Switch to English

National Dastak

x

योगी आदित्यनाथ से क्यों डरे मुस्लिम ?

Created By : तारिक अनवर ‘चम्पारणी’ Date : 2017-03-19 Time : 15:49:39 PM


योगी आदित्यनाथ से क्यों डरे मुस्लिम ?

आप क्यों बेचैन है? आपको बेचैन होने की क्या जरूरत है? बेचैनी तो हमें होनी चाहिये थी। मगर हम बेचैन नहीं हैं। हम बेचैन इसलिए नहीं हैं कि हमारे ऊपर आज जितनी गुज़र रही है कल उससे दोगुना गुज़रेगी। हम बेचैन इसलिए भी नहीं हैं कि आपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए साँप को दूध पिलाया था। आज वही साँप हमारे ऊपर डँसने के लिए छोड़ दिया गया है।


विश्व में ऐसा होता रहा है की एक उन्मादी भीड़ आती है और ढाँचे को गिरा देती है। बंग्लादेश और पाकिस्तान में भी ऐसा हुआ है की एक उन्मादी भीड़ आयी है और ढाँचे को गिरा दिया है। मग़र, विश्व के इतिहास में यह पहली बार हुआ था कि पहले से एक निश्चित दिन तय हुआ था और उस तय दिन को एक सेक्युलर देश में एक ढाँचा गिरा दिया जाता था। मग़र सेक्युलर देश मूकदर्शक बनी रहता है। हाँ, हम अल्पसंख्यक़ है। इसलिए, हमने बर्दाश्त कर लिया।


लालू जी ने एकबार आडवाणी का रथ रोक दिया, आजतक सत्ता सुख भोग रहे हैं। मुलायम सिंह ने कारसेवकों पर एकबार गोली चलवा दिया आजतक मुसलमान उनके साथ जुड़ा हैं। इन्हीं दो घटनाओं पर आप कितना दिन जिन्दा रहिएगा? आडवाणी की गिरफ्तारी और कारसेवकों पर चली गोलियों के बाद पूरी एक नस्ल बदल गयी है। उस नस्ल को अडवाणी की रथ और कारसेवक पर चली गोली बिलकुल याद नहीं है। अब याद हैं तो गुज़रात के मोदी और उत्तरप्रदेश के साक्षी और योगी। क्योंकि इस नयी नस्ल ने इन्हें ही देखा है।


आपकी सरकार थी, आपके पास संसाधन था, आपके पास पुलिस थी, आपके पास सीबीआई थी, आपके पास रॉ था, आपके पास बहुत कुछ था। आप चाहते तो गुज़रात के क़ातिल को आप अपने दस सालों में क़ैद कर सकते थे। मग़र अपनी राजनीति को जिन्दा रखने के लिए नहीं किया। ऐसा तो अबतक कम्युनिस्ट आंदोलन से उपजे देशों में ही होता आया है की लाशों की ढेर पर देश का शासक बन जाता था। मगर आपकी बेईमानी ने ही एक कातिल को सत्ता के शिखर तक पहुंचने में मदद किया।


आपने इस दशक में एक ही काम किया है जो प्रशंसनीय है, वह POTA जैसे काले कानून को खत्म करना। हमने उसका भी बदला आपको दिया और 2004 के मुकाबले में 2009 में दोगुना समर्थन दिया, जिसमें मुलायम जी को लोकसभा की 23 और कांग्रेस को 21 सीट उत्तरप्रदेश से मिलीं। लेकिन, उसके बाद क्या किया? जिस रॉ, एटीएस, एनआईए, सीबीआई और सीआईडी का इस्तेमाल मोदी जी के विरुद्ध करना था उन सभी का इस्तेमाल हमें आतँकवादी साबित करने में लगा दिया।


आज योगी मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। इसके लिए दोषी कौन है? ओवैसी, आयुब, रशादी, हमारे जैसे क़यादत की मांग करने वाले नौसिखिये राजनीतिक कार्यकर्ता या आपलोग? आपलोग इसपर एक बार जरूर विचार कीजियेगा। हम संवैधानिक सेक्युलरिज्म के बिलकुल विरोधी नहीं है। हम आपके फ़र्जी सेक्युलरीज्म के विरोधी हैं। आप आज इस फ़र्ज़ी सेक्युलरिज्म का सहारा लेकर हमें नहीं डराइये। आप ईमानदार होते तो योगी उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं बनते। आपको भी मालूम है की योगी IPC की धारा 153A, 295, 435, 506, 307, 147, 148, 297, 149, 336, 504, 427 के अनुसार आरोपी रहे हैं। आपकी उत्तरप्रदेश में सरकार थी? क्या आप चाहते तो जिस संविधान का सहारा लेकर मुख़्तार अंसारी को जेल भेजा था क्या उसी सँविधान का सहारा लेकर योगी को जेल नहीं भेज सकते थे? भेज सकते थे, लेकिन नहीं भेजा। अपने इसलिए नहीं भेजा की उसी योगी के नाम पर आप सत्ता में बने रहना चाहते थे। अब आप खुश रहिये, आपको कोई समस्या नहीं आयेगी। हम आपके दौर में भी भय के साये में जी रहे थे और कल भी जी लेंगे। लेकिन, आप अपनी ज़मीर की आवाज़ को सुनना।


इतिहास को मत कुरेदिये। आपने भी इतिहास में बहुत सुनहरा अध्याय नहीं जोड़ा है। आपने भी इतिहास के साथ कम फ़रेब नही किया है। आप हमें जज्बाती बोल सकते हैं। हाँ, हम जज्बाती हैं। क्या हमारा जज्बात नाजायज़ है? यदि, हमारा जज्बात नाजायज़ है तो इसे साबित कर दीजिये। आपका विरोध आज से ही छोड़ देते हैं। लेकिन, आप लफ़्फ़ाज़ी सन्तुष्टि, योगी, मोदी, साक्षी के भय दिखाने से ज्यादा कुछ भी नहीं कर सकते हैं। हाँ, क्योंकि आपको मालूम है की हम नाच–घूमकर आपके पास ही लौटेंगे।

 

(तारिक अनवर ‘चम्पारणी’ लेखक हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)


खबरों की अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर और Youtube पर फॉलो करें---




Latest News

अंतर-राज्‍य परिषद की स्‍थायी समिति की 11वीं बैठक की अध्‍यक्षता करेंगे राजनाथ

यूपी में शराबबंदी आंदोलन, योगी सरकार क्या करेगी

मनोज सिन्हा और बृजेश करा सकते हैं मेरी हत्या- मुख्तार अंसारी

महिला होने की वजह से भारत में मेरी मां को जज नहीं बनने दियाः US डिप्लोमैट निक्की हेली

सरकार ने माना, औरत को मर्दों से कम मिलता है वेतन

मोदी सरकार ने माना: फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनवाकर सवर्णों ने लूटीं हजारों नौकरियां, देखिए सबूत

यूपी पुलिस बूचड़खाने बंद कराने में व्यस्त ! छेड़खानी पर कार्रवाई न होने से युवती ने की आत्महत्या

सनसनीखेज खुलासा: तो इसलिए स्टूडेंट्स की सीटें खा गई भारत सरकार

मोदी-योगी के नाम पर थानों का 'निरीक्षण'  करने पहुंचे विधायक के बेटे

मुस्लिमों के रोजगार को लेकर ममता बनर्जी ने यूपी सरकार पर साधा निशाना

अफ्रीकी छात्रों पर हमले को लेकर AASI नाराज, अफ्रीकी संघ से करेगी भारत के साथ व्यापार कटौती की मांग

राजनीतिक मुद्दों को छोड़ गंगा सफाई की बात करें यूपी सरकारः NGT