fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

राज ठाकरे: यदि एनएसए डोभाल से पूछताछ की जाती है तो पुलवामा आतंकी हमले की सच्चाई सामने आ जाएगी

Raj-Thackeray:-If-the-NSA-Doval-is-questioned,-the-truth-of-the-Pulwama-terrorist-attack-will-be-revealed.
(Image Credits: The Financial Express)

महाराष्ट्र ननवनिर्माण सेना (मनसे) MNS प्रमुख राज ठाकरे बीजेपी सरकार के खिलाफ बयानबाजी करने के लिए जाने जाते हैं। कभी वो सरकार पर राफेल के मुद्दे को लेकर तो कभी कालेधन को लेकर बयान देते रहते हैं। इसी प्रकार उन्होंने इस बार भी मोदी सरकार पर निशाना साधा है, परन्तु इस बार उन्हने सरकार के साथ साथ NSA Chief अजीत डोवाल को लेकर एक गंभीर बयान दिया है।

Advertisement

हाल ही में जम्मू कश्मीर में CRPF जवानो के काफिले के साथ एक बड़ी घटना घटित हुई। जिसके कारण जवानों के परिवारवालों के साथ देश के लोगो को भी इससे भारी सदमा लगा। वहीं विपक्ष पार्टियों ने सरकार को इस मुद्दे को लेकर प्र्श्न भी उठाये हैं। इसी प्रकार मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने भी सरकार और अजित डोवाल पर प्रश्न उठाये हैं।

MNS प्रमुख ठाकरे ने महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले में कहा, ‘‘यदि एनएसए डोभाल से पूछताछ की जाती है तो पुलवामा आतंकी हमले की सच्चाई सामने आ जाएगी। ऐसा कहकर उन्होने जम्मू कश्मीर में हुए आतंकी हमले को लेकर डोभाल पर गंभीर आरोप लगाए है।

प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए ठाकरे ने कहा जिस दौरान जम्मू कश्मीर में वह घटना घटित हो रही थी , उस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिम कॉरबेट नेशनल पार्क में एक फिल्म की शूटिंग करने में व्यस्त थे। आतंकी हमले की खबरें मिलने के बाद भी उन्होंने शूटिंग जारी रखी। लेकिन यह भी कहा जा रहा है की उन्हें इसकी खबर देर से मिली थी। परन्तु वास्त्व में सचाई क्या है इसपर कुछ कहा नहीं जा सकता है।

मनसे प्रमुख ने कहा कि आतंकी हमले में शहीद हुए 40 जवानों को मोदी सरकार द्वारा राजनीतिक शिकार बनाया जा रहा है। वैसे तो अधिकतर सरकार ने भी इस तरह की चीजें गढ़ीं हैं , लेकिन मोदी के शासन में यह अक्सर होता देखा जा रहा है। वहीं इसपर भाजपा प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा, ‘‘राज ठाकरे अपने पूरे करियर में नकल उतारते रहे हैं। अब वह डोवाल के खिलाफ आरोप लगा कर राहुल गांधी का अनुकरण रहे हैं।’’


यह पहली बार नहीं है जब राज ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार पर निशाना साधा हो इससे पहले भी मनसें की तरफ से केंद्र सरकार और राज्य सरकार पर कई बार हमला किया गया है, हाल हीं में शिवसेना और बीजेपी के गठबंधन पर भी मनसें ने पोस्टर वॉर कर शिवसेना और बीजेपी पर निशाना साधा था।

जम्मूकश्मीर में हुई इस घटना से कुछ बातें तो सामने आती है, की कहीं न कहीं सरकार द्वारा इसमें सुरक्षा स्तर बड़ी चूक दिखाई गई है। राज ठाकरे द्वारा अजित डोवाल को सवाल के कटघेरे में खड़ा करने से एक बात तो शाबित हो जाती है। की जो हमे समान्य लग रहा है, वास्तव सामान्य नहीं है। आखिर क्यों सिक्योरिटी एजेंसी से इस हमले के बारे में पहले ही जानकरी मिलने के बाद भी ये घटना घटित हो जाती है। आखिर किस स्तर पर चूक हुई या की गई। मोदी सरकार द्वारा इन सभी सवालों के जवाब देने चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved