fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
विमर्श

औरत मासिक चक्र के समय अपवित्र कैसे हो जाती है?

औरत मासिक चक्र के समय अपवित्र कैसे हो जाती है? जरा मुझे भी समझाना। तुम कहते हो कि उन 5 दिनों में ना तो वह पूजा पाठ का सामान छुए, ना तो किसी मंदिर में जाकर आराधना उपासना करें और ना ही नमाज़ पढ़े। हिंदू घरों में तो और भी बुरी दुर्गति होती है इन 5 दिनों में किसी छुआ छूत द्वारा फैलने वाले रोग की तरह से व्यवहार किया जाता है।

Advertisement

यह लोग कैसे भूल जाते हैं कि जिस दिन से मां के गर्भ में रोपित होते हैं उसी दिन से माहवारी बंद हो जाती है और इसी माहवारी के तरल द्रव्य में तुम जीवनदाई पोषक तत्वों से खुद के वजूद को गतिमान करते हो। फिर 9 महीने बाद तुम उसी रक्त से सने हुए इस दुनिया में तुम्हारा आगमन होता है। जब तुम्हारा वजूद ही उस रक्त की वजह से है तो तुम तो अपवित्र नहीं हुए??

पढ़ेंः स्त्री को देवी मानकर पूजते हैं और गाली उसी देवी के अंगों की देते हैं

उसी रक्त की वजह से तुम आज एक पुरुष बनकर समाज में औरतों पर अपवित्र होने के लिए उंगली उठा रहे हो और उसे इस बात के लिए शर्मिंदा करते रहते हो। क्यों भूल जाते हो कि वही रक्त तुम्हारी धमनियों में प्रवाहित है। इस बात को क्यों नहीं समझते कि जिस प्रकार सर्दी होने से तुम्हारी नाक बहती है वैसे ही यह एक मासिक चक्र है जो प्रकृति द्वारा स्त्रियों को प्रदान किया गया है इसमें अपवित्र जैसा क्या है?

https://youtu.be/XiQEIO3KNEo

जब वह घर के सारे काम कर सकती है, उसके रहते तुम उसके साथ सेक्स कर सकते हो तब अपवित्र नहीं होते? और जब पूजा करने की बारी आती है तो अचानक वह अपवित्र हो जाती है। जबकि रात में डुबकी लगाने के बाद भी तुम अपवित्र नहीं होते। क्यों???


– ये लेखिका के निजी विचार हैं।

 

ये भी पढ़ेंः आपके आस-पास बहुत से मानसिक रोगी हैं, ये रहा पहचानने का तरीका

ये भी पढ़ेंः भीड़ क्या होती है और ये कैसे काम करती है? कुछ चौकाने वाले खुलासे…

ये भी पढ़ेंः ..वो तुम नीच नामर्द ही होते हो, जो उस रंडी के दरबार में स्वर्ग तलाशने जाते हो

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved