fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

भीम आर्मी का बड़ा ऐलान अब 22 अगस्त को होगा यह, PM मोदी को भी चेतावनी दे दी है

bhim-army-announcement-of-saharanpur-bandbhim-army-announcement-of-saharanpur-bandh-on-22-augusth-on-22-august
दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदासजी के मंदिर तोड़े जाने के खिलाफ आज भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में कई स्थानों पर नारेबाजी की। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने दिल्ली और मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के खिलाफ भी प्रदर्शन किया। साथ ही भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने एक बड़ा ऐलान किया है। अगर सुप्रीम कोर्ट इस फैसले को वापस नहीं लेता तो 22 अगस्त को सहारनपुर की अर्थव्यवस्था रोकने का फैसला भीम आर्मी के कार्यकर्ताओ ने किया है। इस दिन सैकड़ों की संख्या में भीम आर्मी के कार्यकर्ता जगह-जगह धरना-प्रदर्शन करेंग।

जानकारी के मुताबिक, प्रदर्शन के दौरान भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली सरकार का पुतला भी फूंका. सहारनपुर पहुंचे भीम आर्मी के राष्ट्रीय सचिव कमल वालिया ने कहा कि दिल्ली के तुग़लकाबाद में 600 वर्ष पुराने रविदास मंदिर को तोड़े जाने के विरोध में वह आने वाली 22 तारीख को सहारनपुर को बंद कराने का काम करेंगे।

कमल वालिया ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को गलत बताया- कमल वालिया ने सुप्रीम कोर्ट पर भी आरोप लगाया कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार के साथ मिलकर कार्य कर रही है। कमल वालिया ने कहा कि आज पूरा पंजाब इसी कारण से बंद है। आने वाली 22 तारीख को सहारनपुर भी बंद कर दिया जाएगा। 21 तारीख को इसी मामले में जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली के तुगलकाबाद में श्री गुरु रविदास मंदिर तोड़ने के विरोध में 13 अगस्त को पूरा पंजाब बंद था। बंद का एलान करते हुए ऑल इंडिया आदि धर्म मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष संत सतविंदर हीरा और साधु समाज के प्रधान संत सरवण दास महाराज ने कहा था कि हमारे समाज की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं। अब उनके संगठित होने का अहसास करवाना है।

मान जा रहा रहा है की भीम आर्मी के इस फैसले से एक बड़ा सन्देश दलित समाज की तरफ से सुप्रीम कोर्ट और केंद्र में बैठी मोदी सरकार तक पहुँचाया जायेगा। भीम आर्मी के कार्यकर्ताओ के साथ साथ इस प्रदर्शन में लाखो की भीड़ एकत्रित होने वाली है। दलित समुदाय अपनी शक्ति का अहसास केंद्र सरकार को करवाने वाली है।


भीम आर्मी के प्रवक्ता मंजीत नौटियाल ने फेसबुक लाइव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी इसकी चेतावनी दे दी है। नौटियाल ने न्यायालय से अपील करते हुए कहा कि 21 अगस्त से पहले मामले का संज्ञान लेकर मूर्ति को पुन: उसी स्थान पर स्थापित कराया जाए। ऐसा नहीं हुआ तो देश का माहौल खराब हो जाएगा। इसकी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की होगी। अगर हमारे संत, महापुरुषों की प्रतिमाएं तोड़कर भावनाओं को ठेस पहुंचाई तो हम भी चुप बैठने वाले नहीं है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved