fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

बाहुबलियों ने दलित परिवार पर बरपाया कहर, मारपीट के बाद तोड़ी झुग्गी

गाजियाबाद- रविवार शाम को कुछ बाहुबलियों ने मिल कर एक दलित परिवार के साथ मारपीट की और उनकी झुग्गी को तहस नहस कर दिया। यह मामला गाजियाबाद में स्तिथ वसुंधरा इलाके का है। श्रोतो के अनुसार सोसाइटी में रहने वाले एक दलित परिवार के साथ रविवार शाम को मारपीट की गयी और उनके पैसे भी लूट लिए गए।

Advertisement

कुछ अज्ञात लोग अपने आप को आवास विकास परिषद् का कर्मचारी बता कर घर में घुस आये और दलित परिवार की झुग्गी को अवैध रूप से बता कर तोड़ने लगे और दलित परिवार के साथ मारपीट करने लगे, उनके घर में रखे सामान को तोड़ दिया और उनके पैसे भी लूट लिए।

दलित परिवार का कहना है की वह वसुंधरा के सोसाइटी में करीब 17 साल से रह रहा है और वह वहाँ  कपडे प्रेस करने का काम करता है और कपडे प्रेस करने के लिए वह जगह सोसाइटी वालो ने ही दी है। रविवार शाम को कुछ अज्ञात लोग सोसाइटी में घुस आये और दलित परिवार के साथ मारपीट की। यह मामला कोर्ट तक पहुँच चूका है और विचारधीन में है। आरोप है की कुछ लोगो ने अपने आप को आरडब्लूए का बता कर उनसे  घर में झाड़ू पोछा करने और गाड़िया साफ़ करने को कहते थे और उसके बदले उन्हें कोई पैसे नहीं देते।

दलित परिवार का कहना है की वह उनसे सोसाइटी में रहने के बदले एक लाख रुपय की मांग कर रहे थे। जब दलित परिवार ने इन सबसे इंकार कर दिया तो शाम के समय कुछ लोग पुलिस वालो के साथ आये और उनके सामने ही मारपीट करने लगे। घर में रखा सारा सामान तहस नहस कर दिया और पैसे भी लूट लिए। मारपीट के दौरान दलित परिवार को जातिसूचक शब्द कहे गए। दलित परिवार में पत्नी,बेटी और एक बैठे साथ भी मारपीट की गयी।

श्रोतो के अनुसार दलित परिवार कपडे प्रेस करके अपना गुजरा करते थे और अपनी बेटी को पढ़ाते थे। बेटी पढ़ने में होनहार है और इसी साल 10वी क्लास में 97% से पास हुई। उन दबंगो ने उस लड़की को भी नहीं बख्शा और उसके साथ भी मारपीट कर डाली।


दलित परिवार का कहना है की जैसे तैसे वह अपना गुजर-बसर कर रहे थे और बाकि सोसाइटी भी उनकी मदद करती थी। इस मामले को देखने गए मिडिया कर्मियों के साथ पुलिस के सामने बदसुलूकी की। इस मामले की शिकायत पुलिस को दी गयी और पुलिस इस मामले की जाँच करने की बात कर रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved