Switch to English

National Dastak

x

नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

Created By : एजेंसिया Date : 2017-01-02 Time : 12:02:21 PM


नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 8 नवंबर को अचानक 500 और 1,000 का नोट बंद करने की घोषणा किए जाने से पहले इस पर वित्तमंत्री या मुख्य आर्थिक सलाहकार से विचार-विमर्श किया था या नहीं? सूचना के अधिकार के तहत इस सवाल का जवाब देने से भारतीय रिजर्व बैंक ने इनकार कर दिया है। वहीं, पीएमओ ने एक माह बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया है।


आरटीआई आवेदक ने पूछा था कि क्या नोटबंदी की घोषणा से पहले मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम और वित्त मंत्री अरण जेटली के विचार लिए गए थे। इस सवाल के जवाब में आरबीआई ने कहा कि, ‘इस तरह का सवाल, जिसमें सीपीआईओ की राय मांगी गई है, आरटीआई कानून की धारा 2(एफ) के तहत यह सूचना की परिभाषा में नहीं आता।’

 

पढ़ें-बीजेपी मंत्री के बैंक से मिले हजारों संदिग्ध खाते


क्या मांगी गई सूचना सीपीआईओ से 'राय मांगने' के तहत आती है, पर पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त एएन तिवारी ने कहा कि ऐसा नहीं है। आरटीआई आवेदक ने तथ्य के बारे में जानकारी मांगी है। सीपीआईओ यह नहीं कह सकता कि उससे राय मांगी गई है। वही पूर्व सूचना आयुक्त शैलेष गांधी ने भी कहा कि, "इसे कैसे राय मांगना कहा जा सकता है? क्या किसी से विचार-विमर्श किया गया या नहीं, रिकॉर्ड का मामला है। यदि सवाल यह होता कि क्या विचार लिए गए थे, तो यह राय मांगना होता।" उन्होंने रिजर्व बैंक के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी के जवाब पर हैरानी जताई है।

 


आवेदक ने यही सवाल प्रधानमंत्री कायार्लय तथा वित्त मंत्रालय से भी किए थे। लेकिन आरटीआई आवेदन के 30 दिन बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया गया है। इसके अलावा आवेदक ने यह भी जानना चाहा है कि 500 और 1,000 रुपये का नोट बंद करने से पहले किन अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया है। ये अधिकारी किन पदों पर हैं। रिजर्व बैंक ने इन सवालों के जवाब में कहा कि जो सूचना मांगी गई है, वह बैंक नोटों को चलन से बाहर करने के बारे में है। आरटीआई कानून की धारा 8(1)(ए) के तहत इसका खुलासा करने की जरूरत नहीं है।

 

पढ़ें-9 हजार करोड़ वाले विजय माल्या ने पीएम मोदी को दिखाया आइना


इसके अलावा आरबीआई ने यह भी बताने से इनकार किया कि क्या किसी अधिकारी या मंत्री ने नोटबंदी के फैसले का विरोध किया था। रिजर्व बैंक ने कहा कि जो सूचना मांगी गई है कि वह 'कल्पित' प्रकृति की है। धारा 8(1)(ए) का हवाला देते हुए केंद्रीय बैंक ने नोटबंदी पर बैठक के मिनट्स का ब्योरा देने से भी इनकार किया।


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

माओवादियों ने जारी किया ऑडियो, कहा- आदिवासी महिलाओं की इज्‍जत लूटने का बदला लिया

योगीराजः आठवीं की छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म कर रोड पर छोड़ा

वारसा विश्वविद्यालय में 'भारतीय लोकतंत्र के सात दशक' पर बोले उप-राष्ट्रपति

JNU को बदनाम करने वाली वेबसाइट्स के खिलाफ छात्रों ने दर्ज कराई शिकायत

मोदी राज: 'डिजिटल इंडिया' के दौर में चिप लगाकर करते थे पेट्रोल चोरी

गवर्नमेंट की गलत पॉलिसी की वजह शहीद हुआ बेटा- कैप्टन आयुष यादव के पिता

BJP सांसद ने पुलिस अधिकारी को दी खाल उतरवाने की धमकी

बढ़ी मुश्किलें: बंबई हाईकोर्ट ने 'राधे मां' के खिलाफ बयान दर्ज करने के दिए आदेश

डीजीसीईआई ने पकड़ी 15,047 करोड़ रुपये की कर चोरी

योगीराजः आठ साल गैरहाजिर रहे सिपाही का हो गया प्रमोशन

गोरखपुर: समाधि लेने पहुंचे 'ढोंगी बाबा' को पुलिस ने पकड़ा

इन दलित छात्रों ने साबित कर दिया कि टैलेंट सवर्णों की जागीर नहीं