fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

देश के करीब 37 प्रतिशत स्कूलों में अभी भी बिजली कनेक्शन नहीं दे पाई सरकार : रिपोर्ट में आया सामने

Nearly-37-percent-of-the-schools-in-the-country-still-can-not-afford-electricity-connection:-report
(Image credits: Moneycontrol)

अक्सर गांव गांव में बिजली पहुँचाने का दावा करने वाली मोदी सरकार की एक और विफलता सामने आती दिख रही है। मौजूदा सरकार देश के ज्यादातर हिस्से में बिजली पहुंचने की बात करती है। वहीं दसूरी और एक रिपोर्ट में पाया गया है की, गांव गांव की बात तो छोड़ दीजिय जहां बिजली की सबसे अधिक आवश्यकता होती है, वहां सरकार इसे उपलब्ध कराने में नाकामयाब रही है।

Advertisement

हम बात कर रहे है देश भर में करीब 37 प्रतिशत स्कूलों की जहां अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं दिया गया है। एकीकृत जिला शिक्षा प्रणाली सूचना (यूडीआईएसई) की साल 2017-19 की रिपोर्ट के अनुसार, ‘देश के केवल 63.14 स्कूलों में बिजली मौजूद थी, जबकि बाकी स्कूलों में बिजली नहीं थी.’

वहीं इस मामले में मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का कहना है कि ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना’ के अंतर्गत गांवों/ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पहुंचाई जाती है. ऐसे स्कूल जिन्हें बिजली कनेक्शन की आवश्यकता है, वे राज्य विद्युत युटिलिटी से संपर्क कर सकते हैं और बिजली सेवा कनेक्शन मौजूदा नियमों के तहत राज्य विद्युत युटिलीटी द्वारा लगाया जाता है।

यूडीआईएसई 2017-19 की रिपोर्ट के अनुसार, असम के 24.28 प्रतिशत स्‍कूलों में बिजली है, जबकि मेघालय के 26.34 प्रतिशत, बिहार के 45.82 प्रतिशत, मध्य प्रदेश के 32.85 प्रतिशत, मणिपुर के 42.08 प्रतिशत, ओडिशा के 36.05 प्रतिशत और त्रिपुरा के 31.11 प्रतिशत स्कूलों में बिजली कनेक्शन है.

देखा जाए तो बिजली कटौती मामले में नार्थ ईस्ट के राज्य अधिक है। मौजूदा सरकार इन राज्यों को सभी सुविधाएं देने की बाते तो करती है, परन्तु जब इनको उपलब्ध कराने की बारी आती है तो सरकार द्वारा इसमें ढील दी जाती है। नार्थ ईस्ट राज्यों के मामलो में सरकार का इस प्रकार का रवैया निंदनीय है।


सरकार को सभी राज्यों को समान मानते हुए विकास के कार्यो को अंजाम देना चाहिए। इस रिपोर्ट में एक बात और कही गई है की देश में कुछ ऐसे भी राज्य है जहां बिजली पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है। जिनमे लक्षद्वीप, चंडीगढ़ और दादरा और नगर हवेली के सभी स्कूलों में बिजली है, जबकि दिल्ली में 99.93 प्रतिशत स्कूलों में बिजली उपलब्‍ध है।

अब हम उन गिने चुने राज्यों के नाम बता देते है, जिन राज्यों के स्कूलों में ठीक ठाक बिजली कनेक्शन होने की खबरे है। इन राज्यों में आंध्रप्रदेश में 92.8 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में 70.38 प्रतिशत, गोवा में 99.54 प्रतिशत, गुजरात में 99.91 प्रतिशत, हरियाणा में 97.52 प्रतिशत, हिमाचल प्रदेश में 92.09 प्रतिशत और केरल में 96.91 प्रतिशत बिजली कनेक्शन शामिल है।

रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र में 85.83 प्रतिशत स्कूलों में बिजली कनेक्शन है जबकि झारखंड में 47.46 प्रतिशत, जम्मू कश्मीर में 36.63 प्रतिशत, पुदुचेरी में 99.86 प्रतिशत, पंजाब में 99.55 प्रतिशत, राजस्थान में 64.02 प्रतिशत, तमिलनाडु में 99.55 प्रतिशत, तेलंगाना में 89.89 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 44.76 प्रतिशत, उत्तराखंड में 75.28 प्रतिशत और पश्चिम बंगाल में 85.59 प्रतिशत स्कूलों में बिजली कनेक्शन है.

मौजूदा सरकार को सर्वप्रथम देश के सभी स्कूलों में 100 प्रतिशत बिजली कनेक्शन होने के बारे में विचार करना चाहिए। परन्तु ऐसा लगता है की बिजली पहुंचाने वाली बात भी सरकार द्वारा किये गए अन्य वादों की तरह ही जुमले की तरह शाबित हो रहे हैं। जो की उचित नहीं है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved