fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

उज्जवला योजना में बड़ा घोटाला, झाड़ियों-गोदामों में छिपे मिले अबतक 10,000 सिलेंडर

Big-scam-in-Ujjwala-scheme-10,000-cylinders-found-hidden-in-bushes-and-godowns

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम पोजेक्ट कहे जाने उज्जवला योजना से जुड़ा एक बड़ा घोटाला उत्तर प्रदेश में सामने आया है। मामला प्रदेश के बलरामपुर के भारत-नेपाल सीमावर्ती क्षेत्र का है, जहां एक ग्रामीण वितरक एजेंसी से उज्जवला योजना के 6,000 सिलेंडर बरामद हुए हैं। जानकारी के मुताबिक सभी सिलेंडर गोदाम, झाड़ियों और अन्य जगहों पर छिपाकर रखे गए थे। चौंकाने वाली बात है कि लंबे समय तक किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी।

Advertisement

घोटाले की जानकारी स्थानीय लोगों के हवाले से संबंधित अधिकारियों को लगी, जिसके बाद गैस एजेंसी को सील कर सभी गैस सिलेंडरों को इकट्ठा किया गया। मामले की जांच के लिए छह लोगों की एक टीम का गठन किया गया है। जांच में यह भी पता चला है कि एजेंसी के पास उज्जवला के तहत 9,000 कनेक्शन थे और 691 सामान्य कनेक्शन थे। एक बयान में क्षेत्र के डीएम कृष्णा करुनेश ने बताया कि अतबक 10,000 सिलेंडर मिले हैं जिनके कोई कागजात नहीं थे। जांच पूरी होने के बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि 2016 जब उज्जवला योजना की शुरुआत हुई तब बलरामपुर में भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र में स्थित भार्गव एजेंसी के वितरक पचपेड़वा को गांव-गांव जाकर जररुतमंद लोगों को गैस कनेक्शन देने को कहा गया था। उनसे कहा गया कि वो लोगों के घर जाएं और उनसे फॉर्म भरवाएं। हालांकि एजेंसी ने लोगों को सिलेंडर देने के बजाय इन्हें अपने पास ही रख लिया। साल 2011 की जनगणना के मुताबिक जिन लोगों का नाम लिस्ट में था उनसे 500 से लेकर 1500 रुपए तक की अवैध वसूली की गई।

छपी खबर के मुताबिक लोगो ने बताया कि करीब दो साल से एजेंसी के चक्कर लगा रहे थे मगर उन्हें गैस कनेक्शन नहीं दिया। जबकि इस योजना के तहत गरीबों को मुफ्त में कनेक्शन दिया जाना था। योजना का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना और उनकी सेहत की सुरक्षा करना था लेकिन बलरामपुर जिले में वितरक ने पीएम मोदी की इस बड़ी योजना में भी घोटाला निकला बड़े बड़े वादे किये जा रहे है पर जब कनेक्शन लेने जाओ तो कागजात के नाम पर चक्कर लगवाए जा रहे है और सभी कनेक्शन को गैस एजेन्सिया अपना पास रखकर उन्हें ब्लैक में बेच रही।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved