fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में सरकारी इंटर कॉलेज में दलित समुदायों के छात्रों के साथ कथित तौर पर भेदभाव

Discrimination-with-students-of-Dalit-communities-in-Government-Inter-College-in-Azamgarh,-Uttar-Pradesh
Representational Image (Image Credits: The Indian Express)

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में सरकारी इंटर कॉलेज में दलित समुदायों के छात्रों के साथ कथित तौर पर भेदभाव का मामला सामने आया है। जिला प्रशासन ने गुरुवार को इस आरोप में सरकारी बोर्डिंग गर्ल्स कॉलेज की प्रिंसिपल के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं।

Advertisement

दलित छात्रों के साथ हुए दुर्व्यवहार को लेकर गुरुवार को भीम आर्मी के प्रतिनिधियों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था। मेहनगर के गौर गांव में समाज कल्याण विभाग की तरफ से चलाये जा रहे राजकीय आश्रम पद्धति बालिका इंटर कॉलेज में लड़कियों के लिए हॉस्टल बनाया गया है।

SDM ने बताया कि नौवीं कक्षा की छात्राओं के बीच बुधवार को किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ। जिसके बाद वे दोनों अपनी शिकायत लेकर प्रिंसिपल रागिनी सिंह के पास गईं। उन दोनों में से एक छात्र दलित समुदाय की थी। छात्रा ने प्रिंसिपल पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रिंसिपल ने उसके साथ बुरा व्यवहार किया गया। यही नहीं छात्रा ने अपना पक्ष नहीं सुने जाने का भी आरोप लगाया।

इस घटना के बाद पांच दलित छात्रों ने SDM को पत्र लिखकर बताया कि स्कूल में उनके साथ भेदभाव वह दूर्व व्यवहार किया जाता है। सुबह प्रार्थना सभा में भी दलित छात्राओं आखिरी पंक्ति में खड़ा करवाया जाता है और क्लास में पीछे बैठने को कहा जाता है। दलित छात्रों के साथ स्कूल में हर दिन भेदभाव किया जाता है।

भीम आर्मी के प्रवक्ता मंजीत सिंह नौटियाल ने बताया कि हमने गुरुवार को स्कूल में अपनी टीम भेजी थी जहां हमने देखा कि दलित छात्रों को स्कूल में नियमित पढ़ाई से दूर रखा जाता है। उनके साथ भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया जाता है। नौटियाल ने बताया कि वे अपनी रिपोर्ट जिला प्रशासन को सौंपेंगे और अगर जिला प्रशासन कार्रवाई नहीं करता है तो आंदोलन किया जाएगा।


समाज कल्याण विभाग के उपनिदेशक सुरेश चंद्र पाल ने कहा कि यदि प्रिंसिपल पर लगे आरोप सही साबित होते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बताया जा रहा है की स्कूल में 303 छात्र हैं जिनमें से 183 दलित समुदाय के हैं। जबकि 87 ओबीसी, 33 सामान्य श्रेणी के हैं। पाल ने बताया कि यह एक आवासीय स्कूल है जिसमें पिछड़े वर्ग के समुदाय के लिए आरक्षण दिया गया है।

इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक लिखित शिकायत में दलित छात्रों ने उनके साथ समान व्यवहार करने और प्रिंसिपल के निलंबन की मांग की है। प्रिंसिपल पर आरोप लगाते हुए छात्रों ने कहा, ‘वह न केवल हमारे साथ बुरा व्यवहार करती हैं बल्कि हमारे माता-पिता के लिए भी अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करती हैं। उन्हें जातिसूचक शब्दों से संबोधित करती हैं। प्रिंसिपल कार्यालय से डॉ बीआर अंबेडकर की तस्वीर को भी हटा दिया गया है। यही नहीं धमकी भी मिली है कि अगर स्कूल प्रशासन के खिलाफ कुछ भी कहा तो अच्छा नहीं होगा।’ हालांकि इस पूरे मामले पर से स्कूल प्रिंसिपल कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

छात्राओं ने बताया की उनको खाना भी ढंग से नहीं दिया जाता जहा ऊँची जाति के बच्चो को नास्ते में नमकीन बिस्कुट दिया जाता है वही दलित बच्चो को लाई वह सूखा मुरमुरा पकड़ा दिया जाता है। बाबा साहेब की तस्वीर को स्कूल से हटा कर बाबा साहेब के लिए भी अभद्र बात कही गई यह सभी बाते छात्राओं ने बताई है।

इस पुरे मामले को देखते हुए मेहनगर के SDM दुष्यंत कुमार मौर्य ने कहा है की , ‘हम मामले की जांच कर रहे हैं और यदि प्रिंसिपल दोषी पाई गईं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।’

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved