fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

पश्चिम बंगाल के सरकारी स्कूल में 10वीं की परीक्षा में पूछा- जय श्रीराम नारे से होने वाले दुष्प्रभाव बताएं

exam-paper-in-bengal-school-asks-question-on-harmful-effect-of-jai-shri-ram-slogans

भाजपा जब से सत्ता में आई है तब से जय श्रीराम का नारा कुछ ज्यादा ही प्रचलित हो गया है।  जय श्री राम के नारे के इस्तेमाल भगवाधारी किस प्रकार से कर रहे है यह किसी से छुपा नहीं है। आए दिन इस नारे के कारण होने वाली घटनाएं सामने आती रहती है। यह नारा इतना प्रचलित हो चला है की अब स्कूल के बच्चो को भी इस सम्बंधित सवालो का जवाब देना पड़ रहा है। मामला पश्चिमी बंगाल का है आपको बता दे की हाल ही में जय श्री राम और कट मनी लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान अहम मुद्दे बन गए थे, जिन्होंने पश्चिम बंगाल की राजनीति में भूचाल ला दिया। हालांकि, अब ये दोनों मुद्दे पश्चिम बंगाल के सरकारी स्कूलों में एग्जाम के दौरान भी पूछे जा रहे हैं। 

Advertisement

दरअसल, पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के सरकारी स्कूलों में 10वीं के एग्जाम चल रहे हैं। कोलकाता से करीब 55 किलोमीटर दूर स्थित अकना यूनियन हाईस्कूल में बच्चों को प्रश्न पत्र में ऐसे 2 सवाल मिले, जिन्होंने उन्हें हैरान कर दिया। पहला सवाल था, ‘‘जय श्रीराम के नारे से समाज पर क्या दुष्प्रभाव पड़ रहा है?’’ वहीं, दूसरे सवाल में पूछा गया, ‘‘कट मनी लौटाने से लोगों को क्या फायदा हो रहा है?’’आपको बता दे की कट मनी एक तरह का कमीशन होता है, जो स्थानीय सरकारी परियोजनाओं या कल्याणकारी योजनाओं के लिए मिलने वाली धनराशि में से लाभार्थी को देते समय काट लेते हैं। 

इलके इलावा टीएमसी नेताओं पर किसी सरकारी मंजूरी देने के एवज में भी ‘कट मनी’ लेने के आरोप भी लगे थे जिसके बाद पश्चिमी बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी की मुखिया ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में कट मनी वापस करने या जेल जाने के लिए तैयार होने की चेतावनी दी थी। जिसके बाद इस काट मनी कमीशन को ख़त्म किया गया। वही अब यह 5 अगस्त को हुई परीक्षा में अब यह सवाल आने लगे है जिसमे जय श्री राम नारे से सम्बंधित भी सवाल पूछे गए।  जानकारी के मुताबिक, 10वीं की परीक्षा में स्टूडेंट्स से 2 में से एक टॉपिक पर ‘अखबार के लिए रिपोर्ट’ लिखने को कहा गया। पहला सवाल ‘जय श्रीराम के नारे का समाज पर दुष्प्रभाव’ था और दूसरा सवाल ‘कट मनी के पैसे लौटाकर भ्रष्टाचार रोकने के लिए सरकार का साहसिक कदम’ से संबंधित था।

जानकारों का कहना है कि परीक्षा में यह सवाल पूछने का सीधा मतलब चुनावी रैलियों में बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए जय श्री राम के नारे को लेकर है। बता दें कि इस मामले में जय श्रीराम से सीएम ममता बनर्जी का अभिवादन करने पर भी विवाद हुआ था। इसके बाद सीएम ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी ‘जय हिंद’ और ‘जय बंगला’ के नारे से बीजेपी के नारे का विरोध करेगी। स्कूल के हेडमास्टर ने बताया, ‘‘इस मामले में कोई शिकायत नहीं मिली है, लेकिन हम इस पर एक्शन जरूर लेंगे। हमने इन दोनों सवालों को रद्द करने का फैसला किया है। अगर किसी स्टूडेंट ने इसका जवाब दिया है तो उसे पूरे नंबर दिए जाएंगे। वहीं, यह एग्जाम पेपर तैयार करने वाले बंगाली टीचर ने माफी मांग ली है।’’ 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved