fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

हैकर का दावा: भाजपा ने राजस्थान, छत्तीसगढ़ और MP विधानसभा चुनावों में किया था EVM हैक करने का प्रयास

hacker-syed-shuja-claims-bjp-even-try-to-hack-evm-in-rajasthan-madhya-pradesh-and-chhatisgarh-assembly-election-2018
(Image Credits: The Quint)

अमेरिका में राजनीतिक शरण लिए एक भारतीय हैकर ने सोमवार 21 जनवरी को चौकाने वाले खुलासा किया। उसने बताया कि भारत में 2014 के आम चुनाव में ईवीएम (इलेक्टॉनिक वोटिंग मशीन) के जरिये धांधली की गई थी।

Advertisement

उसका यह दावा है कि ईवीएम को हैक किया जा सकता है। सोशल मीडिया ऐप स्काइपी के जरिये लंदन में एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए शख्स ने दावा किया कि 2014 में वह भारत से पलायन कर गया था। क्योंकि वह अपने टीम के कुछ सदस्य के मारे जाने की घटना के बाद डरा हुआ था।

शख्स की पहचान सैयद शुजा के तौर पर हुई है। हैकर ने यह भी कहा कि भाजपा ने राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कुछ ही महीने पहले हुए विधानसभा चनावों में ईवीएम हैक करने की कोशिश की थी। लेकिन उसकी टीम ने ट्रांसमिशन हैक करने की बीजेपी की कोशिशों को सफल नहीं होने दिया। नतीजतन कांग्रेस चुनाव जीत गई। अन्यथा इस बार भी बीजेपी ही इन तीनों राज्यों से चुनाव जीत जाती।

हैकर ने दावा किया कि टेलिकॉम क्षेत्र की बड़ी कंपनी रिलायंस जियो ने कम फ्रीक्वेंसी के सिग्नल पाने में भाजपा की सहायता करी थी ताकि ईवीएम मशीनों को हैक किया जा सके। उसने बताया कि बीजेपी राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में चुनाव जीत जाती अगर उनकी टीम ने इन तीनो राज्यों में ट्रांसमिशन हैक करने की बीजेपी की कोशिश में दखल नहीं दिया होता।

यह धमाकेदार खुलासा बड़े ही ख़ुफ़िया अंदाज में किया गया, हलांकि इसकी तत्काल पुष्टि नहीं की जा सकी। उन्होंने दावा किया कि वह सार्वजानिक क्षेत्र की इलेक्ट्रॉनिक्स कारपोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड ईसीआईएल की टीम का हिस्सा थे जिसने ईवीएम का डिजाइन तैयार किया था। वह भारतीय पत्रकार संघ यूरोप की अय्यर से आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में शामिल हुए थे। हलाकि वो स्काइपी के जरिये आये और उन्होंने अपना चेहरा नकाब से छुपा रखा था।


भारत के मुख्य निर्वाचन आयोग आयुक्त सुनील अरोड़ा ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। इसके कार्यप्रणाली पर एक विशेषज्ञ समिति की निगरानी है। आयुक्त ने कहा की सिस्टम को लेकर कोई संदेह नहीं होनी चाहिय।

इन्होनें कहा की ईवीएम की पूरी कार्यप्रणाली पर उच्च प्रशिक्षित योग्य तकनीकी समिति नजर रखे हुए है। इससे पूर्व कई राजनीतिक पार्टियां ईवीएम में छेड़छाड़ के आरोप लगा चुकी हैं और मतपत्र से चुनाव कराने की मांग भी कर चुके हैं।

लंदन में कार्यकम्र में सईद शुजा ने दावा किया कि उन्होनें 2009 से 2014 तक ईसीआईएल में काम किया था। शुजा ने कहा कि वह उस टीम का हिस्सा थे जिसे 2014 चुनावों में इस्तेमाल हुए ईवीएम मशीनों का डिजाइन किया था।

उन्होंने कहा कि उन्हें और उनकी टीम को ईसीआईएल से यह पता लगाने का नर्देश मिला था कि क्या ईवीएम मशीनों को हैक किया जा सकता है और इसे किस प्रकार हैक किया जा सकता है। उन्होनें दावा किया, ‘‘2014 के आम चुनाव में धांधली हुई।’’ उन्होंने इसके साथ यह भी आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और दिल्ली चुनाव दौरान भी नतीजों में धांधली हुई।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved