्ति से मंदिर में किया 5 करोड़ का दान

दलित अत्याचार का विरोध करने की वजह से निशाना बनाई जा रहीं चंद्रकला मेघवाल?

नेशनल दस्तक की ग्राउंड रिपोर्ट: अखिलेश राज के दंगों का दर्द भूले नहीं है लोग

सिर्फ दो लोगों के कहने पर जांच समिति ने रोहित वेमुला को साबित कर दिया ओबीसी

स्मृति ईरानी को बड़ी राहत, पर्दे में ही रहेगी उनकी डिग्री

RSS पर वरुण गांधी का बड़ा हमला, भाजपा की दलित विरोधी मानसिकता की खोली पोल

बिखरने लगी सपा, भाजपा का प्रचार करने पर पार्टी से निकालीं रंजना वाजपेयी

अमर सिंह ने खोली सपा के सियासी ड्रामे की पोल, मुलायम सिंह यादव ने लिखी थी स्क्रिप्ट