fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

शहीदों के परिवारों की मदद के लिए आगे आए देशवासी

The-countrymen-who-came-forward-to-help-the-martyr-families

पुलवामा हमले के बाद देश काफी गमगीन हो गया था। शायद इस हमले को भुला पाना किसी के लिए आसान नहीं है। इस आतंकी हमले को लेकर काफी राजनीति भी हुई। पर इन सबसे अलग देशवासियों ने शहीद हुए सेनाओ को दिल से श्रद्धांजलि दी और मदद के लिए अपने अनुसार आर्थिक सहायता भी दी। यहाँ तक की अभी भी लोग शहीद सैनिको के लिए लोग हाथ आगे बढ़ा रहे है।

Advertisement

भले ही कांग्रेस सरकार कार्यवाही को लेकर सवाल खड़े कर रही हो पर लोग शहीदों के परिवार वालो की मदद करने से पीछे नहीं हट रहे। चाहे सरकार कितनी ही राजनीति क्यों ना करे पर इस राजनीति से हटकर लोगो की बड़ी भावनाये है जो शहीदों के परिवारों के साथ जुडी है। अर्द्ध सैनिक बलों के शहीद जवानों के परिवारवालों की मदद के लिए बने ‘भारत के वीर’ से जुड़े बैंक खातों में लोग करोड़ों रुपए की मदद कर रहे है।

पिछले महीने 14 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद अब तक आम देशवासियों ने शहीद जवानों के परिजनों के खातों में 80 करोड़ रुपये दान दिए है जबकि इससे पहले पिछले करीब दो सालों में महज 20 करोड़ रुपये की मदद आम लोगों ने की थी।

इसी बात से यह पता चलता है की इस समय लोगो के दिलो में किस प्रकार जवानो के लिए हमदर्दी है। जो देश की जान की रक्षा करने के लिए सरहद पर शहीद हो जाते है उनके परिवार वालो के साथ पुरे देशवासी खड़े है।

भारत के वीर’ से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक,” आम देशवासी जिस तरह हमारे शहीद जवानों के परिवार की मदद कर रहे है वो क़ाबिले तारीफ है और ऐसे परिवार जिन्होंने अपनों को खोया है उनको ये लग रहा है कि वो अकेले नही है बल्कि पूरा देश उनके साथ है।


जब भी ‘भारत के वीर’ से जुड़े किसी भी शहीद परिवार के खाते में 15 लाख रुपये जमा होते है तो अपने आप ऐसे जवानों से जुड़े खाते लिस्ट से हटा दिए जाते है जिससे उन जवानों के परिवार से जुड़े खातों में पैसे ट्रांसफर हो सके जिन्हें 15 लाख रुपये तक कि मदद नही मिली है।

पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे और इस आतंकी हमले से जहां लोंगो में पकिस्तान को लेकर बेहद गुस्सा है वहीं लोग हमारे जवानों के लिए हर संभव मदद करना चाहते है। देश के लोगो के उत्साह का अंदाज़ा इसी बात से लगा सकते है कि CRPF के ट्वीटर एकाउंट के फ़ॉलोअर्स की संख्या पुलवामा हमले से पहले जहां दो लाख पचहत्तर हज़ार थी वो पुलवामा हमले के बाद बढ़कर अब चार लाख पच्चीस हजार हो गयी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved