Switch to English

National Dastak

x

'समान नागरिक संहिता' पर नीतीश कुमार ने मोदी सरकार को दिखाया आईना

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-11 Time : 17:00:14 PM


 'समान नागरिक संहिता' पर नीतीश कुमार ने मोदी सरकार को दिखाया आईना

नई दिल्ली। हाल ही में नीतीश कुमार और पीएम मोदी के बीच जारी दोस्ताना से राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई थी। राजनीतिज्ञ विशेषज्ञ कयास लगा रहे थे इस दोस्ताना से मोदी सरकार को फायदा होगा और वो अपने विवादित बिल ‘कॉमन सिविल कोड’ पर  जदयू का सहयोग ले लेगी। लेकिन आज बिहार सरकार ने इन कयासों पर विराम लगाते हुए ये साफ कर दिया है कि वो फिलहाल मोदी सरकार को ऐसी कोई सहायता नहीं करने वाली है।


बिहार सरकार फिलहाल समान नागरिक संहिता के पक्ष में नहीं हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को बिहार कैबिनेट में इस पर चर्चा कर साफ़ कर दिया कि फ़िलहाल केंद्र को सभी संबंधित पक्षों से और अधिक विचार-विमर्श करना चाहिए।

 

पढ़ें- नीतीश और मोदी की जुगलबंदी में 'पकौड़ी और जलेबी का कनेक्शन'- लालू

 


बिहार सरकार ने केंद्र की प्रश्नावली पर जवाब देने के बजाय केंद्र के राज्यों के विचार जानने के इस तरीके को गलत मानते हुए उलटे सलाह दे डाली कि पहले पक्षों से राय लेकर तब कोई कदम उठाना चाहिए।  

 

पढ़ें- मोदीजी को रिश्वत वाली डायरी को सबूत मानने से इँकार, टैक्स पैनल ने सहारा को दी छूट


हालांकि नीतीश कुमार का समान नागरिक संहिता पर ये पुरानी लाइन है लेकिन, हाल के दिनों में नोटबंदी को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समर्थन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बिहार में लागू किए गए शराबबंदी के समर्थन के बाद भले ही जो भी राजनैतिक कयास लगाया जा रहा हो उसके बाद ये फैसला काफी महत्वपूर्ण है। खासकर राज्य के महागठबंधन के सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के मंत्री और विधायक नीतीश कुमार के इस स्टैंड से अब राहत की सांस ले रहे हैं।

 

आपको बता दें कि नीतीश कुमार ने 1996 में जब बीजेपी के साथ तालमेल किया था तब दोनों के बीच इस बात पर सहमति बनी थी कि बीजेपी चुनाव में या उसके बाद आर्टिकल 370 से छेड़छाड़ नहीं करेगी। समान नागरिक संहिता लाने की कोशिश नहीं करेगी और अयोध्या में राम मंदिर के मसले पर कोर्ट का निर्णय मानेगी।

 

 

पढ़ें- 'भगवान से प्रार्थना है नए साल में मोदीजी को सद्बुद्धि मिले'


दरअसल राज्य सरकार को आपत्ति केंद्र की प्रश्नावली से थी जिसमें हर मुद्दे पर हां या ना में जवाब मांगा गया था। ये प्रश्नावली राष्ट्रीय विधि आयोग के अध्यक्ष बीएस चौहान ने पिछले साल अक्टूबर महीने में 16 बिंदुओं में भेजी थी। लेकिन, नीतीश सरकार ने विधि विभाग के सलाह पर संबंधित कानून में संशोधन की इस प्रश्नावली पर आधारित तरीके को खारिज कर दिया है।


हालांकि, कैबिनेट की बैठक में उन सारे 16 सवालों के बारे में भी जानकारी दी गई। बिहार में समान नागरिक सहिंता पर महागठबंधन के तीनों दलों में एक विचार हैं और इन दलों का मानना है कि फ़िलहाल केंद्र द्वारा इसे थोपा नहीं जाना चाहिए।

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

दिल्ली यूनिवर्सिटी में एबीवीपी की सरेआम गुंडागर्दी

20 साल बाद कोर्ट को पता चला फर्जी था भोजपुर एनकाउंटर

गर्व से कहो, हम गधे हैं!

मुझे प्रधानमंत्री का कुत्ता कहा गया- तारिक फतेह

उमा भारती के गढ़ में सबसे मजबूत नजर आ रही BSP!

झारखंडवासियों को शराब पिला कर लूटना चाहती सरकारः हेमंत सोरेन

भाजपा ने विधायक ने मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा

मोदी के श्मशान वाले बयान की मायावती ने खोली पोल

आर्थिक तंगी और कर्ज ना उतार पाने के कारण किसानों ने की आत्महत्या

सपा को समर्थन करने पर नीतीश ने जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष को निकाला

पांच सालों में मायावती ने कराए खूब काम, मीडिया को दिखीं सिर्फ मूर्तियां

प्ले स्कूल में 3 साल की छात्रा के साथ रेप