National Dastak

x

तमिलनाडु- सवर्णों के गांव में दलितों ने खुलवाए मंदिर के दरवाजे

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-11 Time : 11:52:27 AM

तमिलनाडु- सवर्णों के गांव में दलितों ने खुलवाए मंदिर के दरवाजे

नई दिल्ली। समय के साथ-साथ कहीं ना कहीं लोगों की सोच भी बदलती जा रही है। जहां एक तरफ दलितों को मंदिर और अन्य ऐसे धार्मिक जगहों पर जाने की उनुमति नहीं थी वहीं हरिहरपक्कम गांव नम्मांडी के मंदिर में दलितों को जाने की उनुमति मिल गई है। 

 

 

जी हां, सदियों से जिस मंदिर के दरवाजे सवर्णों के अलावा किसी और के लिए नहीं खुलते थे, उसमें अब बिना किसी भेदभाव के सबके लिए अपने दरवाजे खोल देने का फैसला किया है। आपको बता दें कि हरिहरपक्कम गांव और उसके पड़ोस में बसे नम्मांडी गांव में एक दलित बस्ती है लेकिन इस गांव में ज्यादा आबादी सवर्णों की है। 

 

पढ़ें- बिलासपुर की दलित युवती को को न्याय दिलाने उमड़ा शहर

 

गांव नम्मांडी में एक दलित बस्ती के लोगों के साथ सवर्णों का विवाद था। दलितों की मांग थी कि उन्हें भी गांव के मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी जाए। लेकिन अब सबकी आपसी सहमति से इस मंदिर को हर किसी के लिए खोल दिया गया है। अब यहां किसी भी जाति तो क्या, किसी भी धर्म और संप्रदाय के लोग भी दर्शन के लिए आ सकते हैं।

 

पढ़ें- ये संघ मुक्त भारत बनाने के दावेदारों का बिहार है....

 

आपको बता दें कि अरुलमिगु थुलुकांतामन मंदिर सदियों पुराना है। दो महीने पहले यहां ताला लग गया था। गांव में वन्नियर समुदाय और दलितों के बीच मंदिर में प्रवेश के मुद्दे पर शुरू हुआ विवाद काफी आगे बढ़ गया था। गांव के बड़े-बुजुर्गों ने बुधवार को ग्राम सभा की एक विशेष बैठक बुलाने का फैसला किया। इस बैठक में तय किया गया कि मंदिर के दरवाजे अब सभी के लिए खुले रहेंगे। इसी गांव में रहने वाले एक बुजुर्ग बाबू ने बताया, 'हम कहने जा रहे हैं कि किसी भी जाति या संप्रदाय के लोग पूजा और प्रार्थना के लिए मंदिर में आ सकते हैं। हम बुधवार से यह प्रस्ताव लागू कर देंगे।'

 

 

इस मामले में बाबू के साथ गांव के कुछ अन्य वरिष्ठ ग्रामीण चेय्यार के सबकलेक्टर टी प्रभु शंकर से मंगलवार को मिले और उन्होंने मंदिर को फिर से खोलने की अपील की। ग्रामीणों की ओर से उन्हें एक लिखित समझौते की प्रति भी दी गई। इस मंदिर में दलितों का प्रवेश वर्जित था। इस परंपरा का टूटना एक ऐतिहासिक घटनाक्रम होगा। तमिलनाडु में कई ऐसे मंदिर हैं जहां दलितों का प्रवेश प्रतिबंधित है। इस मंदिर में दलितों को प्रवेश की अनुमति मिलने के बाद बाकी मंदिरों के भी इस नई परंपरा को अपनाने की संभावना रही है। बाबू बताते हैं कि जब से यह मंदिर बना है, तभी से ही इसमें दलितों के प्रवेश पर मनाही है।

 

पढ़ें- ब्राह्मण के साथ होना पड़ेगा हमबिस्तर- लड़की को ज्योतिषी की सलाह


इस मंदिर में हिंदू देवी दुर्गा के एक रूप 'थुलुकांतामन' की प्राण प्रतिष्ठा है। इसे 25 दिसंबर 2016 को सील कर दिया गया था। मंदिर में प्रवेश के मुद्दे पर गांव के वन्नियर और दलित समुदाय के बीच सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा हो जाने के बाद मंदिर को बंद करने का फैसला लिया गया। राजस्व विभाग के एक अधिकारी ने बताया, 'अब ग्रामीणों ने खुद आगे बढ़कर इस विवाद को सुलझाने की पहल की है।' 

 


सरकारी अधिकारियों ने जब शुरुआत में दलितों को मंदिर में प्रवेश दिलाने की कोशिश की थी, लेकिन तब वन्नियर समुदाय ने इसका विरोध किया था। रविवार को वन्नियर समुदाय के कुछ युवकों ने मंदिर का ताला तोड़ दिया था, जिसके कारण उनमें से कुछ को गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद ही ग्रामीणों ने मंदिर को सभी समुदायों के लिए खोलने पर रजामंदी देने की पहल की।

 

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

चुनाव आयोग से मुलायम सिंह को झटका, अखिलेश को मिली ‘साइकिल’

'दंगल गर्ल' जायरा वसीम खान के समर्थन में आए लोग, ट्रोलर्स को हड़काया

समाजवादी पार्टी के दो-दो अध्यक्ष?

'शिक्षा कोई कमोडिटी नहीं है'

सड़क सुरक्षा मामले में सुप्रीम कोर्ट की राज्यों को कड़ी फटकार

प्रोटीन की कमी से बढ़ता है डिप्रेशन, हो सकता है गर्भावस्था के लिए खतरनाक

जोड़ियां बनाने में मर्दवादी क्यों है ईश्वर?

महबूबा मुफ्ती से मुलाकात के बाद दंगल गर्ल जायरा खान ने मांगी मांफी

लेनोवो स्मार्टफोन की कीमतों में हुई 3 हजार रुपए की गिरावट

छात्र निष्काशन मामले में आईआईएमसी के डीजी का अजीब तर्क

'हनुमान चालीसा' के सहारे इस हाइवे पर सफर करते हैं लोग

IIMC के निष्काषित छात्र की मां ने लिखी DG के नाम चिट्ठी