fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

फडणवीस सरकार हुई बाबा रामदेव पर मेहरबान, आधे रेट पर 400 एकड़ जमीन का दिया ऑफर

The-Fadnavis-government-complaisant-on-Baba-Ramdev,-offering-400-acres-of-land-at-a-half-rate
(image credits: Jammu Links News)

मौजूदा सरकार द्वारा अक्सर पूंजीपतियों और उनके करीबियों को फायदा पहुँचाने की कोशिश की जाती है। विपक्ष भी इसको लेकर बीजेपी पर अक्सर निशाना साधता रहता है। हाल ही में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने कुछ महीनो पहले मोदी सरकार पर राफेल मामले में अनिल अम्बानी को फायदा पहुँचाने के आरोप लगाए थे। कुछ इसी प्रकार एक बार फिर बीजेपी द्वारा उनके करीब माने जाने वाले योग गुरु बाबा रामदेव को सस्ते दामों में जमीन उपलब्ध कराने का मामला सामने आ रहा है।

Advertisement

दरअसल महाराष्ट्र में फणडवीस सरकार बाबा रामदेव पर मेहबान होते दिख रहे है। बेंगलुरु मिरर में छपी एक खबर के मुताबिक प्रदेश सरकार ने पंतजलि को अब लातूर में सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के लिए मौजूदा बाजार की कीमत से आधी कीमत (पचास फीसदी की छूट) पर 400 एकड़ जमीन मुहैया कराने का प्रस्ताव दिया। इसमें कई अन्य छूट भी शामिल हैं। यह जमीन मूल रूप से बीएचईएल के संयंत्र के लिए आरक्षित थी।

इस प्रस्ताव की पेशकश स्वयं राज्य के मुख्यमंत्री फडणवीस ने योगगुरु बाबा रामदेव को एक पत्र लिखकर की है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक 26 जून को लिखे पत्र में सीएम ने योग गुरु को मराठवाड़ा क्षेत्र के इस जिले के औसा गांव में एमएसएमई इकाई स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया है। पत्र में कुछ इस प्रकार कहा गया है, एमएसएमई परियोजना के लिए आप स्टांप शुल्क में 100 फीसदी की छूट ले सकते हैं, इसके साथ ही एक तय समय तक बिजली के शुल्क में भी राहत दी जाएगी।’

ऐसा पहली बार नहीं हो रहा जब महारष्ट्र सरकार योग गुरु पर इतनी मेहरबानी दिखा रही हो, मालूम हो की इससे पूर्व राज्य सरकार ने नागपुर में योग गुरु बाबा रामदेव की पतंजलि फूड और हर्बल पार्क के लिए बहुत कम कीमत पर 230 एकड़ जमीन मुहैया कराई थी। यहां एक बात और है की पतंजलि को जमीन दिए जाने बाद भी अभी तक फूड पार्क मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू होने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं।

इस सम्बन्ध में जानकारी रखने वाले सूत्रों ने पुष्टि करी है की, करीब 400 एकड़ जमीन जो पहले जिले में भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) के संयंत्र के लिए आरक्षित की गई थी अब वह जमीन पतंजलि प्रोडक्ट्स को सौंपी जाने वाली है। किसानो की जमीन अधिग्रहण करने के बाद बाबा रामदेव ने किसानो को नौकरी देने का वादा किया है, परन्तु किसान उनके वादे को लेकर आश्वस्त नहीं दिखाई दे रहे है।


राज्य सरकार द्वारा पतंजलि प्रोडक्ट्स को आधे से भी कम दामों में जमीन सौप देना उचित नहीं है। वो भी तब जब किसान भी बाब रामदेव द्वारा जमीन के बदले में दिए जाने वाले नौकरी को लेकर संतुस्ट नहीं दिख रहे है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved