National Dastak

x

सेना कैंप के पास रह रहे लोगों का बड़ा खुलासा- अधिकारी हमें आधे दामों में बेचते हैं BSF का सामान

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-11 Time : 11:41:07 AM

सेना कैंप के पास रह रहे लोगों का बड़ा खुलासा- अधिकारी हमें आधे दामों में बेचते हैं BSF का सामान

नई दिल्ली। 9 जनवरी को फेसबुक पर एक वीडियो शेयर किया गया था। उसमें बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव ने अफसरों पर सेना का राशन बेच देने का आरोप लगाया था। इसके साथ ही बहादुर ने कुछ वीडियो पोस्ट करके दिखाया था कि जवानों को खाने-पीने के लिए ठीक खाना नहीं दिया जाता। 


उन्होंने कहा था कि सरकारें उनके लिए काफी कुछ करती हैं लेकिन सेना के अफसर आने वाले राशन को मार्केट में बेच देते हैं। उन्होंने कहा था कि नाश्ते  में उन्हें केवल चाय और एक जला हुआ पराठा मिलता है। उन्होंने दाल रोटी की वीडियो पोस्ट करके दिखाया था कि दाल के नाम पर सिर्फ पानी दिया जाता है।

 

पढ़ें- अफसर बेच खाते हैं हमारा राशन, कैसे करें देश की रक्षाः एक जवान का दर्द

 


इस मामले ने एक नया मोड़ लिया है और अब सेना के जवान के आरोप सच साबित हो रहे हैं। श्रीनगर में सुरक्षा बलों के कैंप के आस-पास रहने वाले लोगों ने खुलासा किया है कि सेना के कुछ अधिकारियों से उन्हें मार्केट से आधे रेट में सामान मिल जाता है। लोगों ने बताया कि अधिकारियों से उन लोगों को पेट्रोल, डीजल के साथ-साथ खाने के कुछ सामान भी मार्केट से आधे रेट में मिल जाते हैं। खाने के सामान में चावल, मसाले जैसी चीजें शामिल हैं। इसके साथ-साथ सब्जियां तक कैंप के पास रह रहे लोगों को सस्ते में बेच दी जाती हैं। 

 

पढ़ें- 'पीएम मोदी ने जेबकतरे की तरह जनता का पैसा ले लिया'

 

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, ये बातें श्रीनगर के हमहमा में बने बीएसएफ हेडक्वॉटर के आसपास रहने वाले लोगों से बातचीत के बाद सामने आई हैं। वह हेडक्वॉटर श्रीनगर एयरपोर्ट के पास ही है। 

 

 

पढ़ें- 'जली रोटी का सच उजागर करने वाले BSF के जवान को सम्मानित करने की माँग'


इसके अलावा कैंप के बाहर फर्नीचर की दुकान खोलकर बैठे एक शख्स ने तो यह भी कहा कि सेना के जिन लोगों के जिम्मे फर्नीचर खरीदने की जिम्मेदारी होती है वह कमीशन लेकर उन लोगों को ऑर्डर देते हैं इसके अलावा पैसों के लिए सामान की क्लॉलिटी से भी समझौता करने को तैयार हो जाते हैं। उस शख्स ने यह भी दावा किया कि सेना में ई-टेंडर का कोई सिस्टम ही नहीं है।

 

पढ़ें- BSF के जवान तेज़ बहादुर यादव के नाम दिलीप मंडल की चिट्ठी


इन बातों के सामने आने के बाद बीएसएफ की 29वीं बटालियन के जवान तेज बहादुर यादव की बातें सच लगने लगी हैं। यह हाल सिर्फ बीएसएफ का नहीं है। सीआरपीएफ के कुछ अधिकारियों का भी यही हाल है।

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

मोहसिन शेख हत्याकांड में मुंबई हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ SC में अपील करेंगे परिजन

पटना में छात्रों ने किया जातिगत-वर्णगत भेदभाव के खिलाफ संघर्ष का ऐलान

रोहित वेमुला को इंसाफ के लिए मार्च निकाल रहे छात्रों पर पुलिस का कहर

नोटबंदी से कालाधन नहीं रुकेगा, जिससे रुकेगा वह सरकार ने किया ही नहीं- रिपोर्ट

भारत में 19 जनवरी को होगा लॉन्च Xiaomi Redmi Note 4

चरखे से हटाने के बाद अब गांधीजी की मूर्तियों की बारी!

मोटापे की गिरफ्त में 76 फीसदी आबादीः शोध

गुजरात लौटते ही मोदी पर हमलावर हुए हार्दिक पटेल

भारतीय मीडिया में फैला है भ्रष्टचारः मीनाक्षी लेखी

नर्सरी दाखिले में निजी स्कूलों के मनमाने मानदंड को लेकर शिक्षा मंत्री ने दिया नोटिस

गोंडा में अपरकास्ट गुंडों का दलितों पर कहर

जल्द आ रही है नई फिल्म 'अलिफ़', प्रेस क्लब में डायरेक्टर से मिलिए