Switch to English

National Dastak

x

नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

Created By : एजेंसिया Date : 2017-01-02 Time : 12:02:21 PM


नोटबंदी के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं आरबीआई

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 8 नवंबर को अचानक 500 और 1,000 का नोट बंद करने की घोषणा किए जाने से पहले इस पर वित्तमंत्री या मुख्य आर्थिक सलाहकार से विचार-विमर्श किया था या नहीं? सूचना के अधिकार के तहत इस सवाल का जवाब देने से भारतीय रिजर्व बैंक ने इनकार कर दिया है। वहीं, पीएमओ ने एक माह बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया है।


आरटीआई आवेदक ने पूछा था कि क्या नोटबंदी की घोषणा से पहले मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम और वित्त मंत्री अरण जेटली के विचार लिए गए थे। इस सवाल के जवाब में आरबीआई ने कहा कि, ‘इस तरह का सवाल, जिसमें सीपीआईओ की राय मांगी गई है, आरटीआई कानून की धारा 2(एफ) के तहत यह सूचना की परिभाषा में नहीं आता।’

 

पढ़ें-बीजेपी मंत्री के बैंक से मिले हजारों संदिग्ध खाते


क्या मांगी गई सूचना सीपीआईओ से 'राय मांगने' के तहत आती है, पर पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त एएन तिवारी ने कहा कि ऐसा नहीं है। आरटीआई आवेदक ने तथ्य के बारे में जानकारी मांगी है। सीपीआईओ यह नहीं कह सकता कि उससे राय मांगी गई है। वही पूर्व सूचना आयुक्त शैलेष गांधी ने भी कहा कि, "इसे कैसे राय मांगना कहा जा सकता है? क्या किसी से विचार-विमर्श किया गया या नहीं, रिकॉर्ड का मामला है। यदि सवाल यह होता कि क्या विचार लिए गए थे, तो यह राय मांगना होता।" उन्होंने रिजर्व बैंक के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी के जवाब पर हैरानी जताई है।

 


आवेदक ने यही सवाल प्रधानमंत्री कायार्लय तथा वित्त मंत्रालय से भी किए थे। लेकिन आरटीआई आवेदन के 30 दिन बाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दिया गया है। इसके अलावा आवेदक ने यह भी जानना चाहा है कि 500 और 1,000 रुपये का नोट बंद करने से पहले किन अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया है। ये अधिकारी किन पदों पर हैं। रिजर्व बैंक ने इन सवालों के जवाब में कहा कि जो सूचना मांगी गई है, वह बैंक नोटों को चलन से बाहर करने के बारे में है। आरटीआई कानून की धारा 8(1)(ए) के तहत इसका खुलासा करने की जरूरत नहीं है।

 

पढ़ें-9 हजार करोड़ वाले विजय माल्या ने पीएम मोदी को दिखाया आइना


इसके अलावा आरबीआई ने यह भी बताने से इनकार किया कि क्या किसी अधिकारी या मंत्री ने नोटबंदी के फैसले का विरोध किया था। रिजर्व बैंक ने कहा कि जो सूचना मांगी गई है कि वह 'कल्पित' प्रकृति की है। धारा 8(1)(ए) का हवाला देते हुए केंद्रीय बैंक ने नोटबंदी पर बैठक के मिनट्स का ब्योरा देने से भी इनकार किया।


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

एयर इंडिया के कर्मचारी को चप्पल से पीटने वाले शिवसेना के सांसद नहीं भर पाएंगे उड़ान

महिला ने कथावाचक पर लगाए सम्मोहित कर रेप के आरोप

भाजपा शासित झारखंड के 4 जिलों के 20-27% बच्चों के मंदबुद्धि होने का खतरा- रिपोर्ट

यूपी की राह पर दिल्लीः अवैध बूचड़खाने बंद कराने का काम शुरू 

झारखंड के सभी बूचड़खानें बंद करने की मांगः संघ

विधि आयोग ने सरकार से की भारत में मौत की सजा खत्म करने की सिफारिश

बुलंदशहरः राह चलती महिला से लूटी चेन, दो युवकों का भी फोन छीना

महाराष्ट्र: खराब फसल और कर्ज का बोझ झेल नहीं पाए किसान, दो ने मौत को लगाया गले

योगी एक्शनः यूपी में 12 अवैध स्लॉटरहाउस सील, 40 लोग गिरफ्तार 

ईवीएम घोटाला: बहुजन क्रान्ति मोर्चा करेगा उग्र राष्ट्रव्यापी आंदोलन

13 साल में MP की चैरवी पंचायत तक विकास नहीं पहुंचा पाई BJP, झोली में डालकर ले जाने पड़ते हैं मरीज

ईवीएम गड़बड़ी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस देकर मांगा जवाब