fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

मुस्लिम युवक पर बीजेपी नेता ने लगाया लड़की को फुसलाने का आरोप, मौजूद भीड़ के समक्ष लगवाई उठक बैठक

bj-leader-put-allegation-of-eve-teasing-on-youth,-punishes-him in-front-of-crowd
(Image Credits: Times of India)

सोशल मीडिया पर उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ का एक वीडियो वायरल हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह कहा जा रहा है की यह वीडियो एक अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े एक व्यक्ति का है। वीडियो में एक मुस्लिम युवक को देखा गया है, और उसके सामने एक महिला भी है। वह महिला उस युवक से उठक-बैठक लगवा रही है। वायरल हो रहे वीडियो में वह महिला अलीगढ़ की पूर्व मेयर बीजेपी नेता शकुंतला भारती है।

Advertisement

वीडियो के मताबिक बीजेपी नेता ने मुस्लिम युवक को कथित रूप से कलावा (हिंदू धर्म में पहना जाने वाला पवित्र धागा) पहनने की वजह से सजा दी। बीजेपी नेता ने युवक पर आरोप लगाया है कि वह क्षेत्र की लड़कियों को फुसलाने की कोशिश कर रहा था।

इस पर युवक का कहना कहा है की उसने हाथ में जो लाल धागा पहना था वो अजमेर शरीफ दरगाह से लिया था। बीजेपी नेता शकुंतला भारती ने मुस्लिम युवक से उसके घर के पते के बारे में पुछा और उससे कहा क्या उसका कोई रिश्तेदार यहाँ रहता है। बीजेपी नेता ने कहा, ’तुम यहां क्यों आते हो? क्या यहां तुम्हारी बहन रहती है?’ इसके बाद शकुंतला भारती ने युवक से कान पकड़ने के लिए कहा। उन्होंने युवक से पूछा, ‘क्या तुम अल्पसंख्यक लड़कियों को भी उनके घर से दूर भगाकर ले जाते हो?’ इस घटना के दौरान दोनों के आसपास खासी भीड़ मौजूद थी।

बीजेपी नेता द्वारा अल्पसंख्यक समुदाय के लड़के के साथ इस प्रकार का व्यवहार करना उचित नहीं है। इसके साथ ही मुस्लिम युवक से उनके समुदाय की लड़कियों को लेकर इस प्रकार की बयानबाजी करना भी ठीक नहीं लगता। बीजेपी नेता के इस प्रकार की हरकत से पता चलता है की उनकी मानस्किता कितनी हद तक सिमटी हुई है।

युवक ने कलावा पहना है या नहीं इससे बीजेपी नेता को कोई मतलब ही नहीं होना चाहिए। कलावा पहनना न पहनना उसकी पसंद हो सकती है। भारत के संविधान के अनुसार हरेक नागरिक को धार्मिक स्वतंत्रता मिली हुई है। संविधान यह हक किसी को नहीं देता की कोई किसी की धार्मिक स्वतंत्रता के साथ छेड़छाड़ करे।


यह अक्सर देखा जाता है बीजेपी नेता अक्सर यह दिखाने की कोशिश करते है, जैसे की इनसे बड़ा हिंदुत्व कोई है ही नहीं। फिर जब देश के कुछ लोगो द्वारा इन पर समाज को बाटने का आरोप लगता है तो इन्हे यह बात नगवार लगती है। देश में इस प्रकार के लोगो के कारण ही समाज में एक संतुलित सोच का बन पाना मुश्किल हो जाता है।

यह पहली दफे नहीं है जब बीजेपी नेता शकुंतला भारती ने किसी खास समुदाय के प्रति इस प्रकार का रव्वैया दिखाया है। पहले भी वह 2016 में उस वक्त सुर्खियों में आई थीं जब दो समुदायों के बीच छेड़छाड़ की एक घटना के बाद विवाद हो गया था। इस घटना के बाद अलीगढ़ के बाबरी मंडी इलाके में रहने वाले 10 हिंदू परिवारों ने अपनी संपत्तियां बेचने के लिए कलेक्टर की अनुमति मांगी थी। इस घटना के कारण बीजेपी नेता भारती ने मुस्लिम समुदाय पर आरोप लगाया था की, अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े लोगों की वजह से क्षेत्र में लोगों का रहना मुश्किल हो गया है।

बता दें की देश में लवजिहाद से मचे बवाल के कारण भी उत्तर प्रदेश में इस प्रकार के कारनामे देखने को मिले है। ज्यादातर ऐसे मामलो के लिए अलीगढ़ को उत्तर प्रदेश के संवेदनशील इलाकों में शुमार किया जाता है। मामला लव जिहाद का है या कुछ और यह तो जाँच होगी तब ही पता चल पाएगा।

बीजेपी नेता द्वारा सरेआम लोगो के सामने युवक से इस प्रकार का व्यवहार करना युवक के आत्म सम्मान के खिलाफ है। बीजेपी नेता शकुंतला भारती को यह पता होना चाहिए की बिना कुछ जाने ही युवक पर इस प्रकार का आरोप लगाना उचित नहीं होगा। उनकी ऐसी हरकत से युवक के चरित्र पर भी गहरा प्रभाव पड़ सकता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved