fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

बीजेपी को पसंद नहीं मोदी की आर्थिक सलाहकार टीम, ट्वीट कर कही यह बात

BJP-does-not-like-Modi's-economic-advisory-team,-said-this-by-tweeting
(image credits: news nation)

देश में चल रहे मंदी के बीच जहां विपक्षी पार्टियां केंद्र सरकार की नीतियों की आलोचना कर रही है, वहीं अब इसको लेकर  बीजेपी भी प्रधानमंत्री मोदी के सलाहकारों  से नाराज दिख रही है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आर्थिक सलाहकार की टीम बीजेपी को पसंद नहीं आ रही है। पीएम की इकॉनमिक अडवाइजरी काउंसिल की सदस्य शमिका रवि ने गुरुवार को आर्थिक मंदी को लेकर अपनी राय जाहिर की थी।

Advertisement

उन्होंने कहा था कि इस आर्थिक सुस्ती से निपटने के लिए कई मंत्रालयों के लिए समयबद्ध तरीके से पूरे होने वाले लक्ष्य तय करने होंगे। इसके साथ ही रवि ने यह भी माना की देश आर्थिक मंदी से गुजर रहा है। 

उन्होंने ट्वीट करते हुए आर्थिक सलाहकार की टीम पर तंज कसते हुए कहा की, अर्थव्यवस्था को सिर्फ वित्त मंत्रालय के हवाले छोड़ना कुछ ऐसा ही है कि किसी कंपनी की तरक्की की जिम्मेदारी उसके अकाउंट डिपार्टमेंट के हवाले कर दिया जाए। वहीं शुक्रवार को सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद, बीजेपी के विदेश मामलों के प्रभारी विजय चौथाईवाले ने एक ट्वीट किया।

 उन्होंने ट्वीट में शमिका रवि को टैग करते हुए कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि अब वह वित्त मंत्रालय के खिलाफ की गई ‘अपमानजनक’ टिप्पणियों को वापस लेंगी। इसके ठीक बाद, रवि की प्रतिक्रिया भी आई। उन्होंने कहा कि वे ऐसा करेंगी और वह वित्त मंत्रालय की घोषणाओं और वादों से काफी प्रभावित हैं।

बता दें की सिर्फ शमिका ही नहीं बल्कि नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने भी आर्थिक क्षेत्र में सुस्ती को ‘अभूतपूर्व समस्या’माना था। और इसके लिए सरकार से अभूतपूर्व कदम उठाने की मांग भी करी थी। राजीव के मुताबिक, सरकार ने बीते 70 सालों में नकदी के ऐसे संकट का सामना नहीं किया था। उन्होंने कहा था कि कोई भी किसी को भी उधार देना नहीं चाहता है। सब ने पैसा दबा रखा है लेकिन वे पैसा निकालना नहीं चाहते हैं।


देश के वैश्विक क्षेत्र में आई मंदी के कारण कई बड़ी कंपनियों ने अपने उत्पादन के कुछ इकाइयों को बन्द करने का निर्णय ले लिया है। ज्यादातर मंदी का असर ऑटोमोबाइल सेक्टर में देखने को मिल रहा है। जिसके कारण बहुत से लोगो के रोजगार जाने की कगार पर है। ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़े कुछ लोगो ने इसके पीछे GST गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स को भी जिम्मेदार ठहराया है। 

अब देखना यह होगा की देश में चल रही मंदी को लेकर शुक्रवार को निर्मला सीतारमण द्वारा की गई प्रेस कॉंन्फ्रेंस के बाद, मौजूदा सरकार अब कौन से कदम उठाएगी। और क्या उनके द्वारा लिए गए फैसलो से समस्या का हल हो भी पाएगा यह नहीं?

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved