fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

उत्तर प्रदेश : जय श्री राम नारा लगाते हुए आये, हॉकी से पादरियों पर किया हमला, महिलाओं के कपड़े भी फाड़े, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के लोगो पर शक

Vishva Hindu Prishad
Representational Image (Image Credits: Amar Ujala)

उत्तर प्रदेश में कुछ पादरियों को धर्मांतरण कराने पर पीटने का मामला सामने आया है। पुलिस ने ५ से 7 पादरियों पर मुक़दमा दर्ज कर लिया है। इन समुदाय पर धार्मिक आधार पर कटुता पैदा करने का आरोप लगा है। जिन लोगों पर पादरियों को पीटने का आरोप है उन पर मुकदमा दर्ज करने में 24 घंटे से ज्यादा समय लग गया।

Advertisement

इस मामले में पिटाई के शिकार हुए एक पादरी ने 8 लोगों पर नामजद और 15 अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज करवाया है। इन लोगों में से कुछ लोगों के सम्बन्ध विश्व हिंदू परिषद (विहिप) से जुड़े होने का शक है।

पादरी रवि कुमार ने आरोप लगाया है की मंगलवार को आगरा के एक होटल में मीटिंग आयोजित की गई। इसी मीटिंग के बीच में 10 से 15 लोग जय श्री राम’ के नारे लगाते हुए अंदर घुस गए। पादरी के शिकायत के अनुसार इन लोगों द्वारा पादरियों को हॉकी स्टिक से पीटा गया। और इसके आलावा मीटिंग में महिलाओं के साथ बदसुलूकी की गई उनके कपडे फाड़ दिए गए और उनको बालों से पकड़कर घसीटा गया।

वहीँ दूसरी ओर ताजगंज पुलिस का कहना है की वह होटल में चल रहे धर्मांतरण के आरोपों की जाँच कर रहें हैं। विभिन्न दक्षिणपंथी समूहों’ के आरोपियों के फरार होने के कारण उनके खिलाफ अभी तक जांच शुरू नहीं की गई है। विश्व हिन्दू परिषद् के पदाधिकारी ने कहा की जब हालात ‘हाथ से बाहर’ हो गए तो उन्होनें कार्यक्रम में दो अधिकारियों को रिकॉर्डिंग करने के लिए वहां भेजा।

पादरी द्वारा इस मामले में शिकायत पर देर से केस दर्ज होने के विषय में ताजगंज के एसएचओ विनोद कुमार ने द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ‘पादरियों के खिलाफ लगे आरोप कोई बड़ी बात नहीं है। इसके अलावा, कार्यक्रम में बाधा पहुंचाने वाले आरोपियों के खिलाफ ज्यादा धाराओं में एफआईआर हुई है। पादरी मुकदमा दर्ज कराने में डर रहे थे, इसलिए वे अगले दिन पुलिस स्टेशन आए। मैंने पादरियों को जमानत भी दे दी। अगर उन्होंने कोई धार्मिक कार्यक्रम रखा था तो उन्हें पुलिस को सूचना देनी चाहिए थी। ऐसी स्थिति में हम उनकी सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मियों को तैनात कर सकते थे।’


निजी मुचलकों पर बाहर हुए पादरियों ने इस मामलों पर कहा कि इस कार्यक्रम का आयोजन यूपी फैमिली चर्च के बैनर तले मीटिंग का किया गया था। पादरियों ने कहा कि वो क्रिसमस के आयोजन की रूपरेखा के लिए यहाँ एकत्रित हुए थे। कुमार के अनुसार विभिन्न चर्चों के पादरियों के अलावा 100 से ज्यादा लोग होटल समोवर में हुए इस कार्यक्रम के लिए होटल में आये थे। केरल से आये कुछ पादरी भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

कुमार के FIR के मुताबिक़ ‘शाम साढ़े 4 बजे के करीब हॉकियों से लैस 20 से ज्यादा लोग बेसमेंट में पहुंचे जहां कार्यक्रम हो रहा था। वे जय श्री राम के नारे लगा रहे थे और उन्होंने गालीगलौच भी की। तीन महिलाओं के साथ छेड़खानी भी हुई। यहां तक कि उनके कपड़े फाड़ डाले गए।’

पादरियों के खिलाफ दर्ज मुकदमे के अनुसार ‘हमने होटल समोवर में सत्संग होने के बारे में सुना और हम वहां गए। सत्संग में उन्होंने ईसाई धर्म की तारीफ की जबकि हिंदू धर्म का अनादर किया। उन्होंने हिंदू धर्म के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया, जिससे हमारी धार्मिक भावनाएं आहत हुईं।’ मुकदमे में लड़ाई की कोई बात नहीं कही गयी है।

इसमें जिक्र किया गया है कि, शिकायतकर्ता और कुछ लोगों ने ‘उनकी धार्मिक भावनाएं आहत करने वाले कुछ लोगों को’ पुलिस स्टेशन ले आए। दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि, हमें होटल से जानकारी मिली है कि जहां कार्यक्रम हो रहा था, वहां कोई भी सीसीटीवी नहीं लगा हुआ था।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved