fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

IIT रुड़की में दलित छात्रा का यौन उत्पीड़न, 3 प्रोफेसरों पर केस दर्ज

dalit girl sexually assaulted in IIt rudki

IIT रुड़की में दलित छात्रा के साथ यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया है। दलित छात्रा ने 3 प्रोफेसरों का नाम इस मामले में लिया है। छात्रा की शिकायत पर हरिद्वार पुलिस ने तीनो प्रोफेसरों के खिलाफ मामला दर्ज़ कर लिया है।

Advertisement

छात्रा ने प्रोफेसरों पर आरोप लगाते हुए कहा की तीनों ने उसका शारीरिक और मानसिक शोषण किया था। इस मामलो को हरिद्वार पुलिस ने गंभीरता से लेते हुए जाँच कमेटी एसआईटी का गठन किया था। पर जांच में साड़ी बाते सामने नहीं आ पाई वही पुलिस ने बताया की पीड़िता के सारे आरोप सही नहीं हैं लेकिन आरोपियों के खिलाफ मामला बनता है।

उत्पीड़न को लेकर लोगों में आक्रोश फैल गया था और कैंपस के बाहर प्रदर्शन भी हुए थे। रुड़की में 3 महिलाओं ने जहां 7 फैकल्टी मेंबर यौन शोषण के आरोप लगाए थे, वहीं नैनोटेक्नॉलजी सेंटर की एक दलित स्कॉलर ने भी 3 सीनियर फैकल्टी मेंबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

पुलिस से इस मामले की पूर्ण जांच के लिए SIT का गठन किया और जांच के दौरान सामने आया की 3 फैकल्टी सदस्यों ने पीएचडी गाइड होने के नाते पहले दलित स्कॉलर का यौन शोषण किया और फिर उसे जातिसूचक शब्द भी कहे।

हरिद्वार के एसएसपी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कनखल उपाधीक्षक की अगुवाई में एसआईटी की गठन किया था। जाँच के दौरान काफी बाते सामने आई और SIT ने कॉलेज के छात्र-छात्राओं समेत प्रोफेसरों और कई स्टाफ कर्मचारियों से बातचीत की जिसमे पता चला की दलित छात्रा के साथ उत्पीड़न तो हुआ था लेकिन छात्रा द्वारा लगाए गए कुछ आरोप बुनियाद थे।


पुलिस ने 3 प्रोफेसरों के खिलाफ केस दर्ज़ कर लिया है। पीड़ित छात्रा के खराब व्यवहार की शिकायत भी की गई थी। इसके बाद उसने माफी भी मांग ली थी। पुलिस के मुताबिक छात्रा ने सुपरवाइजर बदलने का भी आवेदन किया था।

पुलिस ने छात्रा के आरोपों में दम बताया है जिसके आधार पर ही 3 प्रोफेसरों के खिलाफ यौन उत्पीड़न और जातिगत भेदभाव की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक इनके खिलाफ 509, 354, एससी-एसटी एक्ट और 352 के तहत केस दर्ज किया गया है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved