fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

PM मोदी ने करी कई तेल एवं गैस कंपनियों के सीईओ से बातचीत, दिए कई सुझाव

pm-modi-on-petrol

भारत में बढ़ते पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से जनता सरकार से काफी नाखुश नज़र आ रही है। गिरता रुपया और बढ़ती तेल की कीमत अब सरकार का भी सिरदर्द बन गई ही। केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दामों में छूट भी करी वित्त मंत्री अरुण जेटली ने यह घोषणा की सरकार की तरफ से जनता को पांच रुपये सस्ता पेट्रोल मिलेगा पर अब यह छूट समाप्त हो चुकी है, फिर तेल के दाम लगातार बढ़ रहे है। केंद्र सरकार ने यह ऐलान किया था की केंद्र पेट्रोल-डीजल के दामों में ढाई रुपये कम करेगी और ढाई रुपये रुपये राज्य सरकार को कम करने पड़ेंगे। पेट्रोल-डीजल कीमतों में पांच रुपयों की कमी भी आई पर यह ऑफर तो सीमित समय के लिए ही था।

Advertisement

प्रधानमत्री मोदी भी तेल की बढ़ती कीमती को देखते हुए सोमवार को उन्होंने कई बड़ी ऑयल कंपनियों के सीईओ के साथ तेल कीमतों के मुद्दे पर बैठक की थी फिर भी तेल की कीमतों में निरंतर बढ़ोतरी होती जा रही है।

मंगलवार को राजधानी दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 11 पैसे और डीजल के दाम में 23 पैसे की बढ़ोतरी हुई. इसके साथ ही राजधानी में पेट्रोल-डीजल के दाम क्रमश: 82.83 प्रति लीटर, 75.69 प्रति लीटर हो गए हैं वही भारत के कई महानगरों में तेज़ की कीमत फिर असम छू रही है।

DELHI

Petrol: 82.83


Diesel: 75.69

KOLKATA

Petrol: 84.65

Diesel: 77.54

MUMBAI

Petrol: 88.29

Diesel: 79.35

CHENNAI

Petrol: 86.10

Diesel: 80.04

भारतीय रुपए की निरंतर गिरावट से कच्चे तेल की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई है। 15 अक्टूबर को कच्चे तेल के अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतों में काफी उछाल आया जिससे कीमते फिर बढ़ी है। मोदी ने तेल उत्पादकों और उपभोक्ता देशों के बीच भागीदारी के संबंध पर जोर दिया है ताकि वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में मदद मिल सके।

modi-saudi-meet

प्रधानमंत्री मोदी ने तेल उत्पादक देशों से यह अपील भी करी है की वे अपने निवेश योग्य अधिशेष को विकासशील देशों के तेल क्षेत्र में वाणिज्यिक लाभ के लिए लगायें। यह सुझाव मोदी द्वारा देशी-विदेशी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ हुए बैठक में कही गयी।

वही पीएमओ के बायान में कहा गया है, ‘‘हालांकि, बाजार में उत्पादन पर्याप्त मात्रा में हो रहा है, लेकिन तेल क्षेत्र में विपणन के विशेष तौर तरीकों से तेल के दाम चढ़ गए हैं। प्रधानमंत्री ने दूसरे बाजारों की तरह कच्चे तेल के बाजार में उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच मजबूत भागीदारी स्थापित किए जाने पर जोर दिया है। इससे नरमी से उबर रही वैश्विक अर्थव्यवस्था में स्थिरता आयेगी।’’

इस पूरी बैठक में सउदी अरब और यूएई के मंत्री तथा आरामको, एडीएनओसी, बीपी, रास्नेफ्ट, आईएचएस मार्किट, पायनीयर नेचुरल रिसोर्सिज कंपनी, एतसन इलेक्ट्रिक कंपनी, टेलूरियन मुबाडला इन्वेस्टमेंट कंपनी सहित तेल खेत्र की कई कंपनियों के सीईओ और विशेषज्ञ शामिल हुये।

इनके अलावा वित्त मंत्री अरुण जेटली, पेट्रलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार और सरकार तथा नीति आयोग के कई वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved