National Dastak

x

औरंगाबाद: आरक्षण के लिए मुस्लिमों ने निकाला मौन जुलूस, उमड़े लाखों लोग

Created By : एजेंसिया Date : 2017-01-07 Time : 17:49:37 PM

औरंगाबाद: आरक्षण के लिए मुस्लिमों ने निकाला मौन जुलूस, उमड़े लाखों लोग

औरंगाबाद। मुस्लिम समाज को आरक्षण की मांग को लेकर स्थानीय समाज की ओर से निकाले गए मौन जुलूस में भारी संख्या में समुदाय के लोगों ने शिरकत की। पूर्व में तय कार्यक्रम के अनुसार शुक्रवार को आमखास मैदान से मौन जुलूस विभिन्न मार्गों से होते हुए संभागीय आयुक्त कार्यालय पहुंचा। जुलूस में काफी संख्या में युवा उपस्थित थे तथा अपने हाथों में तिरंगा और नारे लिखे बैनर लिए हुए थे।


नारों में कह रहे हैं सरकार को, हक़ दे दे हक़दार को, आरक्षण हमारा नारा है, भारत देश हमारा है, एक ही मिशन मुस्लिम आरक्षण, शरीयत में हस्तक्षेप नहीं चाहिए, नजीब कहाँ है आदि मांगों को दर्शाया गया था। इस विशेष मौके के लिए स्थानीय शायर शमीम खान ने गीत लिखा था जो लोगों को आकर्षित कर रहा था।गीत के बोल थे कि बढे चलो चलो।

 

पढ़ें- साक्षी महाराज ने मुस्लिमों को लेकर दिया विवादित बयान, चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

 

सियासत डॉट कॉम की खबर के अनुसार, मौन जुलूस शहर के अलग अलग रास्तों से होते हुए संभागीय आयुक्त कार्यालय पर समाप्त हुआ। संभागीय आयुक्त डॉ. पुरुषोत्तम को जुलूस के जिम्मेदारों ने अपनी मांगों संबंधी ज्ञापन सौंपा जिसमें 15% आरक्षण के साथ अन्य मांगों का उल्लेख था। ज्ञापन में यह भी उल्लेख किया है कि प्रदेश में मुसलमान आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े हैं, ऐसे में उनको आरक्षण दिया जाए। राज्य सरकार मुसलमानों के लिए आरक्षण प्रदान करने में विफल रही है।

 

जुलूस में शहर के सामाजिक संघटनों के पदाधिकारियों के साथ ही नामी हस्तियों, नेताओं एवम युवाओं और बुजुर्गों ने शिरकत की। आमखास मैदान में एक मंच बनाया गया था जहाँ वक्ताओं ने मौजूद लोगो को संबोधित किया। हालांकि कोई भी बड़ा वक्ता मंच पर नहीं बैठा।  


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

चुनाव आयोग से मुलायम सिंह को झटका, अखिलेश को मिली ‘साइकिल’

'दंगल गर्ल' जायरा वसीम खान के समर्थन में आए लोग, ट्रोलर्स को हड़काया

समाजवादी पार्टी के दो-दो अध्यक्ष?

'शिक्षा कोई कमोडिटी नहीं है'

सड़क सुरक्षा मामले में सुप्रीम कोर्ट की राज्यों को कड़ी फटकार

प्रोटीन की कमी से बढ़ता है डिप्रेशन, हो सकता है गर्भावस्था के लिए खतरनाक

जोड़ियां बनाने में मर्दवादी क्यों है ईश्वर?

महबूबा मुफ्ती से मुलाकात के बाद दंगल गर्ल जायरा खान ने मांगी मांफी

लेनोवो स्मार्टफोन की कीमतों में हुई 3 हजार रुपए की गिरावट

छात्र निष्काशन मामले में आईआईएमसी के डीजी का अजीब तर्क

'हनुमान चालीसा' के सहारे इस हाइवे पर सफर करते हैं लोग

IIMC के निष्काषित छात्र की मां ने लिखी DG के नाम चिट्ठी