fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

एबीवीपी कार्यकर्त्ता ने प्रोफेसर को बताया राष्ट्रद्रोही, पाँव छुकर माफ़ी मँगवाया

abvp

मध्यप्रदेश के कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी ) के कार्यकर्ताओं ने वहाँ के शिक्षक को देश द्रोही तत्त्व बताते हुए उनका मजाक उड़ाया।

Advertisement

आखिर में ऐसी नौबत आ गई की कॉलेज के शिक्षक को (एबीवीपी ) कार्यकर्ताओं के पैर पकड़कर कर माफ़ी मांगनी पड़ी।

लेकिन उस दौरान कई छात्रों और अन्य शिक्षकों ने उन्हें माफ़ी माँगने से रोका परन्तु उन्होनें नाराज होकर कहा की- नहीं, मैं तो पढ़ाने का अपराध करता हूँ। वहाँ मौकों पर लोगो ने इसका वीडियो बना लिया। जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

@ChanchalVyas के ट्विटर हैंडल द्वारा ट्वीट किया गया यह वीडियो मंदसौर PG कॉलेज का है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एबीवीपी के छात्र बुधवार 26 सितम्बर को कॉलेज में घूम घूमकर नारेबाजी कर रहे थे और जोर जोर से भारत माता की जय चिल्ला रहे थे। वहीं प्रोफ़ेसर दिनेश गुप्ता अपने कक्षा में अकाउंट की क्लास ले रहे थे।

क्लास के बाहर शोर होने पर प्रोफ़ेसर दिनेश गुप्ता ने उन्हें रोका ऐसा होने पर एबीवीपी  कार्यकर्त्ता भड़क गए और एबीवीपी के कार्यकर्त्ता उन्हें राष्ट्रद्रोही  कहने लगे। उन लोगों ने प्रोफेसर के खिलाफ FIR लिखवाने की धमकी दी उसी पल एक एबीवीपी कार्यकर्त्ता ने प्रोफेसर को माफ़ी माँगने के लिए कहा।

इसे देख कर प्रोफेसर को बेहद गुस्सा आया और वो परेशान हो गए और अचानक उन्होंने सभी एबीवीपी कार्यकर्ताओं को लाइन में खड़े होने को कहा

फिर वह उनके पास बारी बारी से जाकर उनके पैर छुकें माफ़ी माँगने लगे, बोले-  “मैं पड़ाने का अपराध करता हूँ” हालाँकि वहां मौजूद लोगों ने उन्हें रोकने की कोशिश की और समझाया।

इस घटना के बाद प्रोफ़ेसर ने स्थानीय मीडिया को बताया, “वे मुझे देशद्रोही बता रे थे। मैं क्या करता ? वे मेरे खिलाफ शिकायत देना चाहते थे। वे छात्र नहीं है और वे क्लास में भी नहीं आते हैं।” इस घटना पर प्रक्रिया देते हुए एबीवीपी के जिला सयोंजक पवन शर्मा ने बोला सर ने जो किया, मुझे वह बुरा लगा।  हमने उन्हें रोका भी था, पर वह नहीं माने। बाद में हम लोगों ने उनसे माफ़ी भी माँगी थी।

उधर, कॉलेज  में एबीवीपी के अध्यक्ष राधे गोस्वामी का कहना है की प्रोफ़ेसर की गलती है। उनकी दिमाग़ी हालत ठीक नहीं है, जिसके कारण उन्होनें सबके पैर पकड़कर माफ़ी माँगी।

1 Comment

1 Comment

  1. rational nationalist

    September 29, 2018 at 4:26 pm

    BJP/RSS/ABVP ityadi ne ek “Shabd ki Chhadi” yani “Stick of Word” banai hai jiska nam hai DeshDrohi……….. jo JNU ke Natkiya Ghtana (orchestrated drama of JNU) karakar paida ki gai…..

    Iska ye log iska upyog kisi ko bhi pratadit aur dandit karne me karte hai……..
    Koi bhi Judicial court iska khud ba khud sangyan nahi le raha hai……. ki koi bhi vyakti aur organization jaise ki ABVP BJP RSS kaise kisi ko deshdrohi kahkar kisi ko pratadit kar sakte hai………

    Is shabd ke upyog par guideline banani chahiye court ko….. ABVP, BJP RSS karykartao jaise badmasho ko saja milni chahiye….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved