fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

BJP के स्वास्थ्य मंत्री ने माना, भारत में 57.3% मेडिकल की प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर झोलाछाप

BJP-Health-Minister-admitted,-57.3%-of-medical-doctors-practicing-in-india-are-fraud
(image credits: hwnews)

आज कल डॉक्टरों की एजुकेशन और उनके द्वारा किये जाने वाले इलाज को लेकर काफी सवाल उठाये जा रहे है। ऐसे में एक सर्वे के दौरान बड़ी खबर सामने आई है की कई ऐसे डॉक्टर है जो झोलाछाप है। जिनके पास न ही कोई सर्टिफिकेट है न ही कोई तजुर्बा। ऐसे में बीजेपी के मंत्री का डॉक्टरों के पक्ष में किया गया दावा गलत साबित हुआ। माना जा रहा है की अधिकतर एलोपैथ की प्रेक्टिस करने वाले डॉक्टर झोलाछाप है।

Advertisement

देश के अधिकांश एलोपैथ की प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर झोलाछाप हैं। इस बात की जानकारी 6 अगस्त को प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो के जरिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने दी। राष्ट्रीय मेडिकल आयोग विधयेक पर पूछे जाने वाले सवालों पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने वाले डॉक्टरों की उपलब्धता में काफी अंतर है।

ऐसे में ग्रामीण भारत की अधिकांश आबादी झोलाछाप डॉक्टरों के चंगुल में है। देश में एलोपैथी की प्रैक्टिस करने वाले 57.3 फीसदी डॉक्टरों के पास कोई योग्यता ही नहीं है। दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि WHO की 2016 की एक रिपोर्ट में बताया गया कि भारत में काम करने वाले 57.3% मेडिकल की प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर झोलाछाप हैं और उनके पास कोई मेडिकल से संबंधित डिग्री नहीं है।

गौरतलब है कि कुछ समय पहले ही तत्कालीन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने इस रिपोर्ट को बकवास करार दिया था। उन्होंने 2018 में लोकसभा में रिपोर्ट को गलत करार दिया था। लेकिन, अब इस डाटा पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने पलटी मारते हुए आधिकारिक रजामंदी दे दी है।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 57.3 फीसदी डॉक्टरों के पास मेडिकल से संबंधित को भी शैक्षणिक योग्यता नहीं है। WHO ने 2001 की जनगणना के आधार पर अपनी रिपोर्ट में बताया है कि ग्रामीण इलाकों में 20 फीसदी बिना डिग्री वाले डॉक्टर लोगों का इलाज कर रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह भी बताया कि करीब 31% झोलाछाप डॉक्टर ऐसे हैं जिन्होंने सिर्फ 12वीं कक्षा तक ही पढ़ाई की है।


अब स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ग्रामीण और शहरी इलाकों में डॉक्टरों को लेकर काफी मतभेद वाली स्थिति है। ग्रामीण इलाकों और गरीब आबादी के बीच बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मौजूद नहीं हैं। ऐसे में झोलाझाप डॉक्टरों की भरमार है।

इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कोई बड़ा कदम तो नहीं उठाया परन्तु यह मान लिया है की देश में झोलाछाप डॉक्टरों की कमी नहीं है। देखना यह है की स्वास्थ्य मंत्रालय इस मामले को लेकर किस प्रकार की कार्यवाही करता है या फिर लोगो की जन्दगी झोलाछाप डॉक्टरों के हाथो में छोड़ी दिया जायेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved