Switch to English

National Dastak

x

परंपरागत खेल 'जल्लीकट्टू' के बैन को लेकर बोले एक्टर कमल हासन 

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2017-01-10 Time : 15:28:47 PM


परंपरागत खेल 'जल्लीकट्टू' के बैन को लेकर बोले एक्टर कमल हासन 

नई दिल्ली। एक्टर कमल हासन ने बैलों की परंपरागत दौड़ 'जल्लीकट्टू' को लेकर कड़ा बयान दिया है। हाल ही में जल्लीकट्ट को लेकर चल रही बहस को लेकर कमल हासन ने जल्लीकट्टू पर लगाए गए बैन का विरोध किया है। आपको बता दें कि कमल के लिए जल्लीकट्टू मात्र एक खेल नहीं बल्कि उत्सव की तरह है।

 

बता दें कि सोमवार को एक इंटरव्यू में कमल हासन ने कहा कि जिन्हें भी लगता है कि ये परंपरा जानवरों के खिलाफ क्रूरता है , उन्हें बिरियानी पर भी प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए। कमल ने बताया कि वो जल्लीकट्टू के बहुत बड़े फैन हैं और कई बार बैलों की दौड़ के इस उत्सव में हिस्सा ले चुके हैं।

 

पढ़ें- मोदी हटाओ देश बचाओ: तृणमूल कांग्रेस


एक्टर ने जल्लीकट्टू को स्पेन के फेमस बुल-फाइटिंग खेल के सामान बताये जाने को भी गलत ठहराते हुए कहा कि स्पेन में बैलों की लड़ाई में जान जाती है लेकिन तमिलनाडु में बैलों को भगवान का दर्जा दिया जाता है।

 

 

आपको बता दें कि साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा फसलों और खेती के उत्सव के दौरान खेला जाने वाला खेल 'जलीकट्टू' को प्रिवेंशन ऑफ क्रूअलटी टू ऐनिमल ऐक्ट के तहत बैन किए जाने के बाद, इस बार चेन्नै में इस उत्सव से पहले दूसरी ही तरह से चर्चा की जा रही है।

 

 


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

एयर इंडिया के कर्मचारी को चप्पल से पीटने वाले शिवसेना के सांसद नहीं भर पाएंगे उड़ान

महिला ने कथावाचक पर लगाए सम्मोहित कर रेप के आरोप

भाजपा शासित झारखंड के 4 जिलों के 20-27% बच्चों के मंदबुद्धि होने का खतरा- रिपोर्ट

यूपी की राह पर दिल्लीः अवैध बूचड़खाने बंद कराने का काम शुरू 

झारखंड के सभी बूचड़खानें बंद करने की मांगः संघ

विधि आयोग ने सरकार से की भारत में मौत की सजा खत्म करने की सिफारिश

बुलंदशहरः राह चलती महिला से लूटी चेन, दो युवकों का भी फोन छीना

महाराष्ट्र: खराब फसल और कर्ज का बोझ झेल नहीं पाए किसान, दो ने मौत को लगाया गले

योगी एक्शनः यूपी में 12 अवैध स्लॉटरहाउस सील, 40 लोग गिरफ्तार 

ईवीएम घोटाला: बहुजन क्रान्ति मोर्चा करेगा उग्र राष्ट्रव्यापी आंदोलन

13 साल में MP की चैरवी पंचायत तक विकास नहीं पहुंचा पाई BJP, झोली में डालकर ले जाने पड़ते हैं मरीज

ईवीएम गड़बड़ी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस देकर मांगा जवाब