Switch to English

National Dastak

x

नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

Created By : एजेंसिया Date : 2017-01-02 Time : 12:02:21 PM


नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 8 नवंबर को अचानक 500 और 1,000 का नोट बंद करने की घोषणा किए जाने से पहले इस पर वित्तमंत्री या मुख्य आर्थिक सलाहकार से विचार-विमर्श किया था या नहीं? सूचना के अधिकार के तहत इस सवाल का जवाब देने से भारतीय रिजर्व बैंक ने इनकार कर दिया है। वहीं, पीएमओ ने एक माह बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया है।


आरटीआई आवेदक ने पूछा था कि क्या नोटबंदी की घोषणा से पहले मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम और वित्त मंत्री अरण जेटली के विचार लिए गए थे। इस सवाल के जवाब में आरबीआई ने कहा कि, ‘इस तरह का सवाल, जिसमें सीपीआईओ की राय मांगी गई है, आरटीआई कानून की धारा 2(एफ) के तहत यह सूचना की परिभाषा में नहीं आता।’

 

पढ़ें-बीजेपी मंत्री के बैंक से मिले हजारों संदिग्ध खाते


क्या मांगी गई सूचना सीपीआईओ से 'राय मांगने' के तहत आती है, पर पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त एएन तिवारी ने कहा कि ऐसा नहीं है। आरटीआई आवेदक ने तथ्य के बारे में जानकारी मांगी है। सीपीआईओ यह नहीं कह सकता कि उससे राय मांगी गई है। वही पूर्व सूचना आयुक्त शैलेष गांधी ने भी कहा कि, "इसे कैसे राय मांगना कहा जा सकता है? क्या किसी से विचार-विमर्श किया गया या नहीं, रिकॉर्ड का मामला है। यदि सवाल यह होता कि क्या विचार लिए गए थे, तो यह राय मांगना होता।" उन्होंने रिजर्व बैंक के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी के जवाब पर हैरानी जताई है।

 


आवेदक ने यही सवाल प्रधानमंत्री कायार्लय तथा वित्त मंत्रालय से भी किए थे। लेकिन आरटीआई आवेदन के 30 दिन बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया गया है। इसके अलावा आवेदक ने यह भी जानना चाहा है कि 500 और 1,000 रुपये का नोट बंद करने से पहले किन अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया है। ये अधिकारी किन पदों पर हैं। रिजर्व बैंक ने इन सवालों के जवाब में कहा कि जो सूचना मांगी गई है, वह बैंक नोटों को चलन से बाहर करने के बारे में है। आरटीआई कानून की धारा 8(1)(ए) के तहत इसका खुलासा करने की जरूरत नहीं है।

 

पढ़ें-9 हजार करोड़ वाले विजय माल्या ने पीएम मोदी को दिखाया आइना


इसके अलावा आरबीआई ने यह भी बताने से इनकार किया कि क्या किसी अधिकारी या मंत्री ने नोटबंदी के फैसले का विरोध किया था। रिजर्व बैंक ने कहा कि जो सूचना मांगी गई है कि वह 'कल्पित' प्रकृति की है। धारा 8(1)(ए) का हवाला देते हुए केंद्रीय बैंक ने नोटबंदी पर बैठक के मिनट्स का ब्योरा देने से भी इनकार किया।


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

दिल्ली यूनिवर्सिटी में एबीवीपी की सरेआम गुंडागर्दी

20 साल बाद कोर्ट को पता चला फर्जी था भोजपुर एनकाउंटर

गर्व से कहो, हम गधे हैं!

मुझे प्रधानमंत्री का कुत्ता कहा गया- तारिक फतेह

उमा भारती के गढ़ में सबसे मजबूत नजर आ रही BSP!

झारखंडवासियों को शराब पिला कर लूटना चाहती सरकारः हेमंत सोरेन

भाजपा ने विधायक ने मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा

मोदी के श्मशान वाले बयान की मायावती ने खोली पोल

आर्थिक तंगी और कर्ज ना उतार पाने के कारण किसानों ने की आत्महत्या

सपा को समर्थन करने पर नीतीश ने जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष को निकाला

पांच सालों में मायावती ने कराए खूब काम, मीडिया को दिखीं सिर्फ मूर्तियां

प्ले स्कूल में 3 साल की छात्रा के साथ रेप