fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

भाजपा मंत्री नितिन गडकरी ने कहा भाजपा जहा हाथ लगाती है वहां सत्यनाश हो जाता है

cabinet-minister-nitin-gadkari-controversial-remark-on-government-functioning

भारतीय जनता पार्टी के नेता इन दिनों अपनी ही पार्टी पर सवाल उठाते दिखाई दे रहे हैं। सुब्रमण्यम स्वामी के बयान पर उठा विवाद अभी थमा ही नहीं था कि अब भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने बड़ा बयान दे दिया है। भाजपा सरकार में केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के एक बयान से सरकार के कामकाज के तरीके पर सवाल उठ गया है।  

Advertisement

भारत में मंदी का दौर चल रहा है और भाजपा के नेताओ को भी लग रहा है की इसके पीछे उनकी ही नीतिया है जिसका परिणाम अब सामने आ रहा है। हाल ही में नागपुर में मदर डेयरी के एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि मैं किसी प्रोजेक्ट में सरकार की मदद नहीं लेता। सरकार जहां भी हाथ लगाती है, वहां सत्यानाश हो जाता है। 

गडकरी के अनुसार भाजपा सरकार जहां हाथ लगाती है वहां सत्यानाश हो जाता है। गडकरी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘एक संत ने कहा कि आप अपने सामाजिक आर्थिक जीवन को खुद बनाते हैं। तब से मैंने सरकार पर और भगवान पर भरोसा रखना बंद कर दिया। ना मैं सरकार से मदद मांगता हूं, ना जाता हूं। मदर डेयरी का अपवाद छोड़कर मेरा अनुभव है कि जहां सरकार हाथ लगाती है वहां सत्यानाश हो जाता है। कुछ अच्छा काम चल रहा है उसके लिए बधाई.’ 

यह कोई पहला मौका नहीं है जब नितिन गडकरी के बयान से बीजेपी के सामने मुश्किलें खड़ी हुई हों। वह इससे पहले भी पार्टी के साथ-साथ सरकार की नीतियों पर खुलकर बोलते रहे हैं।  लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान नितिन गडकरी ने सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक पर हो रही बयानबाजी पर कहा था कि न तो भारतीय सेना की कार्रवाई को आम चुनावों से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए और न ही इसका क्रेडिट किसी को लेना चाहिए। उनके इस बयान के बाद चुनाव प्रचार में बीजेपी को किरकिरी का सामना करना पड़ा था। 

भाजपा के कई बड़े नेता अब भाजपा के खिलाफ बोल रहे है बता दें कि भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी सरकार की नीतियों को कटघरे में खड़ा किया था। उन्होंने कहा था कि यदि नई आर्थिक नीति जल्द लागू नहीं की गई तो भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच सकता है। केवल साहस या ज्ञान से ही अर्थव्यवस्था को नहीं बचा सकते हैं। इसके लिए दोनों की जरूरत है। आज हमारे पास दोनों में से कोई भी नहीं है।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved