fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

आम्रपाली द्वारा 3000 करोड़ के शेयर बाजार में निवेश करने वाले रुपयों की होगी जाँच

Amrapali

इन दिनों आम्रपाली ग्रुप पर सुप्रीम कोर्ट का शिकंजा पड़ता जा रहा है हाल ही में हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट के फॉरेंसिक आडिटरों को आम्रपाली द्वारा घर खरीदारों के करीब 3000 करोड़ रुपये शेयर बाजार में निवेश करने की जांच करने को कहा है।

Advertisement

आम्रपाली ग्रुप पर यह आरोप लगे थे की उन्होंने अपनी ही सहायक कंपनियों के लिए ये शेयर खरीदे और यह शेयर खरीदारों के पैसे से ही ख़रीदे जाने का आरोप भी आम्रपाली ग्रुप पर लगा है । समूह के सीएमडी अनिल शर्मा और निदेशक शिव प्रिया व अजय कुमार ने कोर्ट को खरीदारों के 1.55 करोड़ रुपये लौटा दिए हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने वित्त वर्ष 2015-16, 16-17 और 2017-18 में कंपनी द्वारा कोर्ट में जमा कराए गए कई खातों की गहनता से जाँच करि और कोर्ट ने जाँच के आधार पर यह पूछा है की उन्होंने किस आधार पर इन वित्त वर्षो के लिए खाते तैयार किये थे। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने फॉरेंसिक ऑडिटरों को उन फ्लैटों की संख्या का पता लगाने को कहा, जो आम्रपाली समूह द्वारा ‘बेनामी’ संपत्ति हैं या जिन्हें दो बार या मामूली कीमत पर बुक किया गया है।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने यह भी आदेश दिए है की जनवरी तक आम्रपाली के ग्रेटर नोएडा स्थित पांच सितारा होटल टेक पार्क का मूल्यांकन किया जाए और जनवरी के अंत तक उसे बेचने का निर्देश दिया। इससे पहले भी पीठ ने कई बड़े फैसले लेते हुए कंपनी के प्रमोटरों की लग्जरी कार और अन्य संपत्ति बेचने का आदेश दिया था।

पीठ ने आम्रपाली के निदेशकों के परिजनों को सब लीज की इजाजत देने पर सवाल उठाया और पूछा कि खरीदारों के 3000 करोड़ रुपये कहां गए। पीठ ने इसके संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर दो फॉरेंसिक ऑडिटर पवन कुमार अग्रवाल और रवि भाटिया का पता लगाने का कहा।


वही पीठ ने ऑडिटरों को यह भी कहा है की आम्रपाली ग्रुप की नौ कंपनियों से संपदा निर्माण के नाम पर 2990 करोड़ से ज्यादा रुपये ले लिए गए और अपनी सहयोगी कंपनियों के लिए शेयर खरीदे गए। आपको पता लगाना है कि ये पैसे कहां गए और कितनी संपत्ति का निर्माण हुआ। इस मामले की अगली सुनवाई 16 जनवरी को होगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved